बच्चे देख रहे थे रामलीला और पत्नी रच रही थी पति का हत्याकांड

पति से प्रताड़ित पत्नी के विवाहेतर संबंध थे. उसने प्रेमी के साथ मिलकर रच डाली पति के कत्ल की साज़िश. कातिल बाराबंकी पुलिस की हिरासत में आए तो खुलासे हुए कि लाश को घर में ही दफनाया गया था और 7 महीने तक किसी को कत्ल की भनक नहीं लगी.

Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: August 7, 2018, 8:31 PM IST
बच्चे देख रहे थे रामलीला और पत्नी रच रही थी पति का हत्याकांड
सांकेतिक चित्र
Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: August 7, 2018, 8:31 PM IST
'हाय राम, मैं तो बर्बाद हो गई. ये देखो भाभी, इतना पीटा उसने मुझे रात में, हर जगह ज़ख्म हो गए. मुझे बेरहमी से पीटने के बाद भी उस नासपीटे का जी नहीं भरा तो सारे ज़ेवर लेकर भाग गया. भगवान ऐसा पति किसी को न दे. तुम तो जानती ही हो ना भाभी कि रोज़ पीटता था मुझे. सब कुछ लेकर चला गया. अब मेरा क्या होगा भाभी..?' रोती बिलखती रीता मोहल्ले को सिर पर उठाए थी और पिछली रात गुज़री आफत सबको सुना रही थी. लेकिन क्या यह सच था? क्या रीता की कहानी में कोई पेंच था? यह हकीकत खुलना बाकी थी.

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में अनिरुद्ध अपनी बीवी रीता और दो बच्चों के साथ रहा करता था. दोनों के दो बच्चे और थे यानी 18 साल का बड़ा बेटा सोनू और एक बेटी जो बचपन से ही अपने ननिहाल में रहा करते थे और कभी कभी यहां आते थे. अनिरुद्ध और रीता की शादी को करीब 20 साल होने को थे और दोनों के बीच रिश्ता ठीक था, ऐसा नहीं कहा जा सकता. अनिरुद्ध उन मर्दों की तरह था जो पत्नी को अपनी जागीर समझते हैं और उस पर हर ज़ुल्म करना अपना हक.

अनिरुद्ध आए दिन रीता के साथ मारपीट करता था. कभी किसी वजह से तो कभी किसी वजह से. दिन भर अपने काम में मशगूल रहने के बाद जब वह देर शाम घर लौटता तो रीता के पास घर गृहस्थी की बहुत सी बातें और चिंताएं होतीं. ऐसी ही किसी बात पर अनिरुद्ध को गुस्सा आ जाता और वह रीता पर हाथ उठाने में एक पल न लगाता. यही सिलसिला पिछले कई सालों से चल रहा था और अनिरुद्ध को यह अंदेशा तक कभी नहीं हुआ कि उसके इस बर्ताव का क्या नतीजा हो सकता है.

अनिरुद्ध की मारपीट से तंग और घर गृहस्थी के संकटों में उलझी रीता को अजय ने समझा था. कुछ साल पहले रीता और अजय के बीच नज़दीकियां बढ़ने लगी थीं. अजय के साथ प्यार में बहती हुई रीता सारी हदें तोड़ चुकी थी और वह तन मन से अजय की हो चुकी थी. रीता और अजय के बीच क्या चल रहा है, न तो आस पड़ोस में किसी को खबर थी और न ही अनिरुद्ध को. अक्सर अनिरुद्ध की गैरहाज़िरी में अजय आता लेकिन उसे सब जानते थे. वह अनिरुद्ध को भैया व रीता को भाभी कहता था इसलिए किसी को शक नहीं था.

barabanki, uttar pradesh, murder, murder case, illicit relationship, बाराबंकी, उत्तर प्रदेश, कत्ल, हत्याकांड, अवैध संबंध

अनिरुद्ध के पीठ पीछे रीता और अजय का प्यार पनप रहा था लेकिन प्यार छुपता कहां है? एक न एक दिन खबर हो ही जाती है इसलिए अनिरुद्ध को पता लगना ही था लेकिन इस तरह पता चलेगा यह अनिरुद्ध तो क्या, अजय और रीता ने भी नहीं सोचा था. अनिरुद्ध एक शाम तय वक्त से कुछ जल्दी घर लौटा तो उसने देखा कि रीता और अजय एक दूसरे के साथ अर्धनग्न हालत में बिस्तर पर लिपटे हुए थे. यह देखते ही अनिरुद्ध के होश उड़ गए.

यह देखकर अनिरुद्ध जितना हैरान था, उससे कहीं ज़्यादा डर और शर्मिंदगी का एहसास था रीता को. अजय और रीता ने अपनी हालत ठीक की और अजय उस वक्त किसी तरह नज़रें चुराकर वहां से चला गया. अनिरुद्ध क्या करने वाला था, रीता को कई किस्म के अंदेशे हो रहे थे. रीता माफी मांग रही थी और कह रही थी कि अब ऐसी गलती दोबारा नहीं होगी. अनिरुद्ध की आंखें लाल हो चुकी थीं और कुछ ही देर बाद उसने बेल्ट निकालकर रीता को जमकर पीटना शुरू कर दिया. रीता गिड़गिड़ाती रही और पिटती रही.

अनिरुद्ध को यह बात गले ही नहीं उतर रही थी कि उसकी पीठ पीछे रीता का कोई प्रेमी था. रात को फिर अनिरुद्ध के भीतर गुस्से का ज्वार उठा और अब उसने बिस्तर पर रीता को यौन प्रताड़ना दी. सिसकती हुई रीता सब कुछ बर्दाश्त करने के लिए मजबूर थी क्योंकि गलती उसी की थी. अगले दिन अनिरुद्ध ने रीता को धमकी देते हुए कहा कि वह जल्द ही उसके मायके में सबके सामने उसकी इस करतूत का भंडाफोड़ कर उसे छोड़ देगा.


रीता ने फिर माफी मांगी लेकिन गुस्से में अनिरुद्ध घर से चला गया. अगले दो तीन यही सिलसिला चलता रहा कि अनिरुद्ध प्रताड़ित करता रहा और रीता सब कुछ सहती रही. हर बार अनिरुद्ध यही धमकी देता कि वह उसके इस चरित्र का पर्दाफाश कर देगा और अजय को भी सबक सिखाएगा. बार बार माफी मांगने के बावजूद कोई हल निकलता न देख रीता परेशान हो गई और उसने अजय से मिलकर कोई रास्ता निकालने की बात सोची.

barabanki, uttar pradesh, murder, murder case, illicit relationship, बाराबंकी, उत्तर प्रदेश, कत्ल, हत्याकांड, अवैध संबंध

अजय से बातचीत के आखिर में रीता ने कहा कि उसने बहुत बर्दाश्त कर लिया है, अब अजय को अपनी मर्दानगी साबित करना होगी. सामाजिक बदनामी का डर तो अजय को भी सता रहा था और रीता के इस ताने ने उसका कलेजा चीर दिया. दोनों ने मिलकर एक प्लैन बनाया और सही वक्त का इंतज़ार करने लगे. इसी इंतज़ार के बीच इस साल जनवरी की शुरुआत में फैसले की वह रात आई तो बहुत कुछ घटा. और, अगली सुबह रीता पूरे मोहल्ले में शोर मचाकर कहती फिरी कि रात अनिरुद्ध ने उसे बुरी तरह पीटा और सोने के गहने व सारा कीमती सामान लेकर घर छोड़कर चंडीगढ़ चला गया.

रीता की कहानी पर किसी को नहीं हुआ शक!
अनिरुद्ध के बर्ताव से सब वाकिफ थे और रीता के शरीर पर ज़ख्म व उसकी हालत देखकर सबने मान लिया कि अनिरुद्ध मारपीट करने के बाद भाग गया है. कुछ ने रीता से कहा कि थाने में जाकर रिपोर्ट लिखाए तो कुछ ने कहा कि इसकी ज़रूरत नहीं है. वह खुद गया है, कोई गायब तो हुआ नहीं है इसलिए बेवजह थाने में जाकर घर की बातें बताने का क्या फायदा. यह बात रीता को जंची और उसने सबकी मौजूदगी में कहा कि वैसे भी वह उससे परेशान ही थी.

कुछ ही दिनों में मामला ठंडा पड़ता गया और सब रीता की तरफ से बेपरवा हो गए. अब रीता और अजय के बीच नज़दीकियां पहले की तरह बढ़ती रहीं. इधर, रीता दोनों बच्चों को किसी तरह यही समझाती रही कि उनका बाप अब कभी लौटकर नहीं आएगा. एक महीना हो चला था अनिरुद्ध को गायब हुए और रीता व अजय का रिश्ता अब कुछ लोगों की नज़र में भी आने लगा था लेकिन दोनों अब भी इस रिश्ते को छुपाने की पूरी कोशिश करते थे. रीता किसी रिश्तेदार तो कभी अजय के साथ ज़्यादा रहने लगी थी, अपने घर में कम.

घर से आई बदबू ने किया पर्दाफाश
एक एक कर करीब 7 महीने हो गए. जुलाई के आखिरी हफ्ते में रीता का बड़ा बेटा सोनू ननिहाल से बाराबंकी आया. वह अपनी मां और छोटे भाई बहनों से मिलने आया था. इसी बीच, उसने कुछ सामान घर में रखने और कुछ सामान वहां से ले जाना चाहा. 29 जुलाई को कुछ दिनों से बंद घर का दरवाज़ा जैसे ही सोनू ने खोला, एक अजीब सी बदबू वहां भरी हुई थी. कुछ देर सोनू ने खाली पड़े घर में इधर उधर देखा कि लेकिन उसे उस बदबू का कोई कारण समझ नहीं आया.

सोनू ने आस पड़ोस में देखा तो उसे वहां बात करने लायक कोई दिखा नहीं. फिर कुछ लोग दिखे और उन्होंने भी जायज़ा लिया तो कुछ समझ में नहीं आया. धीरे धीरे लोग जुटे और बात पुलिस तक पहुंच गई. पुलिस ने कुछ लोगों के शक और सलाह पर एक्शन लेते हुए घर के कुछ हिस्सों में खुदाई करवाई तो कुछ ही देर में एक सच का खुलासा हो गया. करीब दो फीट गहरे ही खोदने पर एक सड़ी गली लाश मिली और बहुत देर नहीं लगी सबको यह जानने में कि यह लाश अनिरुद्ध की थी.

उधर, रावण वध हुआ इधर, अनिरुद्ध का कत्ल
जनवरी में जिस सुबह रीता पूरे मोहल्ले में ढिंढोरा पीट रही थी कि अनिरुद्ध उसे पीटकर गहने छीनकर भाग गया, उसकी पिछली रात हुआ था अनिरुद्ध का कत्ल. अस्ल में उस रात उस बस्ती से कुछ ही दूर रामलीला का नाटक हो रहा था. रीता के सारे पड़ोसी वहीं गए हुए थे और रीता ने अपने दोनों बच्चों को भी पड़ोसियों के साथ भेज दिया था. रीता और अनिरुद्ध ही घर में थे और आस पड़ोस में कोई नहीं था. प्लैन पहले से तैयार था, बस सही वक्त का इंतज़ार था. और यही सही वक्त था.

barabanki, uttar pradesh, murder, murder case, illicit relationship, बाराबंकी, उत्तर प्रदेश, कत्ल, हत्याकांड, अवैध संबंध

रीता ने अजय को चुपके से फोन किया और पूरा हाल बताकर कहा कि यही सही मौका है. अजय भी फिराक में ही था. कुछ ही देर में वह अजय अपने चाचा तेजा को लेकर रीता के घर पहुंच गया. रीता की मदद से अजय और तेजा घर में दाखिल हुए और पीछे से अनिरुद्ध के गले को प्लास्टिक की रस्सी से कस दिया. उधर, बच्चे रामलीला देख रहे थे और इधर, अनिरुद्ध छटपटाता रहा लेकिन रीता उसके पैर काबू में किए रही और अजय व तेजा ने गला घोंटकर अनिरुद्ध की जान ले ली.

जैसे ही अनिरुद्ध की छटपटाहट बंद हुई तब रीता ने उसके पैर छोड़े और सबने मिलकर तसल्ली की कि अनिरुद्ध मर गया. इसके बाद घर के ही एक कोने में एक गड्ढा खोदकर अनिरुद्ध की लाश तीनों ने मिलकर वहां दफना दी. गड्ढे को वापस भरने के बाद रीता ने उसे गोबर से लीप दिया. इसके बाद सुबह की कहानी तैयार की और फिर अजय व तेजा बस्ती के लोगों के लौटने से पहले ही वहां से चले गए. रीता, अजय और तेजा तीनों ही हिरासत में आ चुके हैं.

ये भी पढ़ें

#LoveSexaurDhokha: खुलता चला गया एक के बाद एक अफेयर
कत्ल करने के लिए कलेजा चाहिए होता है, वही ऐन वक्त पर ठंडा पड़ गया!
#LoveSexaurDhokha: खुदकुशी करने जाता और फिर जाग उठती जीने की हसरत
#LoveSexaurDhokha: पत्नी मां नहीं बनी, लेकिन पति था एक बच्चे का बाप
#LoveSexaurDhokha: कार में दोनों करते थे PORN फिल्म जैसी हरकतें

PHOTO GALLERY : वो अजनबी कह रहा था - 'तुम्हीं तो चाहती थीं कि मैं तुम्हारा रेप करूं!'
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर