कितनी लाशों पर खड़ा होकर ऊंचा उठता गया ये 'बौना' उर्फ एल चापो?

नार्को टेररिज़्म या अमेरिका में ड्रग्स अंडरवर्ल्ड का दूसरा नाम बन चुके एल चापो के बारे में चौंकाने वाले खुलासों का सिलसिला जारी है. ड्रग्स माफियाओं के बीच गैंग वॉर और चापो की वर्चस्व की लड़ाई में हुए कत्लों की दास्तान.

Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: February 7, 2019, 8:51 PM IST
कितनी लाशों पर खड़ा होकर ऊंचा उठता गया ये 'बौना' उर्फ एल चापो?
न्यूज़ 18 हिंदी क्रिएटिव.
Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: February 7, 2019, 8:51 PM IST
सदी के सबसे खतरनाक और सबसे शक्तिशाली ड्रग्स माफिया माने जा रहे एल चापो का ट्रायल जारी है. इस ट्रायल में चापो का कच्चा चिट्ठा सामने आ रहा है. दुनिया के सबसे बड़े ड्रग्स माफिया चापो पर दर्जनों कत्ल का इल्ज़ाम है. किसी को उसने इसलिए मरवा दिया कि उसने उससे 'हैंड शेक' नहीं किया, तो किसी को इतनी गोलियां मारीं कि उसका सिर गर्दन से अलग हो गया!

READ : चापो ने ऐसे खड़ा किया नार्को अंडरवर्ल्ड

गॉडफादर फिल्म आपने देखी होगी या इटली के माफिया पर बनीं कुछ और फिल्में, लेकिन ये किसी फिल्म का सीन नहीं बल्कि हकीकत थी. मैक्सिको में उस गुमनाम जगह पर ड्रग्स माफिया की मीटिंग चल रही थी, जहां पुलिस तो दूर, परिंदा भी पर नहीं मार सकता था. हर तरफ अंधेरा फैला था, एक डरावना सन्नाटा पसरा था. स्पॉटलाइट्स के ज़रिये सिर्फ कुछ लोगों पर रोशनी पड़ रही थी. बाकी लोग गोलमेज़ के चारों तरफ बैठे हुए थे. इस मीटिंग में एक समझौता होना था.

मैक्सिको के सीनालोआ सूबा एक तरह से ड्रग्स का ज़जीरा बन चुका था. कहा जाने लगा था कि यहां जहां कुदाल मारी जाए, ड्रग्स का जखीरा बरामद होगा. कई तरह के गैंग्स ड्रग्स के कारोबार में तेज़ी से अपनी साख बना रहे थे. एक गैंग था चापो का और दूसरा बदनाम गैंग था 'ज़ीटाज़'. ज़ीटाज़ का साथी था रोडोल्फो और इसलिए उसके और चापो के बीच जानलेवा दुश्मनी थी.

इल्ज़ाम बर्दाश्त नहीं करता चापो
इस दुश्मनी में दोनों तरफ कई बार भारी नुकसान हो चुका था और कुछ जानें जा चुकी थीं. इस गैंग वॉर को रोकने के लिए और दोनों गैंग्स के बीच शांति का माहौल बनाने के लिए साल 2004 में ये मीटिंग बुलाई गई थी. चापो के पार्टनर और बदनाम ड्रग्स माफिया इस्माइल ने चापो और रोडोल्फो के बीच समझौते के लिए ये कोशिश की थी.

Drugs mafia, underworld of America, story of underworld don, mexican mafia, story of el chapo, ड्रग्स माफिया, अमेरिका का अंडरवर्ल्ड, अंडरवर्ल्ड डॉन की कहानी, मैक्सिकन माफिया, एल चापो की कहानी
Loading...

इस्माइल : गैंग वॉर यानी आपसी रंजिश का फायदा कुछ ऐसे लोग उठाते हैं, जो हम सबको मिटा देने के मंसूबे रखते हैं. हम सभी के हक़ में यही है कि इस दुश्मनी को खत्म किया जाए और इसके रास्ते खोजने के लिए ही हम यहां हैं.
ज़ीटाज़ : हमारी तरफ से दुश्मनी नहीं है, हमने हर बार बस जवाब दिया है.
चापो का राइट हैंड : चापो को झूठ और इल्ज़ाम अच्छे नहीं लगते...
इस्माइल : हम यहां गड़े मुर्दे उखाड़ने नहीं आए हैं जेंटलमेन... मुझे उम्मीद है कि हम इतने समझदार हैं कि इस कारोबार के सुनहरे कल का अंदाज़ा लगा सकते हैं. अगर हम एक ताकत बन जाएं तो फायदा सभी का है.

चापो ने हाथ बढ़ाया लेकिन उसने हाथ नहीं मिलाया!
इस बीच, इस्माइल की पूरी कोशिश थी कि मीटिंग ठीक नतीजे पर पहुंचे. चापो अपनी बददिमागी और तेवर के लिए बदनाम था लेकिन वो भी इस मीटिंग के हक़ में था. इधर, रोडोल्फो समझौता तो चाहता था, लेकिन किसी कीमत पर नुकसान नहीं. बल्कि, उसकी ज़िद थी कि वह चापो के सामने झुकेगा नहीं. उसे बराबर का हिस्सा और ताकत चाहिए थी.

रोडोल्फो : समझौता हो सकता है, अगर हमारी शर्तें चापो को कबूल हों तो!
इस्माइल : तुम जानते हो रोडोल्फो कि ताली दोनों हाथ से बजती है. एक हाथ अगर ज़िद पर अड़ जाए तो बात बिगड़ जाती है. समझौते का मतलब ही है, दूसरे हाथ को तवज्जो देना.
रोडोल्फो : यही जुमला उस तरफ भी उछालिए जनाब, हम तो पहले ही बहुत भुगत चुके हैं. अब तवज्जो के हक़दार हम हैं.

सबकी नज़रें चापो की तरफ लगी हुई थीं. चापो ने अपना ड्रिंक खत्म करने के बाद अपने अंदाज़ में सिगार जलाया और वह अपनी कुर्सी से उठा. चापो के उठते ही बाकी लोग भी उठ गए और सबको लगा कि चापो की तरफ से ये डील नामंज़ूर हो गई. रोडोल्फो अपनी कुर्सी पर बैठा हुआ था. वो चापो के चमचों की तरह उसे इज़्ज़त नहीं देना चाहता था. चापो धीमे कदमों के साथ रोडोल्फो की कुर्सी की तरफ बढ़ा.

सब देख रहे थे और चापो व रोडोल्फो के आदमियों के हाथ कोट के अंदर अपनी—अपनी पिस्तौल पर मुस्तैद हो चुके थे. किसी भी वक्त कुछ भी हो सकता था. रोडोल्फो के पास जब चापो पहुंचा तब रोडोल्फो खड़ा हुआ. चापो ने हाथ मिलाने के लिए हाथ बढ़ाते हुए कहा —

'हमारी बराबरी करना आसान काम नहीं है और मुश्किल काम करने वाले मुझे पसंद हैं. मुबारकबाद कबूल करो...'

फिल्म खत्म हुई और उधर रोडोल्फो की ज़िंदगी
अब चापो के इस जुमले में रोडोल्फो की शर्तों को मंज़ूरी थी कि नहीं? रोडोल्फो के लिए धमकी थी कि नहीं? इन्हीं तमाम उलझनों के चलते रोडोल्फो गुस्से में आकर चापो से हाथ मिलाए बगैर वहां से चला गया. चापो के चेहरे पर एक टेढ़ी मुस्कान थी. उसने अपने राइट हैंड की तरफ देखा और आंखों से ही एक इशारा किया. उधर, रोडोल्फो के लोगों ने सिक्योरिटी का और ज़्यादा इंतज़ाम किया क्योंकि रोडोल्फो के इस कदम के बाद चापो ज़रूर हमला करने वाला था.

Drugs mafia, underworld of America, story of underworld don, mexican mafia, story of el chapo, ड्रग्स माफिया, अमेरिका का अंडरवर्ल्ड, अंडरवर्ल्ड डॉन की कहानी, मैक्सिकन माफिया, एल चापो की कहानी

लेकिन, अंदेशे के उलट, कुछ दिन ऐसे गुज़र गए कि रोडोल्फो और उसके गैंग को लगा कि चापो की तरफ से अब कुछ नहीं होगा. उधर, चापो के गैंग को यही इंतज़ार था कि रोडोल्फो ज़रा सा लापरवाह हो जाए. ऐसा ही मौका था, जब सीनालोआ की राजधानी कुलियाकन के एक थिएटर में रोडोल्फो अपनी बीवी के साथ एक फिल्म देखने गया था.

दोनों फिल्म देखकर थिएटर से बाहर निकल रहे थे और तभी एक शूटआउट हुआ. ताबड़तोड़ गोलियां चलीं और कुछ ही पलों के बाद उस थिएटर के फर्श पर रोडोल्फो और उसकी बीवी की लहूलुहान लाशें पड़ी थीं. ये खबर अंडरवर्ल्ड में आग की तरह फैली और चंद मिनटों बाद इस्माइल ने चापो को फोन किया.

इस्माइल : थिएटर के बाहर जो कुछ हुआ चापो, क्या अंडरवर्ल्ड में इसे जायज़ माना जाएगा?
चापो : चापो हाथ बढ़ाए और कोई हाथ न मिलाए, अंडरवर्ल्ड में नाजायज़ सिर्फ यही है इस्माइल.

चापो का हुक्म न मानना गुनाह है!
मैक्सिको के ड्रग्स के बादशाह कहे जाने वाले चापो पर 30 से ज़्यादा हत्याओं का इल्ज़ाम है. रोडोल्फो के कत्ल के एक साल बाद जूलियो को मौत के घाट उतारे जाने की कहानी चापो की बादशाहत और वर्चस्व को फिर बयान करती है. जूलियो काफी वक्त तक अंडरवर्ल्ड में चापो के साथ काम कर चुका था. साल 2005 में हालांकि जूलियो अलग से काम करता था लेकिन चापो के बीच नहीं आता था.

उसी साल चापो ने कोकीन के एक कंसाइनमेंट के लिए जूलियो को हुक्म दिया था. एकापल्को से कोकीन से लदे एक जहाज़ की खेप जूलियो को पहुंचानी थी. 'ये अंडरवर्ल्ड में चापो की ज़्यादती है कि वह छोटे माफियाओं का खून चूसता है.' यही सोचकर जूलियो ने चापो का हुक्म मानने से इनकार किया और वो खेप नहीं पहुंचाई. जैसे ही ये खबर चापो की मिली तो उसने अपने शूटरों को इशारा किया.

'उसने चापो के सामने सिर झुकाने से इनकार किया. उसका सिर झुकना चाहिए.' चापो के इस हुक्म के बाद उसके शूटरों ने जूलियो को थोड़ी ही देर में खोज निकाला और फिर उसे निशाना बनाया. चापो के हुक्म के मुताबिक जूलियों के सिर और गले में इतनी गोलियां मारी गईं कि उसका सिर गर्दन से तकरीबन अलग होकर लटककर रह गया.


चापो की दहशत के किस्से और भी हैं
मैक्सिको के अंडरवर्ल्ड में छोटे कद के चापो की दहशत 90 के दशक से शुरू हुई थी और बीस से पच्चीस सालों तक चापो इस काली दुनिया का बेताज बादशाह बनकर रहा. स्पैनिश में बौने या नाटे को चापो कहा जाता है इसलिए जोक्विन गज़मैन लोएरा को चापो नाम से पुकारा जाता रहा. वैसे, चापो के गैंग के कत्लों और चापो के कारण हुए गैंगवॉर्स में मारे गए लोगों का आंकड़ा हज़ारों में है. चापो के करीबी इस्माइल ज़ंबाडा के भाई जीसस ज़ंबाडा ने सरकारी गवाह के तौर पर चापो के खिलाफ चौंकाने वाले खुलासे किए. जीसस के मुताबिक 30 से ज़्यादा हत्याएं चापो के इशारे पर हुईं जिनमें से एक पुलिस अफसर की हत्या भी थी.

Drugs mafia, underworld of America, story of underworld don, mexican mafia, story of el chapo, ड्रग्स माफिया, अमेरिका का अंडरवर्ल्ड, अंडरवर्ल्ड डॉन की कहानी, मैक्सिकन माफिया, एल चापो की कहानी

चापो के खिलाफ जांच टीम में रहा एक अफसर चापो की दहशत में आ चुका था. खौफ का आलम यह था कि वह अफसर अपने घर से बाहर निकलने में डरने लगा था. सहमा हुआ अपने घर में दुबका रहता था. साल 2004-05 की एक रात उसके घर के दरवाज़े पर एक शोर मचा. कुछ लोगों ने चिल्लाकर उस अफसर को बाहर बुलाया, यह कहकर कि उसके बेटे को एक गाड़ी ने कुचल दिया था.

ये आवाज़ें सुनकर जैसे ही वो पुलिस अफसर घर से बाहर निकला, चापो के शूटरों ने उसे गोलियों से भून दिया. इनके अलावा, चापो के भाई अरटूरिटो, रोडोल्फो के भाई अमाडो के कत्ल के पीछे भी चापो का हाथ होने का इल्ज़ाम है. सरकारी गवाह बन चुके जीसस ने कोर्ट में जब चापो पर इन हत्याओं के इल्ज़ाम लगाए, तब वकील ने हैरत से जवाब मांगा -

'इसका मतलब कि चापो के कहर से कोई नहीं बचा. उसके अपने, उसके दुश्मन... सब उसके शिकार हुए. और सिर्फ तुम ज़िंदा रह गए?'
'मैं क्या कहूं! मैं ज़िंदा हूं, इसे मेरी खुशकिस्मती ही समझिए!'

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

अपराध की और कहानियों के लिए क्लिक करें

खुदकुशी से पहले के वो ख़त : वो खुला घूमे, मैं घर में गाय जैसी बंधी रहूं?
अफीम विरासत थी, गांजा शुरूआत, फिर उसने खड़ा किया नार्को अंडरवर्ल्ड
खुदकुशी से पहले के वो ख़त : चर्चित कवि के सेक्स और धोखे के दस्तावेज़

PHOTO GALLERY : तीन कत्ल, जिनकी मास्टरमाइंड थी एक हसीना!
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

काम अभी पूरा नहीं हुआ इस साल योग्य उम्मीदवार के लिए वोट करें

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

Disclaimer:

Issued in public interest by HDFC Life. HDFC Life Insurance Company Limited (Formerly HDFC Standard Life Insurance Company Limited) (“HDFC Life”). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI Reg. No. 101 . The name/letters "HDFC" in the name/logo of the company belongs to Housing Development Finance Corporation Limited ("HDFC Limited") and is used by HDFC Life under an agreement entered into with HDFC Limited. ARN EU/04/19/13618
T&C Apply. ARN EU/04/19/13626