जमीन विवाद में दबंगों ने युवक के दोनों हाथ काट डाले, रेल दुर्घटना बता पुलिस ने दबाया मामला, 2 साल बाद ऐसे सामने आया सच

पुलिस ने इस मामले में दो साल बाद आरोपियों को गिरफ्तार किया
पुलिस ने इस मामले में दो साल बाद आरोपियों को गिरफ्तार किया

दो वर्ष पूर्व जमीन विवाद (Land Dispute) में दबंगों ने पीड़ित शिशुपाल को घर से पकड़ कर ट्रेन की पटरी के पास ले गये, जहां उसके दोनों हाथों को कुल्हाड़ी से बेरहमी से काट डाला और मौके से फरार हो गए थे.

  • Share this:
रिपोर्ट- अजयेन्द्र शर्मा

कासगंज. यूपी के जनपद कासगंज में पुलिस (Police) को बड़ी सफलता हाथ लगी. पुलिस ने दोनों हाथ कंधे से काट अलग कर युवक को अपाहिज बनाने के मामले में तीन आरोपियों (Accused) को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने घटना में इस्तेमाल कुल्हाड़ी को भी बरामद कर लिया. पूरा मामला जनपद कासगंज के कोतवाली ढोलना क्षेत्र के गांव पथरेकी का है.

पथरेकी गांव में 2 वर्ष पूर्व जमीन विवाद में दबंगों ने पीड़ित शिशुपाल को घर से पकड़ कर ट्रेन की पटरी के पास ले जाकर उसके दोनों हाथों को कुल्हाड़ी से बेरहमी से काट डाले थे. और मौके से फरार हो गए थे.



तत्कालीन कोतवाली थाना के प्रभारी बटेश्वर सिंह ने आरोपियों से सांठगाठ कर घटना को रेल दुर्घटना बताकर केस को बंद कर दिया था. जिसके बाद पीड़ित थाने से लेकर एसपी कार्यालय तक चक्कर लगाता रहा, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई.
जिले में नए एसपी आने के बाद पीड़ित ने दोबारा से एसपी से गुहार लगाई, तो एसपी मनोज कुमार सोनकर ने मामले की पुनः विवेचना का आदेश दिया. पुनः विवेचना में ये नया खुलासा हुआ कि जमीन विवाद के चलते आरोपी पप्पू सिंह, नरेंद्र सिंह और बबलू सिंह ने पीड़ित को घर से उठाकर रेल की पटरी के पास ले जाकर दोनों हाथ काट दिए. और मौके से फरार हो गए थे. जिसके बाद एसपी के आदेश पर मामले की जांच शुरू हुई.

तीनों अभियुक्तों को गांव से गिरफ्तार किया गया. इनके पास से उस कुल्हाड़ी को भी जब्त किया गया, जिसका घटना में इस्तेमाल हुआ था. तीनों आरोपियों को जेल भेज दिया गया. घटना की छानबीन नये सिरे से जारी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज