झूठी शान की खातिर माता-पिता ने अविवाहित बेटी की धोखे से की हत्या, हुए गिरफ्तार

अविवाहित युवती के गर्भवती होने से परेशान उसके माता-पिता को लगता था कि इससे उनकी सामाजिक बेइज्जती होगा, यह सोचकर उन्होंने धोखे से उसकी हत्या कर दी (प्रतीकात्मक तस्वीर)
अविवाहित युवती के गर्भवती होने से परेशान उसके माता-पिता को लगता था कि इससे उनकी सामाजिक बेइज्जती होगा, यह सोचकर उन्होंने धोखे से उसकी हत्या कर दी (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पुलिस ने खुलासा किया कि किशुनदासपुर निवासी कमलेश ने झूठी शान के खातिर अपनी बेटी को मार डाला. आरोपी को इस बात का डर सता रहा था कि अविवाहित बेटी के गर्भवती होने की खबर गांव में फैलते ही उसकी सामाजिक इज्जत चली जाएगी. इससे बचने के लिए लड़की के माता-पिता ने सिर पर कुल्हाड़ी का वार कर उसे मौत के घाट उतार दिया

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 1, 2020, 12:02 AM IST
  • Share this:
प्रतापगढ़. उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ (Pratapgarh) में हॉरर किलिंग (Horror Killing) का एक मामला सामने आया है. यहां इज्जत के नाम पर एक माता-पिता ने अपनी अविवाहित बेटी की कुल्हाड़ी से वार कर हत्या (Murder) कर दी. पुलिस ने इस हत्याकांड का खुलासा करते हुए आरोपी माता-पिता को गिरफ्तार कर लिया है. यह घटना बीते 25 अक्टूबर की है. जब युवती के पेट में दर्द शुरू हुआ तो परिवारवाले उसे इलाज के लिए रायबरेली के ऊंचाहार अस्पताल में गए. यहां डाक्टरों की सलाह पर युवती के पिता ने उसका अल्ट्रासाउंड कराया जिसमें उनकी अविवाहित बेटी सात माह की गर्भवती निकली. यह जानकर उसके पिता कमलेश कुमार और मां अनीता देवी के पैरों तले की जमीन खिसक गई. दोनों ने अस्पताल प्रशासन से युवती का गर्भपात करने की जिद की लेकिन उन्होंने ऐसा करने से इनकार कर दिया.

इसके बाद वो युवती को अस्पताल से लेकर घर लौटे और एक कमरे मे बंद कर दिया. उसी रात लगभग 11 बजे वो युवती का मुंह बांधकर उसे बाइक पर जबरन बिठाकर रेलवे लाइन के किनारे ले गए. यहां लड़की के माता-पिता ने यहां कुल्हाड़ी से उसके सिर पर वार कर उसकी हत्या कर दी. इसके बाद आरोपियों ने हत्या को आत्महत्या दिखाने के लिए युवती के शव को रेल की पटरी पर रख दिया. लेकिन उनका दुर्भाग्य कि उस रात कोई भी ट्रेन वहां से नही गुजरी. अगले दिन सुबह ग्रामीणों ने रेलवे ट्रैक पर शव देखा तो उन्होंने इसकी सूचना पुलिस को दी. पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को अपने कब्जे में लेकर तफ्तीश शुरू की.

जांच की दिशा मोड़ने के लिए अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया



दूसरी तरफ युवती का शव मिलने पर उसके परिजनों ने जांच की दिशा मोड़ने के लिए अज्ञात पर हत्या का मुकदमा दर्ज करवा दिया. पुलिस ने लड़की के पिता से पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि वो अपनी बीमार पत्नी को लेकर अस्पताल गए थे. पुलिस ने जांच के सिलसिले में रायबरेली के ऊचाहार में अस्पतालकर्मियों से जाकर पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि कमलेश कुमार अपने बेटी को दिखाने यहां लेकर आया था. यह जानकर पुलिस का युवती के पिता पर शक गहरा गया. पुलिस ने लड़की के माता-पिता को फौरन हिरासत में लेकर कड़ाई से पूछताछ की तो दोनों टूट गए और अपनी बेटी की हत्या का जुर्म कबूल लिया.
पुलिस ने खुलासा किया कि नबाबगंज थाना क्षेत्र के किशुनदासपुर निवासी कमलेश ने झूठी शान के खातिर अपनी बेटी को मार डाला. क्योंकि आरोपी को इस बात का डर सता रहा था कि अविवाहित बेटी के गर्भवती होने की खबर गांव में फैलते ही उसकी सामाजिक इज्जत चली जाएगी. इससे बचने के लिए युवती के माता-पिता ने मिलकर उसे मौत के घाट उतार दिया. पुलिस ने केस दर्ज कर कलयुगी माता-पिता को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज