लाइव टीवी

Jewel Thief: विंको और दुनिया के बदनाम पिंक पैंथर गिरोह का कच्चा चिट्ठा

Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: May 18, 2018, 8:22 PM IST
Jewel Thief: विंको और दुनिया के बदनाम पिंक पैंथर गिरोह का कच्चा चिट्ठा
पिछले साल ब्रिटेन के चेल्सी में हीरे की तीन अंगूठियों की चोरी के मामले में एक संदिग्ध की तस्वीर जारी करते हुए जांच एजेंसियों ने फिर पिंक पैंथर लूट गिरोह की तरफ शक की सुई घुमा दी है. क्या है पिंक पैंथर गिरोह और क्यों है दुनिया में बदनाम? पढ़िए पूरी दास्तान.

पिछले साल ब्रिटेन के चेल्सी में हीरे की तीन अंगूठियों की चोरी के मामले में एक संदिग्ध की तस्वीर जारी करते हुए जांच एजेंसियों ने फिर पिंक पैंथर लूट गिरोह की तरफ शक की सुई घुमा दी है. क्या है पिंक पैंथर गिरोह और क्यों है दुनिया में बदनाम? पढ़िए पूरी दास्तान.

  • Share this:
आप जानते हैं यह तस्वीर किसकी है? और क्यों यह शख्स चर्चा में है? यह शख्स है विंको आॅस्माकिक. दुनिया के बदनाम ज्वैल थीफ गैंग पिंक पैंथर के सदस्य रह चुके विंको को पिछले साल चेल्सी आर्ट फेअर में स्पॉट किया गया और शक है कि यहां 2 मिलियन यूरो की कीमत वाली हीरे की तीन अंगूठियों की चोरी के पीछे यही हो सकता है.

वाकया ऐसा था कि पिछले साल यानी 2017 की 4 जुलाई को लंदन स्थित रॉयल हॉस्पिटल रोड पर रिटायरमेंट होम में एक ज्वैलरी आर्ट का कलेक्शन फेअर चल रहा था. यहां तीन खास अंगूठियां थीं जिनमें से एक में कुशन आकार का हीरा जुड़ा था, दूसरी में छोटे ओवल और गोल हीरों के बीच कुशन शेप का पीला पत्थर जड़ा था और तीसरी अंगूठी में पन्ने जैसे हीरे के साथ ही पर्पल और गुलाबी रंग के पत्थर और पिअर शेप के चार हीरे जड़े थे. इस प्रदर्शनी में बेशकीमती और मास्टरपीस ज्वैलरी की नुमाइश हो रही थी.

इसी नुमाइश में एक लंबा सा काले—सफेद बालों वाला आदमी दाखिल हुआ था जिसने नीले रंग की टीशर्ट और जीन्स पहना हुआ था. इस आदमी को वहां देखा गया और इसके वहां से गायब होते ही पाया गया कि वो तीनों अंगूठियां भी गायब हैं.



अमेरिका और यूरोप सहित दुनिया भर में बेशकीमती हीरे की ज्वैलरी की चर्चित चोरियों के पीछे माना जाने वाला क्रोएशिया का विंको पिछले साल चेल्सी में हुई चोरी के मामले में संदिग्ध और वॉंटेड है. मेट्रोपॉलिटन पुलिस ने विंको की तलाश के सिलसिले में यह तस्वीर जारी की है और अपील की है कि इस शख्स के बारे में सूचना दें. 2010 में इस बात की तस्दीक की गई थी कि विंको का पिंक पैंथर नेटवर्क के साथ संबंध है और वह बेसल, होनोलूलू और लास वेगास सहित कई जगहों पर हो चुकी चोरियों के मामलों में संदिग्ध है.



पिंक पैंथर, पिंक पैंथर गैंग, सबसे बड़ी चोरियां, हीरे की चोरी, ज्वैल थीफ, pink panther, pink panther gang, biggest jewellery theft, diamond theft, jewel thief

विंको पहले गिरफ्तार किया जा चुका है. इसका असली नाम क्या है इसे लेकर भी असमंजस है. जूरो मार्केलिक नाम के एक आदमी को जब गिरफ्तार किया गया तब उसने अपना मूल नाम विंको आॅस्माकिक बताया था. विंको नाम से ही केस चला. लेकिन पुलिस अफसरों का कहना है कि इसका यह नाम भी असली नहीं है. पिंक पैंथर के इस शातिर चोर को विंको टॉमिक नाम से भी जाना जाता है.

पिंक पैंथर नेटवर्क का फिल्म कनेक्शन

यह नाम हॉलीवुड की क्राइम कॉमेडी फिल्म सीरीज़ पिंक पैंथर के नाम पर रखा गया. इंटरपोल ने इस नेटवर्क को पिंक पैंथर का नाम दिया था. इसके पीछे वजह यह थी कि इस गैंग की चोरियों का अंदाज़ इस फिल्म से काफी हद तक प्रेरित दिखा था. इस गैंग ने लंदन में एक चोरी की थी जिसमें पकड़े गए चोर मिलान जॉवेटिक ने हीरे की एक अंगूठी की चोरी की निशानदेही की और वह अंगूठी उसकी गर्लफ्रेंड की फेसक्रीम की डिब्बी में छुपी पाई गई.

पिंक पैंथर, पिंक पैंथर गैंग, सबसे बड़ी चोरियां, हीरे की चोरी, ज्वैल थीफ, pink panther, pink panther gang, biggest jewellery theft, diamond theft, jewel thief
पिंक पैंथर फिल्म का सीन जिसमें फेस क्रीम से निकलता है हीरा.


बिल्कुल ऐसा ही एक सीन पिंक पैंथर फिल्म में था जिसमें यही तरकीब अपनाते हुए चोरी दिखाई गई थी. इसके अलावा एक अपराधी का स्पोर्टकोट पहनकर चोरी करना भी पिंक पैंथर फिल्म के दृश्यों के करीब था. इन तमाम समानताओं के कारण इस गैंग को यह नाम दिया गया और तबसे इस गैंग को पिंक पैंथर नेटवर्क के नाम से जाना जाता है.

3 मिनट 52 सेकंड में मिलेनियम नेकलेस चोरी

पिंक पैंथर के इस शातिर चोर के जिन चोरियों में शामिल रहने का शक है, उनमें से 2010 में हुई एक चोरी का किस्सा काबिले—ज़िक्र है.

साढ़े आठ बजे लास वेगास के एक ज्वैलरी स्टोर में एक आदमी दाखिल होता है. ब्रिटिश इंग्लिश एक्सेंट में बोलते हुए इस लंबे आदमी ने यूरोपियन स्टाइल का स्पोर्टकोट पहना है. स्टोर में आते ही यह आदमी सेल्सलेडी से बाहर डिस्प्ले में लगी ज्वैलरी के बारे में पूछता है. वह सेल्सलेडी उसके साथ बाहर डिस्प्ले केस की तरफ जाती है.

पिंक पैंथर, पिंक पैंथर गैंग, सबसे बड़ी चोरियां, हीरे की चोरी, ज्वैल थीफ, pink panther, pink panther gang, biggest jewellery theft, diamond theft, jewel thief
मिलेनियम नेकलेस, जो चोरी हुआ.


15 सेकंड के बाद दूसरा आदमी अंदर आता है. इसने बैरे पहना हुआ है. बैरे अमूमन हाथ से बुना हुआ वुलन या कॉटन का हैट होता है. वह दूसरी सेल्सलेडी का ध्यान खींचता है और वह उसे ज्वैलरी दिखाना शुरू करती है. चार सेकंड बाद दो और आदमी भीतर आते हैं. इस वक्त तक स्टोर का स्टाफ पूरी तरह से बिज़ी हो चुका है और कोई ध्यान नहीं दे पाता कि ये दो आदमी एक बड़े से डिस्प्ले केस के सामने सटकर खड़े हैं. किसी को भनक नहीं लगती कि कब वह केस खोला जाता है और कब वो दोनों आदमी स्टोर से निकल जाते हैं.

इन दोनों आदमियों के निकलते ही बैरे पहने हुआ आदमी भी निकल जाता है. आने के 3 मिनट 52 सेकंड बाद वह स्पोर्टकोट पहने हुए आया आदमी भी चला जाता है. अब स्टोर में कोई ग्राहक नहीं है और स्टाफ का ध्यान जाता है कि मिलेनियम नेकलेस गायब है. मिलेनियम नेकलेस प्लेटिनम, काले कोरल और 2 हज़ार हीरों से बना हुआ था जिसकी रिटेल कीमत 1 मिलियन डॉलर थी.

जांचकर्ता हुए हैरान

इस चोरी को बाद में जांचकर्ताओं ने क्लासिक डिस्ट्रैक्शन टीम थेफ्ट कहा यानी ध्यान भटका कर और टीम बनाकर की गई चोरी की मिसाल. जांचकर्ताओं ने कहा कि बिना किसी हथियार के, बिना किसी को कोई नुकसान पहुंचाए, बिना किसी किस्म का शोर मचाए इस तरह चोरी कर जाना वाकई हैरानी पैदा करता है. इसे कला ही कहा जाना चाहिए. एक जांचकर्ता ने यह भी कहा कि पिंक पैंथर नेटवर्क की यह चोरी इसलिए भी बाकी से अलग थी क्योंकि इसमें कोई हिंसा, तोड़फोड़ या मारपीट नहीं थी.

जांचकर्ताओं को यह शक भी रहा कि लास वेगास में इस गिरोह ने एक नहीं बल्कि दो बार बड़ी चोरियों को अंजाम दिया. इसके साथ ही, जांचकर्ताओं को इस बात से भी हैरानी हुई कि मिलेनियम चोरी जहां हुई वहां लगे कैमरों ने चार एंगल से तस्वीरें कैप्चर कीं लेकिन इसके बावजूद टेप में किसी भी आदमी को लोकेट नहीं किया जा सका. किसी आदमी ने फिंगरप्रिंट्स भी नहीं छोड़े.

चार चोरों में विंको कौन था?

इन चारों में जो पहला आदमी था जिसने स्पोर्टकोट पहना हुआ था, वह था विंको. एक जांचकर्ता ने जब विंको से पूछताछ की तो उसने कबूल किया कि उस चोरी के वक्त वह उस मॉल के भीतर था. उसके पासपोर्ट से पता चला कि उसका नाम जूरो मार्केलिक है और 47 साल का वह आदमी बोस्निया का रहने वाला है. जांचकर्ता ने बाद में कहा कि वह बहुत अच्छा बोलता था जैसे कोई मंझा हुआ खिलाड़ी हो. इसके बाद उस जांचकर्ता के सवालों के जवाब जब विंको ने नहीं दिए तो उसे गिरफ्तार किया गया. जेल स्टाफ को विंको ने बताया कि वह एक रसोइया है जिसकी मासिक कमाई करीब डेढ़ हज़ार यूरो की है.

पूछताछ में विंको ने जिस होटल रूम का ज़िक्र किया जहां वह रुका था. उस रूम में जब जांच टीम पहुंची तो उन्होंने देखा कि वहां क्वीन साइज़ के दो बेड और इसके अलावा भी कुछ कॉट थे और टीम को लगा कि चार लोगों के रहने के लिए यह जगह सही थी. टीम को तब हैरानी हुई जब उन्हें पूरे रूम में एक भी फिंगरप्रिंट नहीं मिला. एक जांचकर्ता का कहना था कि शायद उन्होंने सिर्फ 10 मिनट देर से पहुंचने के कारण सभी चोरों को पकड़ने का मौका गंवा दिया.

विंको और पिंक पैंथर नेटवर्क

कुछ पुलिस अधिकारियों का मानना रहा है कि विंको क्रोएशिया का रहने वाला है जबकि कुछ की थ्योरी है कि वह बोस्निया का है. पिछले साल चेल्सी में हुई चोरी के मामले में विंको पर शक जताने वाले जांचकर्ताओं का कहना है कि विंको पिछले 25 साल से पिंक पैंथर नेटवर्क का सदस्य रहा है और दुनिया भर में हुई हीरों की कई बड़ी चोरियों में शामिल रहा है.

इंटरपोल का अनुमान रहा है कि पिंक पैंथर नेटवर्क में 60 सदस्य हैं जो बड़ी साख रखते हैं जबकि दुनिया भर में फैले इस नेटवर्क में सैकड़ों चोर हो सकते हैं. यह अनुमान भी है कि 1999 से लेकर 2015 के बीच इस नेटवर्क ने बड़े ज्वैलरी स्टोर्स में करीब 380 हथियारबंद लूटों को अंजाम दिया है और चोरी हुई कुल ज्वैलरी की कीमत 334 मिलियन यूरो से ज़्यादा है.

पिंक पैंथर, पिंक पैंथर गैंग, सबसे बड़ी चोरियां, हीरे की चोरी, ज्वैल थीफ, pink panther, pink panther gang, biggest jewellery theft, diamond theft, jewel thief
पिंक पैंथर की एक चोरी का फुटेज


चेल्सी में हुई चोरी के मद्देनज़र एक जांचकर्ता ने हालिया बयान में कहा है कि वह एक साज़िश के तहत की गई बेधड़क चोरी थी. विंको आॅस्माकिक की तस्वीर दोबारा जारी करते हुए उसे पकड़ने की एक कोशिश और की जा रही है. ऐसा अंदेशा है कि वह यूके या संभवत: यूरोप से ही भाग निकलने में कामयाब हो चुका है.

पिंक पैंथर की और चर्चित चोरियां

टोक्यो : 2004 में टोक्यो में एक ज्वैलरी स्टोर पर सेंधमारी करते हुए पिंक पैंथर ने 31.5 मिलियन डॉलर की कीमत वाले डायमंड नेकलेस की चोरी को अंजाम दिया था. यह चोरी 3 मिनट से भी कम वक्त में की गई और इस चोरी में हथियार के नाम पर मिर्च स्प्रे का इस्तेमाल हुआ.
दुबई : यह चोरी लगभग आश्चर्यजनक थी. 2007 में पैंथर्स दो आॅडी कारों में एक दुबई मॉल में घुसे. गेट के पास ड्राइवर इंतज़ार के लिए रुके और चोर कार से कूदे. एक स्टोर से साढ़े तीन मिलियन डॉलर की ज्वैलरी लूटी और वापस कारों में बैठकर भाग गए. यह सब सिर्फ 55 सेकंड में हुआ.
लंदन : मई 2003 में इस चोरी के बाद पिंक पैंथर कुख्यात हो गए थे. ब्रिटेन की सबसे बड़ी डायमंड चोरी यही थी उस वक्त. 23 मिलियन यूरो की कीमत वाले 47 ज्वैलरी आइटमों को चुराया गया था. इस चोरी के लिए एक आदमी बेतुका सा विग पहने हुए स्टोर में दाखिल हुआ था लेकिन स्टाफ ने इस पर शक नहीं जताया क्योंकि कई सेलिब्रिटीज़ उल्टे सीधे रूप रखकर महंगी खरीदारी करने आते थे. इस आदमी ने एक हैंडगन निकाली और वहां मौजूद सभी को धमकाया. उसके साथ आए दूसरे आदमी ने लूट को अंजाम दिया. हालांकि इस लूट के बाद पिंक पैंथर के दो लुटेरे धरे गए और उन पर केस भी चला.

ये भी पढ़ेंः
पति को छोड़कर आई प्रेमिका से पीछा छुड़ाना चाहता था प्रेमी
गोली लगने के बाद वीनस चाहती थी एक बार मां को देखना
स्टूडेंट के साथ महिला टीचर ने कार में वीड फूंका फिर किया सेक्स
प्रेमियों संग पत्नी कर रही थी पति की हत्या, कोई देख रहा था
आरुषि हत्याकांड : 15 मई की रात से 16 मई की सुबह तक की कहानी
हर तारीख पर एक नया मोड़ लेता गया 'आरुषि हत्याकांड'

Gallery - आरुषि हत्याकांड के 10 साल, 10 अहम किरदार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए थ्रिलर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 18, 2018, 8:22 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading