• Home
  • »
  • News
  • »
  • crime
  • »
  • झारखंड के लोहरदगा में एंटी नक्सल अभियान के दौरान प्रेशर बम की चपेट में आने से जवान की मौत

झारखंड के लोहरदगा में एंटी नक्सल अभियान के दौरान प्रेशर बम की चपेट में आने से जवान की मौत

सर्च ऑपरेशन के दौरान नक्सलियों के बिछाए प्रेशर बम की चपेट में आने से कॉन्स्टेबल बुरी तरह जखमी हो गया जिसकी बाद में अस्पताल में मौत हो गई

सर्च ऑपरेशन के दौरान नक्सलियों के बिछाए प्रेशर बम की चपेट में आने से कॉन्स्टेबल बुरी तरह जखमी हो गया जिसकी बाद में अस्पताल में मौत हो गई

जिला पुलिस बल की टीम 10 लाख रूपये के इनामी नक्सली रविन्द्र गंझू की गिरफ्तारी के लिए लोहरदगा (Lohardaga) के सेरेंगदाग थाना क्षेत्र के दुंदरु जंगल में सर्च अभियान चला रही थी इसी दौरान यह विस्फोट हो गया. प्रेशर बम की चपेट में आने से जवान का बायां पैर उड़ गया. साथ ही उसके दूसरे पैर में भी गंभीर चोट आई

  • Share this:

रांची. झारखंड के लोहरदगा (Lohardaga) में नक्सलियों के बिछाए प्रेशर बम की चपेट (Pressure Bomb Blast) में आने से एक पुलिसकर्मी की मौत हो गई. बुरी तरह घायल जिला पुलिस बल के कॉन्स्टेबल दिलेश्वर प्रास की रांची (Ranchi) के मेडिका अस्पताल में मौत हो गई. बताया जा रहा है कि पुलिस की टीम 10 लाख रूपये के इनामी नक्सली रविन्द्र गंझू की गिरफ्तारी के लिए लोहरदगा के सेरेंगदाग थाना क्षेत्र के दुंदरु जंगल में सर्च अभियान चला रही थी इसी दौरान यह विस्फोट हो गया. प्रेशर बम की चपेट में आने से जवान का बायां पैर उड़ गया. साथ ही उसके दूसरे पैर में भी गंभीर चोट आई. घायल जवान को हेलीकॉप्टर के माध्यम से खेलगांव लाया गया जहां से उसे मेडिका अस्पताल पहुंचाया गया. लेकिन खून ज्यादा बहने से जवान की मौत हो गई.

घटना की जानकारी मिलने के बाद राज्य के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) नीरज सिन्हा और आईजी अभियान साकेत कुमार सिंह के साथ रांची जिले के तमाम वरीय अधिकारी वहां पहुंचे और हालात का जायजा लिया. डीजीपी नीरज सिन्हा ने कहा कि नक्सलियों के खिलाफ अभियान में विशेष रणनीति तैयार की जाएगी और उन पर नकेल कसी जाएगी. उन्होंने बताया कि मृतक कॉन्स्टेबल गुमला जिले का रहनेवाला था.

मंगलवार को लोहरदगा जिला बल के कॉन्स्टेबल की नक्सलियों के लगाए प्रेशर बम की चपेट में आने से मौत हो गई है. इस घटना के बाद पुलिस नक्सलियों के खिलाफ बेहतर रणनीति बनाने की बात कर रही है. मिली जानकारी के मुताबिक पुलिस के वरीय अधिकारियों को यह सूचना मिली थी कि इनामी रविन्द्र गंझू अपने दस्ते के साथ किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की योजना बना रहा है. इसके बाद सुरक्षाबलों के द्वारा सर्च अभियान चलाया गया था.

नक्सल अभियान के दौरान आईईडी ब्लास्ट या प्रेशर बम के द्वारा सुरक्षाबलों को ट्रैप करना नक्सलियों का पुराना हथियार है. पिछले पंद्रह दिनों की बात की जाए तो नक्सलियो के साथ पुलिस की लगातार मुठभेड़ हो रही है, इनमें से तीन वारदातें ऐसी हुई हैं जिसमें दो जवान घायल हुए हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज