लाइव टीवी

अरुण जेटली का ब्लॉग : जस्टिस लोया की मौत प्राकृतिक थी, विपक्ष ने लगाए मनगढ़ंत आरोप

News18Hindi
Updated: January 17, 2019, 3:18 PM IST
अरुण जेटली का ब्लॉग : जस्टिस लोया की मौत प्राकृतिक थी, विपक्ष ने लगाए मनगढ़ंत आरोप
अरुण जेटली

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 17, 2019, 3:18 PM IST
  • Share this:
केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कई अहम मुद्दों पर विपक्ष पर बड़ा हमला बोला. जेटली ने एक बार फिर अपने ब्लॉग के ज़रिए नोटबंदी, जीएसटी, सीबीआई, आरबीआई, राफेल सौदे, सुप्रीम कोर्ट और जज लोया की मौत को लेकर जवाब दिया. सीबीआई केस में ज़रूर उन्होंने मल्लिकार्जुन खड़गे का नाम लिया लेकिन बाकी मामलों में वह किसी का नाम लेने से बचते हुए दिखाई दिए.

READ: अरुण जेटली का विपक्ष पर हमला! 

जस्टिस लोया केस पर अरुण जेटली ने लिखा:

सोशल मीडिया या पब्लिक स्पेस में सच के नाम पर धुर विरोधियों ने जो भी कहा, वो बेबुनियाद और मनगढ़ंत था. जस्टिस लोया की मौत दिल के दौरे के कारण प्राकृतिक रूप से हुई थी. दौरा पड़ने के समय जस्टिस लोया के साथ केवल एक व्यक्ति था और अस्पताल में उनके साथी जज मौजूद थे.

किसी बाहरी व्यक्ति का उनके साथ किसी तरह का संपर्क नहीं था. इसके बावजूद, फ्रेंडली वेबसाइट्स, सोशल मीडिया पर और फर्ज़ी पीआईएल के ज़रिये तमाम आरोप व आक्षेप लगाए गए. मौत के कारण को हत्या की साज़िश साबित करने का हथियार बनाया गया. इस तरह की फर्ज़ी मुहिम महीनों तक चलती रही.

यही नहीं, बल्कि धुर विरोधियों ने इस मामले में सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज और दिल्ली हाई कोर्ट पूर्व चीफ जस्टिस तक का नाम घसीट लिया. तथ्यों की सच्चाई के प्रमाण के बगैर ये लोग झूठे आरोप लगाने में ज़रा भी नहीं झिझके. आखिरकार, हुआ यह कि सुप्रीम कोर्ट की तीन जजों की बेंच ने इस पूरे मामले में हर आरोप को खारिज कर दिया.

जस्टिस धनंजय चंद्रचूड़ की बेंच के द्वारा इस मामले में फैसला दिया गया. अंजाम यह हुआ कि सोशल मीडिया पर उनकी आलोचना की गई. क्या होता अगर यही फैसला चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की तरफ से आता? धुर विरोधियों की तरफ से उनके खिलाफ आक्षेपों और आरोपों का एक और अभियान चलाया जाता.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 17, 2019, 1:37 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर