लाइव टीवी

प्रेमिका की हत्या से बड़ा अपराध गर्भस्थ शिशु की हत्या, उम्रकैद के साथ 10 साल की सजा

Pradesh18
Updated: February 12, 2016, 7:35 AM IST
प्रेमिका की हत्या से बड़ा अपराध गर्भस्थ शिशु की हत्या, उम्रकैद के साथ 10 साल की सजा
इंदौर में गर्भवती प्रेमिका की हत्या करने वाले आरोपी को कोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुनाई है. वहीं, गर्भ में पल रहे शिशु की हत्या को गंभीर अपराध मानते हुए 10 साल की सजा सुनाई है.

इंदौर में गर्भवती प्रेमिका की हत्या करने वाले आरोपी को कोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुनाई है. वहीं, गर्भ में पल रहे शिशु की हत्या को गंभीर अपराध मानते हुए 10 साल की सजा सुनाई है.

  • Pradesh18
  • Last Updated: February 12, 2016, 7:35 AM IST
  • Share this:
इंदौर में गर्भवती प्रेमिका की हत्या करने वाले आरोपी को कोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुनाई है. वहीं, गर्भ में पल रहे शिशु की हत्या को उससे भी गंभीर अपराध मानते हुए साथ में 10 साल की सजा सुनाई गई है.

जिला कोर्ट के सेशन जज  ने फैसले में इस बात कर जिक्र किया कि हत्यारे ने अजन्मे सात माह के बच्चे की भी हत्या की है, इसलिए उसे धारा 316 के तहत अधिकतम सजा सुनाई गई है. वकीलों की मानें तो यह अपने आप में अलग तरह का केस है.

क्या है मामला
दरअसल, धार के बिल्लौर बुजुर्ग में रहने वाले मांगीलाल (28) ने प्रेमिका की हत्या कर दी थी. जिसकी पुलिस ने 18 दिसंबर 2013 को गांव के पास एक तालाब से लाश बरामद की थी.

जांच में खुलासा हुआ कि मांगीलाल का युवती से प्रेम संबंध था, जब गर्भवती होने पर उसने शादी का दबाव बनाया तो मांगीलाल ने उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी और शव तालाब में फेंक दिया था. उस दौरान पुलिस ने आरोपी को हिरासत में लेकर कोर्ट में चालाश पेश किया था, जिसके करीब तीन साल बाद कोर्ट ने यह फैसला सुनाया है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इंदौर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 12, 2016, 7:30 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर