INSIDE STORY: जब सीरियल किलर ने बताया, बेदर्द हत्यारे को कैसे पकड़ा जाता है?

#SerialKillers: एक खूंखार कातिल की वो अनसुनी कहानी, जब उसने दूसरे खूंखार कातिल को पकड़वाने के लिए अमेरिकी पुलिस की मदद की और जब सीरियल किलर्स के मन को टटोल पाने के लिए पुलिस को कई पापड़ बेलने पड़े.

Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: February 2, 2019, 5:35 AM IST
INSIDE STORY: जब सीरियल किलर ने बताया, बेदर्द हत्यारे को कैसे पकड़ा जाता है?
सांकेतिक​ चित्र
Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: February 2, 2019, 5:35 AM IST
'कत्ल क्या है? ये हवस या हिंसा वाला जुर्म नहीं है, बल्कि इसके साथ अधिकार, एक अपनेपन की भावना जुड़ती है. आप जिन्हें मारते हैं, वो आपकी जायदाद हो जाते हैं...' यह सोच थी अमेरिका के दुर्दांत सीरियल किलर टेड की. टेड के बारे में जब इस तरह की बातें पता चलीं तो 80 के दशक में एक और सीरियल किलर की तलाश में अंधेरे में भटक रहे रॉबर्ट और डेव को एक रोशनदान जैसा दिखा.

रॉबर्ट : क्या तुम्हें टेड के डिटेल्स मालूम हैं डेव?
डेव : कुछ खास बातें मसलन, बचपन में उसे उसके परिवार ने ही इतना प्रताड़ित किया और झूठ बोले थे कि उसकी अपनी ही एक फैंटेसी बन गई थी. बाहर से देखकर या उससे मिलकर किसी को भनक नहीं लगती थी कि टेड भीतर से एक बेरहम कातिल था.
रॉबर्ट : हमें इसके बारे में और जानना चाहिए. मेरी गट फीलिंग है कि ये आदमी 'ग्रीन रिवर किलर' के बारे में ज़रूर जानता है.

यहां पढ़ें सीरियल किलर्स की सच्ची और बेहतरीन कहानियां



टेड का पहला हमला, जब वह कातिल नहीं बन सका
दोनों ने पुरानी फाइलें खोलीं तो टेड की कहानी सामने आई. 1973 में टेड को लॉ स्कूल में दाखिला मिला था लेकिन कुछ ही महीनों बाद उसने क्लास में जाना छोड़ दिया था. स्कूल की तरह ही कॉलेज में भी टेड एक दिलचस्प और हैंडसम लड़के के तौर पर जाना जाता था. वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी की 18 वर्षीय लड़की कैरन और टेड एक कार्यक्रम में मिल चुके थे जिसमें कैरन एक डांसर के तौर पर शामिल थी.
Loading...

कई बार टेड नज़र रखने के मकसद से कैरन के अपार्टमेंट तक जा चुका था. एक शाम कैरन के अपार्टमेंट के आसपास जब सन्नाटा था, तब टेड पहुंचा. एहतियातन नज़र रखते हुए उसने अपार्टमेंट का दरवाज़ा पूरी ताकत से खोला और अंदर दाखिल होते ही दरवाज़ा बंद कर दिया. कैरन को कुछ आहट सी महसूस हुई तो वह दबे पांव दरवाज़े की तरफ गई और दूसरी तरफ से टेड उसके बेडरूम में गया.

Serial killer story, worst serial killer, US news, killer of girls, green river killer story, सीरियल किलर, सीरियल किलर की कहानी, सबसे खतरनाक सीरियल किलर, अमेरिका समाचार, लड़कियों के हत्यारे

कैरन को दरवाज़े पर कोई नहीं दिखा तो वह बेडरूम की तरफ लौट रही थी. उसके लौटने तक के वक्त में टेड ने बिस्तर में लगी लोहे की एक रॉड निकाल ली थी. बेडरूम में दाखिल होते ही कैरन के सिर पर रॉड का ज़ोरदार हमला हुआ. उसके कान के पीछे से खून निकला और सन्न होकर कैरन बिस्तर के पास फर्श पर गिर पड़ी. एक तिरछी हंसी के साथ टेड ने कैरन को कुछ देर घूरा.

बेहोश पड़ी कैरन को उठाकर टेड ने बिस्तर पर पटका और उसके सारे कपड़े फाड़कर फेंक दिए. फिर टेड ने कैरन के साथ सेक्स की कोशिश की लेकिन चूंकि कैरन तकरीबन बेजान हो चुकी थी इसलिए उसे इसमें कोई मज़ा नहीं आया. टेड ने पानी छिड़ककर कैरन को होश में लाने की कोशिश की. उसे कुछ होश तो आया लेकिन उसका शरीर कोई हरकत नहीं कर सकता था. टेड ने कैरन के प्राइवेट पार्ट में उस रॉड से पहले छेड़खानी की और फिर हमले.

READ: सेक्स के बाद वेश्याओं को उतार देता था मौत के घाट

टेड ने कुछ देर बाद कैरन की सांस चेक की तो उसे लगा कि कैरन मर चुकी थी. फिर टेड हंसता हुआ वहां से चला गया. लेकिन कैरन ज़िंदा थी. दस दिनों तक वह कोमा में रही और उसके बाद जब कोमा की हालत से बाहर आई तो आवाज़ के साथ ही वह शरीर के कुछ हिस्सों से परमानेंट अपंगता की शिकार हो चुकी थी.

अपनी गलतियों से ही सीखकर बना खूंखार कातिल
रॉबर्ट : तो इसका मतलब ये कि अभी पहला कत्ल होना बाकी था?
डेव : हां, ये पहला कत्ल हो सकता था लेकिन जब टेड को पता चला कि कैरन ज़िंदा बच गई तो उसे खुद पर बेहद गुस्सा आया. ये कुछ ऐसा मामला था कि टेड को नाकामी का एहसास दिला रहा था कि जैसे वह अपनी ही मूर्खता से बाज़ी हार गया हो. इसलिए उसने गलतियों से सबक लेकर मन ही मन कसम खाई कि ऐसी गलती दोबारा नहीं होगी.

Serial killer story, worst serial killer, US news, killer of girls, green river killer story, सीरियल किलर, सीरियल किलर की कहानी, सबसे खतरनाक सीरियल किलर, अमेरिका समाचार, लड़कियों के हत्यारे
सीरियल किलर टेड बंडी.


रॉबर्ट और डेव ने टेड की और फाइलें पढ़ीं तो उन्हें पता चला कि कैरन के बाद उसने दूसरा हमला एक ही महीने बाद किया था. इस बार लड़की थी लिंडा लेकिन तरीका बिल्कुल वही था. अब उसने गलती नहीं दोहराई. जानलेवा हमला किया, फिर सेक्सुअल एक्ट करने के बाद लिंडा की लाश को वह अपनी कार में लेकर गया. एक वीरान सुनसान जंगल में उसने लिंडा की लाश को एक जगह पटका. लाश का सिर काटकर उसी जंगल में दूसरी जगह रखा.

नौजवान और पढ़ाई कर रहीं लड़कियां ही टेड की शिकार थीं. उन्हें तकरीबन एक ही तरह से मार डालना, फिर लाशों के साथ सेक्स करना, जंगल में जाकर लाशों का सिर काट लेना... ये टेड का एक पैटर्न था. यही नहीं, लाशों की खोपड़ियों को वह अक्सर अपने अपार्टमेंट में भी ले जाता था और उनके साथ सोया करता था. ये उसके लिए अपनी जीत के सबूत था और वह अपनी कामयाबी को इसी तरह एन्जॉय करता था.

जब टेड ने कहा 'मुझसा बेदर्द कमीना कोई नहीं है'
30 से 40 हत्याएं करने वाले इस कातिल की पूरी फाइलें रॉबर्ट और डेव देख चुके थे. कैसे वो एक से ज़्यादा बार पकड़ा गया था और कैसे पुलिस के कब्ज़े से भागकर भी उसने कत्ल किए थे. ये सब कुछ जानने के बाद रॉबर्ट और डेव ने टेड से मिलने की योजना बनाई. टेड जेल में बंद था और सज़ा ए मौत उसे दी जा चुकी थी लेकिन, मौत देने के तारीख तय नहीं हुई थी. 1984 में, जेल में ही जाकर रॉबर्ट और डेव उससे मिले.

रॉबर्ट : हलो टेड, कैसे हो तुम?
टेड : हाहाहा, इस सवाल का जवाब मैं भी पहले भी कई लोगों को दे चुका हूं. 'मैं इतना बेदिल, बेदर्द कमीना इंसान हूं, जितना तुम लोगों ने पहले कभी नहीं देखा होगा'. तुम लोग कहो, क्या चाहते हो?
डेव : हमें तुमसे एक काम है और वो काम सिर्फ तुम कर सकते हो.
टेड : क्या किसी लड़की का कत्ल करना है? जो तुम नामर्दों से हो नहीं पा रहा! हाहाहा...

रॉबर्ट और डेव को टेड की मदद चाहिए थी लेकिन यह इतना आसान नहीं था. टेड की क्रूरता और उसके मन के साथ तालमेल बिठा पाना टेढ़ी खी था. पहली कुछ मुलाकातों में टेड ने गुस्सा होकर दोनों को गालियां भी बकीं और वह अचानक इतना हिंसक भी हुआ कि रॉबर्ट और डेव को वहां से जाना पड़ा. लेकिन रॉबर्ट और डेव ने कोशिशें जारी रखीं. लगातार मुलाकातों के बाद टेड सुनने को तैयार हुआ.

Serial killer story, worst serial killer, US news, killer of girls, green river killer story, सीरियल किलर, सीरियल किलर की कहानी, सबसे खतरनाक सीरियल किलर, अमेरिका समाचार, लड़कियों के हत्यारे

रॉबर्ट : ये जो ग्रीन रिवर किलर है टेड, ये तुमसे भी ज़्यादा कमीना और खतरनाक है. ये कौन है? क्यों कत्ल कर रहा है? ये सब एक राज़ है. इस राज़ को खोलने में तुम मदद कर सकते हो.
टेड : तुम्हें क्या लगता है, मैं जानता हूं उसे? मैं नहीं जानता और मान लो मैं जानता हूं तो मैं क्यों करूं तुम्हारी मदद?
डेव : तुम उसे जानते नहीं हो लेकिन तुम एक कातिल के पैटर्न के बारे में जानते हो और यही समझना ज़्यादा ज़रूरी है. रही बात, क्यों करो मदद तो इसकी वजह तुम्हें ही तलाशना है.

'सीरियल किलर के लिए लाशें उसकी जायदाद होती हैं'
इसी तरह कई सेशन्स चलते रहे. रॉबर्ट और डेव एक रूटीन की तरह टेड से मिलते, बात करते लेकिन उनके काम की बात निकलने में वक्त लग रहा था. दोनों उन हमलों और कत्लों के बारे में टेड को डिटेल्स बताते जो ग्रीन रिवर किलर ने किए थे. एक दिन टेड के मुंह से अचानक निकला 'ओ रियली! ये तो मेरे लेवल का ही कातिल है..' बस यही एक ट्रिगर था, जहां से टेड से कुछ मदद मिल सकती थी.

रॉबर्ट : मुझे लगता है कि तुम्हारे लेवल से बहुत आगे का कातिल है ये. शायद तुम इसकी सोच तक नहीं पहुंच सकते.
टेड : तुम मुझे अपनी तरह बेवकूफ मत समझो ऑफिसर. तुम कुछ नहीं जानते हो सीरियल किलर के बारे में. तुम्हें क्या लगता है कि सीरियल किलर के लिए कत्ल करना क्या होता है?
डेव : एक शौक, एक नशा, जुनून या पागलपन...
टेड : बस! यहीं तक सोच सकते हो तुम लोग. तुम लोगों को अंदाज़ा भी नहीं है कि कत्ल के साथ सीरियल किलर जुड़ाव महसूस करता है. एक अधिकार, एक अपनापन. आप जिन्हें मारते हैं, वो आपकी जायदाद हो जाते हैं. आपकी कामयाबी के सबूत. आपके अपने, सबसे ज़्यादा अपने...

खून की खुशबू और लाश की गंध
टेड की आंखों में यह कहते हुए उदासी नहीं बल्कि एक चमक थी जैसे अपने सुनहरे दिनों को वो याद कर रहा था. रॉबर्ट और डेव इन बातों को सुनकर हैरान तो थे लेकिन अपनी हैरानी छुपाने की कोशिश कर रहे थे.

Serial killer story, worst serial killer, US news, killer of girls, green river killer story, सीरियल किलर, सीरियल किलर की कहानी, सबसे खतरनाक सीरियल किलर, अमेरिका समाचार, लड़कियों के हत्यारे

टेड : जिस जगह एक सीरियल किलर किसी का कत्ल करता है और जिस जगह वो लाश रखता है, वो जगह उसके लिए किसी तीर्थ से कम नहीं होती. एक ऐसा तीर्थ जिसे देखने और छूने की इच्छा हमेशा बनी रहती है.
डेव : ऐसा भी तो हो सकता है कि ये सब तुम्हारी फैंटेसी हो? सिर्फ तुम्हारे साथ हुआ हो?
टेड : तुमने कभी कत्ल नहीं किया ऑफिसर इसलिए चुप रहो और सिर्फ समझने की कोशिश करो. खून की खुशबू से बड़ा चैलेंज देती है लाश की गंध. सीरियल किलर बड़ा चैलेंज लेता है. ज़िंदा जिस्म से ज़्यादा गर्मी देता है ठंडा होता जा रहा गोश्त... तुम लोग इन बातों को कैसे समझोगे?
रॉबर्ट : तो तुम कहना चाहते हो कि हर सीरियल किलर ऐसा ही करता है?

अपने 'तीर्थ' पर लौट कर आता है सीरियल किलर!
रॉबर्ट ने एक चाल के तहत टेड से बात निकलवाने की कोशिश की थी और उसे उम्मीद तो थी लेकिन डर भी था कि उसकी चाल फिर उल्टी न पड़ जाए. लेकिन, टेड उनके काम आने ही वाला था.

टेड : सारे सीरियल किलर ऐसा ही करें, यह ज़रूरी नहीं. सबके मकसद ही पैटर्न तय करते हैं. लेकिन, जैसा तुम लोगों ने बताया वो रिवर? ग्रीन रिवर किलर, वो ऐसा ही करेगा. वो अपने तीर्थ पर लौटेगा ज़रूर. जिसे तुम सेक्स या सेक्सुअल एक्ट कहते हो, वो उसके लिए वैसा ही है जैसा तुम लोगों के लिए कोई साधना करना. वो अपने तीर्थ पर जाकर साधना करेगा.
डेव : तो अगर उस जगह नज़र रखी जाए तो...
टेड : बहुत ज़्यादा सड़ चुकी लाशों पर नज़र रखने का कोई फायदा नहीं. मांस न बचे तो गर्मी नहीं मिलती और मांस छूटकर चिपकने भी लगता है इसलिए पुरानी लाशें नहीं, ताज़ा लाश. कोई ताज़ा लाश खोजो, जो उसने हाल ही फेंकी हो. उस ताज़ा लाश के पास वो जल्द लौटेगा और... उसे पता न चले कि तुम नज़र रख रहे हो, वरना वो तुमसे ज़्यादा तेज़ है.

रॉबर्ट और डेव को हालांकि टेड की बातें बहुत अटपटी लगी थीं लेकिन उन्होंने एक दांव खेलना मुनासिब समझा. जैसा टेड ने कहा था, दोनों ने अपनी टीम के साथ मिलकर एक ऐसी जगह और ताज़ा लाश खोज ली थी. सब छुपकर कुछ रातों तक वहां नज़र रखने को तैयार थे लेकिन इस एहतियात के साथ कि अगर ग्रीन रिवर किलर वहां आए, तो उसे खटका न लगे.

Serial killer story, worst serial killer, US news, killer of girls, green river killer story, सीरियल किलर, सीरियल किलर की कहानी, सबसे खतरनाक सीरियल किलर, अमेरिका समाचार, लड़कियों के हत्यारे
ग्रीन रिवर किलर के नाम से कुख्यात गैरी रिजवे.


सबकी हैरत का कोई ठिकाना नहीं रहा, जब सच में ऐसा हुआ कि ग्रीन रिवर किलर उस ताज़ा लाश के पास पहुंचा और उस लाश के साथ उसने सेक्सुअल एक्ट की कोशिश की. एक तो पूरी टीम हैरत और घिन महसूस कर रही थी और दूसरे उन्हें निर्देश थे कि कोई जल्दबाज़ी में हमला नहीं करेगा, इसलिए उस रात ग्रीन रिवर किलर को पकड़ा नहीं जा सका और वह भागने में कामयाब रहा. लेकिन, टेड की बात सही साबित हुई थी और इस सीरियल किलर का पैटर्न व पहचान के कुछ सबूत मिल चुके थे.

अगली कुछ कोशिशों के बाद जांच अफसर ग्रीन रिवर किलर तक पहुंच गए. हालांकि 1989 में टेड को सज़ा ए मौत दिए जाने के सालों बाद ग्रीन रिवर किलर यानी गैरी रिजवे गिरफ्त में आ सका लेकिन, टेड के दिए क्लू ही इस पूरी जांच की धुरी बने.

(यह कहानी मीडिया में रही खबरों पर आधारित है, जिसमें नाम वास्तविक हैं.)

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

अपराध की और कहानियों के लिए क्लिक करें

प्यार में इंतकाम: प्रेमिका की शादी के बाद गिरीं एक के बाद एक 30 लाशें !
उसे अब भी सपनों में सुनाई देती है पति की वही आवाज़ - 'KILL HER..'
कलंक कथा: ज़मीनों पर कब्ज़े, सूदखोरी जैसे कई काले धंधों का खिलाड़ी निकला भ्रष्ट IRS अफसर

PHOTO GALLERY : तीन कत्ल, जिनकी मास्टरमाइंड थी एक हसीना!
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर