होम /न्यूज /crime /ससुरालवालों ने बहू को जिंदा जलाया, महिला की हालत गंभीर

ससुरालवालों ने बहू को जिंदा जलाया, महिला की हालत गंभीर

यूपी में महिलाओं के प्रति असंवेदनशील पुलिस का चेहरा एक बार फिर बेनकाब हुआ है. कन्नौज स्थित सौरिख थानाक्षेत्र के एराओ गांव की रहने वाली आरती को उसके ससुराल वालों ने दहेज की खातिर जिंदा जला दिया. घटना की सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मुकदमा दर्ज करना तो दूर पीड़ित को अस्पताल ले जाना तक मुनासिब नहीं समझा. कई घंटों के बाद जब पीड़ित के परिजन उसके घर पहुंचे तो पीड़ित वहीं गंभीर हालत में पड़ी हुई थी. आनन-फानन में परिजनों ने पीड़ित को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया, लेकिन पीड़ित की हालत ज्यादा गंभीर होने के कारण उसे कानपुर रेफर कर दिया गया है.

यूपी में महिलाओं के प्रति असंवेदनशील पुलिस का चेहरा एक बार फिर बेनकाब हुआ है. कन्नौज स्थित सौरिख थानाक्षेत्र के एराओ गांव की रहने वाली आरती को उसके ससुराल वालों ने दहेज की खातिर जिंदा जला दिया. घटना की सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मुकदमा दर्ज करना तो दूर पीड़ित को अस्पताल ले जाना तक मुनासिब नहीं समझा. कई घंटों के बाद जब पीड़ित के परिजन उसके घर पहुंचे तो पीड़ित वहीं गंभीर हालत में पड़ी हुई थी. आनन-फानन में परिजनों ने पीड़ित को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया, लेकिन पीड़ित की हालत ज्यादा गंभीर होने के कारण उसे कानपुर रेफर कर दिया गया है.

यूपी में महिलाओं के प्रति असंवेदनशील पुलिस का चेहरा एक बार फिर बेनकाब हुआ है. कन्नौज स्थित सौरिख थानाक्षेत्र के एराओ गा ...अधिक पढ़ें

    यूपी में महिलाओं के प्रति असंवेदनशील पुलिस का चेहरा एक बार फिर बेनकाब हुआ है. कन्नौज स्थित सौरिख थानाक्षेत्र के एराओ गांव की रहने वाली आरती को उसके ससुराल वालों ने दहेज की खातिर जिंदा जला दिया. घटना की सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मुकदमा दर्ज करना तो दूर पीड़ित को अस्पताल ले जाना तक मुनासिब नहीं समझा. कई घंटों के बाद जब पीड़ित के परिजन उसके घर पहुंचे तो पीड़ित वहीं गंभीर हालत में पड़ी हुई थी. आनन-फानन में परिजनों ने पीड़ित को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया, लेकिन पीड़ित की हालत ज्यादा गंभीर होने के कारण उसे कानपुर रेफर कर दिया गया है.

    फिलहाल पीड़ित की हालत नाजुक बनी हुई है और उसके ससुराल वाले घटना के बाद से फरार हैं. पीड़ित महिला आरती ने अपनी आपबीती बताते हुए कहा कि उसके पति, सास, ननद और देवर ने मिलकर उसपर केरोसिन डाल उसे जलाने की कोशिश की. पीड़ित ने आगे कहा कि पिछले पांच सालों से वो लोग हर रोज दहेज की मांग करते थे और उसके साथ मारपीट किया करते थे.

    पीड़ित ने बताया कि वो लोग उसकी बेटी को भी आग लगाने की धमकी दिया करते थे. पीड़ित के भाई शिवसागर ने इस घटना पर पुलिसवालों पर अनदेखी का आरोप लगाते हुए कहा कि घटना के बाद वो मुकदमा दर्ज कराने की मांग को लेकर पुलिस के पास गए थे, लेकिन पुलिस ने उनकी तहरीर पर कोई कार्रवाई नहीं की और मुकदमा दर्ज करने से मना कर दिया.

    वहीं पीड़ित की गंभीर हालत पर कन्नौज के जेआर मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर हरिओम ने कहा कि पीड़ित लगभग 40 से 45 प्रतिशत तक जली हुई थी. डॉक्टर हरिओम ने आगे कहा कि पीड़ित की हालत गंभीर देखते हुए उसे इलाज के लिए कानपुर रेफर कर दिया गया है.

    आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

    आपके शहर से (लखनऊ)

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें