हर बीच पर घर, हीरों जड़ी पिस्तौल... ये थी चापो की आलीशान लाइफस्टाइल

हर बीच पर घर, हीरों जड़ी पिस्तौल... ये थी चापो की आलीशान लाइफस्टाइल
एल चापो. सांकेतिक चित्र.

मैक्सिकन नार्को टेररिज़्म यानी अमेरिका में ड्रग्स अंडरवर्ल्ड का दूसरा नाम बन चुके एल चापो की ज़िंदगी जोखिम भरी होने के बावजूद अय्याशियों और इतने ऐशो-आराम से कटी जैसे वह किसी मुल्क का राजा था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 18, 2019, 8:29 PM IST
  • Share this:
मैक्सिकन माफिया एल चापो के कई किस्सों के बीच उसकी लाइफस्टाइल का चर्चा जब कोर्ट में हुआ, तब ये खुलासा हुआ कि अपने शौक और आदतों पर चापो क्यों और कितना खर्च करता था. वक्त के साथ चापो का गिरोह तरक्की करता रहा और इसी के साथ उसकी लाइफस्टाइल में तब्दीलियां भी आती गईं. मैक्सिकन नार्को टेररिज़्म यानी अमेरिका में ड्रग्स अंडरवर्ल्ड का दूसरा नाम बन चुके एल चापो की अय्याशी भरी ज़िंदगी किसी बादशाह की कहानी से कम भव्य नहीं थी.

READ: दुश्मनों को ज़िंदा दफनाता था चापो!

साल 1985 से 87 के बीच के वक्त में चापो का दौर शुरू हुआ था. तब उसके पास ताकत और दौलत की चाबी तो थी लेकिन अपने शौक पूरे करने जैसी कोई संपत्ति उसके पास नहीं थी लेकिन कुछ ही सालों में यानी 90 के दशक में चापो के अपने पर्सनल चार जेट थे. इन जेट्स के लिए बाद में उसने अपनी हवाई पट्टियां भी बनवाईं और लैंडिंग व उड़ान के लिए पर्सनल हवाई अड्डे भी, जो गुप्त भी थे.



READ: बीवियों, महबूबाओं की जासूसी करता था 'बौना'
प्रॉपर्टी, गाड़ियां, हथियार, नशा और ट्रैवलिंग हर बात एक तरफ चापो की ज़रूरत या धंधे से भी जुड़ी थी तो उसके शौक से भी. चापो ने धंधे और शौक को मिक्स नहीं किया लेकिन एक साथ दोनों के लिए स्कोप हमेशा निकाला.

बंगलों और गाड़ियों का शौक
चापो पूरी सुविधा और तकनीक के साथ रहने का शौकीन था और साथ ही, प्रॉपर्टी बनाते जाने का भी. उसके कुछ खास साथी सीनालोआ कार्टेल के उसके प्रॉफिट से उसके लिए लगातार प्रॉपर्टी खरीदा करते थे. फार्महाउस, बीचहाउस, वेयरहाउस, बंगले और क्रूज़ जैसी कई संपत्तियों का मालिक चापो अपने मन और वक्त की नज़ाकत के हिसाब से अपनी पसंदीदा जगहों पर वक्त गुज़ारता था.

READ: कितनी लाशों पर खड़ा है बौना?

el chapo guzman, chapo guzman, escobar, pablo escobar, el chapo prison, एल चापो की कहानी, Drugs mafia, underworld of America, story of underworld don, mexican mafia, story of el chapo, ड्रग्स माफिया, अमेरिका का अंडरवर्ल्ड, अंडरवर्ल्ड डॉन की कहानी, मैक्सिकन माफिया

मैक्सिको के हर बीच पर चापो का एक बीच हाउस होना कहा जाता है. गुआडालजारा प्रांत में चापो का जो बंगला है, वो इतना आलीशान है कि उसमें टेनिस कोर्ट, स्वीमिंग पूल के साथ ही एक पूरा चिड़ियाघर भी है. काफी बड़े हिस्से में बने इस ज़ू में शेर, चीते, तेंदुए और हिरण जैसे जानवर तो हैं, एक छोटी सी ट्रेन भी चलती है. ये सब चापो की निजी संपत्ति है. चापो की आलीशान और महंगी गाड़ियों की कोई गिनती नहीं है. महंगे और बेहतरीन हर ब्रांड की दर्जनों गाड़ियां चापो के पास रही हैं और कई तो कस्माइज़्ड हैं.

हीरों से नाम लिखे हथियार
ड्रग्स के साथ ही, हथियारों की डीलिंग भी चापो के गिरोह सीनालोआ कार्टेल का धंधा रहा था. गिरोह के लिए भी हथियारों की खरीद फरोख़्त की जाती थी और तस्करी के लिए भी. चापो खुद भी हथियारों का शौकीन रहा था. चापो के पास कई पर्सनल बंदूकें थीं जिन पर उसके असली नाम जोक्विन गज़मैन लोएरा का शॉर्ट फॉर्म 'जेजीएल' लिखा हुआ था. इनमें ही एक स्पेशल पिस्तौल थी जिस पर यह नाम हीरों से लिखा था और इस पिस्तौल में कीमती हीरों की मीनाकारी भी थी.

READ : ये है 'बौने' का 'लॉलीपॉप'

चापो के पास उसका नाम लिखे एके 47, एम 16 जैसे हथियार भी थे और हथगोले, बुलटप्रूफ जैकेट्स भी उसके शौक रहे. इसके साथ ही, चापो के सुरक्षा घेरे में कम से कम 25 पिस्तौलधारी यानी पिस्टलर चला करते थे. इन सबके पास खास किस्म की महंगी पिस्तौलें हुआ करती थीं. कहा जाता है कि एक बार जब चापो को गिरफ्तार किया गया था, तो उसके सुरक्षा घेरे में उसके 100 पिस्टलर चल रहे थे.

el chapo guzman, chapo guzman, escobar, pablo escobar, el chapo prison, एल चापो की कहानी, Drugs mafia, underworld of America, story of underworld don, mexican mafia, story of el chapo, ड्रग्स माफिया, अमेरिका का अंडरवर्ल्ड, अंडरवर्ल्ड डॉन की कहानी, मैक्सिकन माफिया
चापो के इनिशियल लिखी पिस्तौल की तस्वीरें खास तौर से अमेरिकी और मैक्सिकन मीडिया में आई.


औरतें, शराब, जुआ और तोहफे
चापो की महंगी लाइफस्टाइल की एक वजह ये भी कही जाती है कि उसकी कम से कम चार बीवियां थीं और कई महबूबाएं और बेशुमार लड़कियां, जो कुछ वक्त के लिए चापो की ज़िंदगी में आती रहती थीं. इन तमाम औरतों पर लुटाने के लिए उसके पास वक्त से ज़्यादा दौलत ही थी. हर औरत को उसकी हैसियत के हिसाब से महंगे तोहफे देना चापो की फितरत थी और बीवियों के लिए तमाम सुख सुविधाएं जुटाना उसका फर्ज़ था इसलिए उसकी लाइफस्टाइल में इतनी चकाचौंध थी.

व्हिस्की, बीयर और ब्रांडी के खास ब्रांड चापो के लिए हर वक्त, हर जगह मौजूद रहा करते थे. जुआ खेलना चापो की आदत में नहीं था लेकिन शौक था. इस शौक को पूरा करने के लिए चापो खास तौर से वक्त निकाला करता था. कभी मैक्सिको में कानूनी 'मुर्गों की लड़ाई' पर जुआ खेलता था तो कभी मकाउ जाकर कसीनो में तो कभी दुनिया के किसी और कोने में.

तोहफे देने में भी चापो एक तरह से सनकी था. अपने किसी खास साथी को हीरों जड़ी रोलेक्स घड़ी गिफ्ट करना उसकी फितरत थी. एक बार उसने अपने खास लोगों को थंडरबर्ड, कूगर और बुइक्स जैसी 50 गाड़ियां गिफ्ट कर दी थीं. तब एक गाड़ी की कीमत औसतन 35 हज़ार डॉलर की थी.

ट्रैवलिंग और कुछ अजीब शौक
पूरी दुनिया घूमना चापो का शौक था. अपने कारोबार के सिलसिले में वह अपने खास साथियों के साथ अक्सर घूमा करता था. अमेरिका, यूरोप और एशिया के कई देशों की यात्राएं करते हुए उसने अक्सर फर्ज़ी दस्तावेज़ों और नामों का इस्तेमाल किया. खास और महंगी 'व्हाइट हेरोइन' के लिए थाईलैंड की यात्रा की, तो स्विटज़रलैंड की एक गुप्त यात्रा के दौरान चापो ने एक खास सर्जरी करवाई थी ताकि वह लंबी उम्र तक जवान रह और दिख सके.

'गॉडफादर' के गैंग में 'गेम ऑफ थ्रोन्स'

साथ ही, चापो ने अमेरिका और यूरोप से मशीनें खरीदकर अपने गुप्त ठिकानों पर रखी थीं जिनके ज़रिये वह फर्ज़ी दस्तावेज़ तैयार करता था. अपने और अपने कुछ खास साथियों के लिए जाली पासपोर्ट, जाली आईडी और यहां तक जाली अमेरिकी वीज़ा तक इस मशीन से बनाया जाता था.

अलावा इसके, चापो के कुछ अजीब शौक थे. वह अपनी बीवियों, महबूबाओं, दोस्तों और कुछ दुश्मनों के फोन और लैपटॉप पर वायरटैपिंग के ज़रिये नज़र रखता था. उसने गुप्त सुरंगें बनवाई थीं जो आड़े वक्त उसके काम आती थीं. उसके सेफहाउस यानी गुप्त अड्डों पर बहुत कुछ रहस्यमयी था, जो उसके भागने में मददगार साबित होता था.

सिनेमा और सेलिब्रिटीज़ से इंप्रेस्ड था चापो
चापो को सिनेमा देखने नहीं बल्कि सिनेमा के सेलिब्रिटीज़ में दिलचस्पी थी. चापो चाहता था कि उसकी ज़िंदगी पर एक बड़ी और भव्य बजट की एक फिल्म बने. इस सिलसिले में उसने कई तरह के लोगों से बातचीत भी की थी. वह खुद इस फिल्म में एक कलाकार या निर्देशक के रूप में जुड़ना चाहता था. बहरहाल, यह योजना तो नाकाम हुई लेकिन नेटफ्लिक्स पर 'नार्को' शीर्षक से बनी सीरीज़ चापो पर ही आधारित है.

el chapo guzman, chapo guzman, escobar, pablo escobar, el chapo prison, एल चापो की कहानी, Drugs mafia, underworld of America, story of underworld don, mexican mafia, story of el chapo, ड्रग्स माफिया, अमेरिका का अंडरवर्ल्ड, अंडरवर्ल्ड डॉन की कहानी, मैक्सिकन माफिया
मैक्सिकन एक्ट्रेस केट डेल और हॉलीवुड कलाकार शॉन पेन के साथ चापो की तस्वीरें भी मीडिया में रहीं.


सिनेमा के कलाकारों से चापो खासा आकर्षित था. हॉलीवुड के मशहूर कलाकार शॉन पेन के साथ चापो की मुलाकात और इंटरव्यू खासा चर्चा में रहा. एक मैक्सिकन एक्ट्रेस केट डेल के साथ चापो की आशिकी के किस्से खबरों में रहे. इसके साथ ही कई कलाकारों के साथ उसका मेलजोल बना रहा. यह भी सुर्खियों में रहा कि 'नार्को' सीरीज़ में चापो का रोल निभा रहा मैक्सिकन एक्टर एलेजेंड्रो जब चापो के ट्रायल के वक्त कोर्ट में असली चापो को देखने आया था, तब चापो ने उसे देखकर एक मुस्कान और आंखों से ऐसा इशारा किया था जिसका मतलब निकाला गया कि वह एलेजेंड्रो की अदाकारी से खुश था.

और आखिरकार सब कुछ पर्सनलाइज़्ड था
हमेशा जवान या सेक्सुअल ताकत के लिए चापो के लिए स्पेशल फूड का इंतज़ाम होता था. इस खाने में कुछ ऐसी दवाएं मिलाई जाती थीं कि उसकी सेक्सुअल पावर बरकरार और बेहतर रहे. स्पेशल जूते, स्पेशल जैकेट और पसंदीदा ब्रांड के स्पेशल कपड़े यानी सब कुछ उसकी ज़रूरत और पसंद के हिसाब से डिज़ाइन करवाया जाता था. पिछले दिनों ट्रायल के दौरान कोर्ट में सरकारी गवाह के तौर पर पेश हुए चापो के खास साथी रहे मार्टिनेज़ ने चापो की लाइफस्टाइल के बारे में तमाम बातें बयान कीं.

इस पूरी लाइफस्टाइल में सबसे अजीब या खास शौक था म्यूज़िक. चापो को आम या लोकप्रिय म्यूज़िक में कोई दिलचस्पी नहीं थी. उसे वो गाना चाहिए था, जो उसके लिए हो. अपने इस शौक का पूरा करने के लिए चापो ने तकरीबन एक बैंड बनवाया था जिसका नाम था ' नार्कोकॉरिडोज़'. इसमें ड्रग्स और चापो से जुड़े खास बोल लिखकर गाने तैयार किए जाते थे. 200 से 5 लाख डॉलर तक का भुगतान इस म्यूज़िक को तैयार करने वाले कलाकारों को किया जाता था. म्यूज़िक के नाम पर चापो बस यही गाने सुनता था.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

अपराध की और कहानियों के लिए क्लिक करें

सर्वेश की बीवी ने नेमप्लेट पर क्यों लिख दिया 'विजेता, W/O अंकुर चौहान'?
जब अपने ही बन जाते हैं दुश्मन! 'गॉडफादर' के गैंग में 'गेम ऑफ थ्रोन्स'
चापो का साम्राज्य: 700 करोड़ में प्रेसिडेंट बिका, हर महीने 7 करोड़ में कई अफसर

PHOTO GALLERY : चापो की आशिकी, अय्याशियों और रेप के किस्से
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading