होम /न्यूज /crime /Gurugram: घर में किया कैद, गर्म चिमटे से दागा, भूखा रखा... नाबालिग नौकरानी को पीटने के आरोप में दंपती गिरफ्तार

Gurugram: घर में किया कैद, गर्म चिमटे से दागा, भूखा रखा... नाबालिग नौकरानी को पीटने के आरोप में दंपती गिरफ्तार

आरोपी व्यक्ति को दो दिन की पुलिस रिमांड पर,, जबकि महिला को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. (सांकेतिक तस्वीर)

आरोपी व्यक्ति को दो दिन की पुलिस रिमांड पर,, जबकि महिला को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. (सांकेतिक तस्वीर)

Gurugram Minor Domestoc Helper: पुलिस ने बताया कि दंपती के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 323 (चोट पहुंचाना), 342 (बंध ...अधिक पढ़ें

गुरुग्राम(हरियाणा). गुरुग्राम में घरेलू सहायिका के रूप में काम करने वाली 14 वर्षीय एक किशोरी का कथित तौर पर यौन उत्पीड़न और उसे प्रताड़ित करने को लेकर बुधवार को एक दंपती को गिरफ्तार किया गया. पुलिस ने यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि आरोपी मनीष खट्टर (36) और उसकी पत्नी कमलजीत कौर (34) को बुधवार को शहर की एक अदालत में पेश किया गया. अदालत ने खट्टर को दो दिन की पुलिस रिमांड में भेज दिया, जबकि कौर को न्यायिक हिरासत में भेज दिया.

पुलिस ने बताया कि उसकी (पुलिस की) और ‘वन-स्टॉप क्राइसिस सेंटर’ सखी की एक संयुक्त टीम ने दंपती द्वारा अपने बच्चे की देखभाल के लिए रखी गई किशोरी को मंगलवार को मुक्त कराया. उसके हाथ, पैर और चेहरे पर चोट के कई निशान पाए गए हैं. सखी केंद्र प्रभारी पिंकी मलिक द्वारा दायर की गई शिकायत के अनुसार, झारखंड के रांची निवासी किशोरी को एक ‘प्लेसमेंट एजेंसी’ के माध्यम से काम पर रखा गया था.

बेरहमी से पिटाई करता था दंपती
मलिक ने आरोप लगाया कि दंपती उसकी बेरहमी से पिटाई करता था. उन्होंने घरेलू सहायिका को पूरी रात सोने नहीं दिया और खाना भी नहीं दिया. उसका चेहरा पूरी तरह सूज गया था, जबकि शरीर पर जगह-जगह चोट के निशान थे. पुलिस ने बताया कि किशोरी को नाजुक हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया. उसका इलाज चल रहा है.

कूड़ेदान से बचा हुआ खाना खाती थी पीड़िता
लड़की को कथित तौर पर गर्म चिमटे और डंडों से पीटा गया था. प्रारंभिक जांच से पता चलता है कि दंपती ने ठीक से काम नहीं करने और भोजन चुराने का आरोप लगाते हुए लड़की को भूखा रखा और उसकी पिटाई की. एक अधिकारी ने कहा, उसे कई दिनों तक उचित भोजन नहीं दिया गया. पीड़िता कूड़ेदान से बचा हुआ खाना खाती थी.

‘मेरे कपड़े उतारे और मुझे डंडे से पीटा’
इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, बुधवार को अस्पताल में भर्ती पीड़ित ने अधिकारियों से कहा, ‘मुझे रस्सी, लाठियों से पीटा गया था… उन्होंने मेरे हाथ और मेरे होठों के पास काटने के लिए ब्लेड का इस्तेमाल किया. उन्होंने मुझे गर्म लोहे के चिमटे से मारा और माचिस की तीली का इस्तेमाल किया. कपड़े धोते और घर का काम करते हुए उन्होंने मुझसे कपड़े उतरवाए. अक्सर मैं फर्श पर… बिना कपड़ों के सोती थी. उसने मेरे लाए हुए कपड़े फाड़ डाले. उन्होंने मेरे कपड़े उतारे और मुझे डंडे से पीटा. एक बार तो उन्होंने मेरा गला घोंटने की कोशिश की और मुझे जान से मारने की धमकी दी.’

दंपती को उनकी कंपनियों ने नौकरी से निकाला
आरोपों के सामने आने के बाद दंपती को उनकी कंपनियों ने बाहर का रास्ता दिखा दिया है. पीआर फर्म मीडिया मंत्रा के संस्थापक उदित सागर पाठक ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ को बताया कि कंपनी ने कमलजीत कौर की सेवाओं को तत्काल प्रभाव से खत्म करने का फैसला किया है. दूसरी ओर, मैक्स लाइफ इंश्योरेंस जहां मनीष खट्टर काम करते हैं, ने ट्वीट किया कि वे ‘हर समय नैतिक और नैतिक आचरण के उच्च स्तर को बनाए रखने में विश्वास करते हैं. हमने तत्काल प्रभाव से व्यक्ति की नौकरी को समाप्त कर दिया है’.

आरोपी दंपती के खिलाफ कई धाराओं में मामला दर्ज
पुलिस के मुताबिक, गिरफ्तार दंपती न्यू कॉलोनी में रहते हैं. उन्होंने बताया कि कौर एक निजी कंपनी में जनसंपर्क अधिकारी हैं, जबकि उनके पति एक बीमा कंपनी में कार्यरत हैं. पुलिस ने बताया कि किशोरी का यौन उत्पीड़न भी किया गया था. उन्होंने बताया कि दंपती के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 323 (चोट पहुंचाना), 342 (बंधक बना कर रखना) और किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) अधिनियम तथा पॉक्सो अधिनियम की संबद्ध धाराओं के तहत न्यू कॉलोनी पुलिस थाने में एक प्राथमिकी दर्ज की गई है.

प्राथमिकी के मुताबिक, ‘लड़की ने कहा कि दंपती पिछले पांच महीनों से उसे परेशान कर रहा था. उसने कहा कि कमलजीत उसे लोहे के गर्म चिमटे से मारता था. उसने कहा कि उसे खाने के लिए पर्याप्त खाना नहीं दिया जाता था… दंपती पूरे दिन उससे काम करवाता था. उन्होंने उसे घर में कैद कर रखा था और फोन पर परिजनों से बात नहीं करने देते थे. लड़की ने कहा कि दंपती उसे बहुत मारते थे.’

(इनपुट एजेंसी से भी)

Tags: Haryana police

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें