फ़र्ज़ी दस्तावेज़ों से होने वाले अपराध बढ़ने से बढ़ी रुड़की पुलिस की चिंता, लोगों से सहयोग की अपील

हरिद्वार पुलिस ने हाल ही में फ़र्ज़ी दस्तावेज़ों के आधार पर आईडी बनाकर अपराध के दो बड़े मामले पकड़े हैं. (file photo)
हरिद्वार पुलिस ने हाल ही में फ़र्ज़ी दस्तावेज़ों के आधार पर आईडी बनाकर अपराध के दो बड़े मामले पकड़े हैं. (file photo)

एसपी देहात ने लोगों से अपील की कि फ़र्ज़ी दस्तावेज़ बनाने की जानकारी पुलिस को दें ताकि ऐसे मामलों के साथ ही बढ़ते अपराधों पर नियंत्रण किया जा सके.

  • Share this:
रुड़की. शहर और देहात क्षेत्रों में फ़र्ज़ी दस्तावेज़ के आधार पर अपराध बढ़ने से पुलिस की चिंताएं भी बढ़ गई हैं. दरअसल फ़र्ज़ी दस्तावेजों के आधार पर ड्रावर लाइसेंस, सिम कार्ड बनवाकर आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने के कई मामले सामने आ गए हैं. अब पुलिस ऐसे गिरोहों और विभागों पर नज़र रख रही है ताकि फ़र्ज़ी दस्तावेज़ों के आधार कोई कागज़ात न बन सके. हरिद्वार के एसपी देहात स्वप्न किशोर सिंह का कहना फिलहाल पुलिस टीम बनाकर मामलों की जांच कर रही है, उन्होंने लोगों से फ़र्ज़ीवाड़े की जानकारी साझा करने की अपील भी की.

फ़र्ज़ी दस्तावेज़ों से नकली आईडी बनाकर अपराध

पिछले दिनों एक व्यक्ति ने फ़र्ज़ी दस्तावेज़ों से ड्राइविंग लाइसेंस बनवाकर एक ट्रांस्पोर्टर के पास बतौर ड्राइवर नौकरी हासिल कर ली थी और फिर अपने साथियों के साथ लाखों के लैपटॉप लेकर फ़रार हो गया था. इसके अलावा ट्रक का फ़र्ज़ी तरीके से रजिस्ट्रेशन करने के आरोप में दो को गिरफ्तार किया गया था.



पुलिस सूत्रों के अनुसार फ़र्ज़ी दस्तावेज तैयार करने वाले गिरोह उप्र से लेकर उत्तराखंड तक सक्रिय हैं. ऐसे गिरोह के लोग फ़र्ज़ी दस्तावेज़ों से फ़र्ज़ी आइडी तैयार कर रहे हैं. परिवहन विभाग को भी इस तरह के फ़र्ज़ीवाड़े दस्तावेज़ों  की समस्याओं से जूझना पड़ रहा है.

हरिद्वार के एसपी देहात स्वप्न किशोर सिंह कहते हैं कि पुलिस फ़र्ज़ी दस्तावेज़ों बनाने वाले गिरोहों की तलाश तो कर ही रही है लेकिन इसमें लोगों का सहयोग भी चाहिए होता है. एसपी देहात ने लोगों से अपील की कि फ़र्ज़ी दस्तावेज़ बनाने की जानकारी पुलिस को दें ताकि ऐसे मामलों के साथ ही बढ़ते अपराधों पर नियंत्रण किया जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज