अपना शहर चुनें

States

खनन व्यापारी मौत मामला: 80 दिन बाद आरोपी थाना प्रभारी महोबकंठ से गिरफ्तार, दो पुलिसकर्मियों की तलाश जारी

पुलिस आरोपी थाना प्रभारी से पूछताछ कर रही है,
पुलिस आरोपी थाना प्रभारी से पूछताछ कर रही है,

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के महोबा के पत्थर मंडी कबरई के बहुचर्चित खनन व्यापारी इन्द्रकांत त्रिपाठी मौत मामले में पुलिस ने आरोपी तत्कालीन थाना प्रभारी देवेंद्र शुक्ला को गिरफ्तार  (Arrest) कर लिया है.

  • Share this:
महोबा. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के महोबा के पत्थर मंडी कबरई के बहुचर्चित खनन व्यापारी इन्द्रकांत त्रिपाठी मौत (Death) मामले में महोबा पुलिस को करीब 80 दिन बाद पहली बड़ी सफलता मिली है. महोबा स्वाट ,सर्विलांस टीम ने व्यापारी इन्द्रकांत त्रिपाठी गोलीकांड मामले में आरोपी तत्कालीन थाना प्रभारी देवेंद्र शुक्ला को जिले के महोबकंठ थाना क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया है. एसपी अरुण कुमार श्रीवास्तव के निर्देश पर  पुलिस ने कड़ी सुरक्षा के बीच आरोपी से पूछताछ शुरू कर दी है. तो वहीं महोबा के तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार ओर अरुण यादव की सरगर्मी से तलाश की जा रही है.

बता दें कि महोबा के कबरई थाना क्षेत्र में रहने खनन व विस्फोटक व्यापारी इन्द्रकांत की बीते 13 सितंम्बर को गोली लगने से कानपुर रीजेंसी में इलाज के दौरान मौत हो गई थी. इन्द्रकांत के परिजनों ने आरोपी आईपीएस मणिलाल पाटीदार के खिलाफ आत्महत्या के लिए प्रेरित करने का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज कराया था.

ये भी पढ़ें: Rajasthan: बस से अजमेर के लिए निकला आबकारी विभाग का सिपाही लापता



एडीजी के निर्देश पर हुआ था मामला दर्ज
प्रयागराज जोन के एडीजी प्रेम प्रकाश के निर्देश पर तत्कालीन पुलिस अधीक्षक मणिलाल पाटीदार, कबरई एसओ देवेश शुक्ला और काॉस्टेबल अरुण यादव के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का मुकदमा दर्ज कराया था. मामला दर्ज होने के बाद से यह तीनों आरोपी पुलिस से आंख मिचोली कर रहे थे. बुधवार को पुलिस ने तत्कालीन कबरई थाना के प्रभारी देवेंद्र शुक्ला को महोबकंठ से गिरफ्तार कर लिया है. बाकि आरोपियों की तलाश की जा रही है.

गाइडलाइन तोड़ने पर हुई कार्रवाई

इधर, उत्तर प्रदेश के मेरठ  में शादी समारोह के दौरान कोविड-19 गाइडलाइंस (का पालन न करना, सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाना परिवारवालों को भारी पड़ गया. यहां वर-वधू के पिता के साथ ही गेस्ट हाउस के मालिक के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. एएसपी कैंट ईरज राजा का कहना है कि शादी समारोह के दौरान बैंड इत्यादि मिलाकर 100 से अधिक संख्या नहीं होनी चाहिए लेकिन यहां तीन 300 से 350 लोग पाए गए. लिहाज़ा ये कार्रवाई की गई है.
मेऱठ के लालकुर्ती स्थित बैजल भवन में शादी समारोह के दौरान न तो लोगों ने मास्क लगा रखा था और न ही यहां सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जा रहा था. यहां सैनेटाइज़र की भी व्यवस्था नहीं की गई थी. शादी में शामिल लोगों की संख्या 300 से 350 थी. मौके पर पहुंची पुलिस ने पूरे कार्यक्रम की वीडियो बनाई और अफसरों को सूचना दी. इसी सूचना और वीडियो के आधार पर पुलिस ने 3 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज