जब 83 घंटे बाद कब्र से ज़िंदा निकली थी लड़की...

जब 83 घंटे बाद कब्र से ज़िंदा निकली थी लड़की...
सांकेतिक चित्र

एक हाई प्रोफाइल केस, जिसमें अगवा की गई लड़की को दफना दिया गया था लेकिन वह साढ़े तीन दिन बाद ज़िंदा निकली. यह केस इसलिए भी यादगार है क्योंकि पहली बार एक महिला एफबीआई की अपराधियों की मोस्ट वॉंटेड लिस्ट में आई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 26, 2018, 10:53 PM IST
  • Share this:
'तुझे अपनी बेटी की जान प्यारी नहीं! पुलिस को लेकर आया था? अब गई तेरी बेटी की जान..' किडनैपर की ये धमकी सुनते ही उसने गिड़गिड़ाकर कहा - 'नहीं, मैंने खबर नहीं दी थी. प्लीज़ मेरी बेटी को कुछ मत करना. तुम जो कहोगे, वो रकम दूंगा..' इसके बाद फिरौती की रकम और जगह फिर तय हुई. एक रसूखदार आदमी बेटी के लिए खुद को मजबूर महसूस कर रहा था और डर भी रहा था कि पुलिस की वजह से कहीं उसकी बेटी की जान पर न बन आए!

READ: मिक्सी में मिला दांत और खुला कत्ल का राज़

इधर, किडनैपरों के हाथ-पांव भी फूल गए थे क्योंकि उन्हें एहसास हो चुका था कि जिस आदमी की बेटी को उन्होंने अगवा किया था, उसकी पहुंच क्या थी. क्रिस्ट और उसकी गर्लफ्रेंड रूथ ने मिलकर 20 वर्षीय बारबरा को अगवा कर लिया था, जो रॉबर्ट की बेटी थी. रॉबर्ट प्रॉपर्टी के कारोबार का जाना-माना नाम था और उसके कॉंटैक्ट्स सीधे मंत्रालयों तक थे. जैसे ही बारबरा को अगवा किया गया, रॉबर्ट ने अपनी पहुंच दिखाते हुए एफबीआई को इस केस में इनवॉल्व करवाया, क्या यही उसकी गलती साबित होने वाली थी?



जब क्रिस्ट और रूथ ने बारबरा की जान बख्शने के एवज़ रॉबर्ट से 5 लाख डॉलर की रकम मांगी. 1968 में यह रकम आज के हिसाब से करीब 25 करोड़ रुपये के बराबर थी. क्रिस्ट को यह फिरौती देने पर रॉबर्ट राज़ी हो गया तो रॉबर्ट ने अमेरिका के जॉर्जिया की एक लोकेशन पर डॉलर्स से भरा बैग छोड़ने को कहा. अब हुआ ये कि रॉबर्ट यह बैग लेकर पहुंचा और एक ब्रिज के नीचे उसने फेंक भी दिया लेकिन रॉबर्ट के साथ एफबीआई के अफसर थे.
किडनैपरों से अनजान ये अनजान पूरी तैयारी के साथ थे कि किडनैपरों को पकड़ लें. क्रिस्ट अपनी दूरबीन से देख रहा था और कार चलाते हुए पहले तो वह समझ नहीं पाया कि रॉबर्ट ने बैग कहां फेंका. जैसे तैसे तलाशते हुए क्रिस्ट जब बैग को खोज पाया तो उसने देखा कि एफबीआई टीम उसकी घात में थी. क्रिस्ट फौरन वह बैग उठाकर फेंका और उस पर गोलीबारी शुरू हो गई. रूथ कार लेकर क्रिस्ट के पास तक पहुंची तो उसने राइफल निकाली और जवाबी गोलियां चलाईं.

धड़ाधड़ चलती हुई गोलियों के बीच क्रिस्ट ने महसूस किया कि उसकी कार को घेरने की कोशिश की जा रही थी. किसी तरह वहां से भागने की तरकीब और मशक्कत के बीच डॉलर्स से भरा बैग कार से छिटककर गिर गया और क्रिस्ट व रूथ एफबीआई से बचकर भागने में कामयाब हुए. इधर, एफबीआई टीम के लिए यह शर्म की बात थी कि इतना नज़दीक आकर किडनैपर उनके हाथ से निकल गया था और उधर, क्रिस्ट व रूथ बेतहाशा गुस्सा हो चुके थे.

Kidnapping case, unique kidnapping case, kidnapping in US, FBI most wanted, high profile kidnapping, किडनैपिंग केस, अनोखी किडनैपिंग, अमेरिका में अपहरण, एफबीआई मोस्ट वॉंटेड, हाई प्रोफाइल किडनैपिंग

क्रिस्ट और रूथ ने फोन पर रॉबर्ट पर नाराज़गी ज़ाहिर की कि उसने एफबीआई को इनवॉल्व किया. लेकिन, रॉबर्ट के माफी मांगने और दोबारा रकम देने का वादा किया तो फिर फिरौती के लिए जगह व टाइम फिक्स किया गया.

क्रिस्ट : इस बार अगर कोई गड़बड़ हुई तो अंजाम अच्छा नहीं होगा..
रॉबर्ट : नहीं, इस बार कुछ नहीं होगा, बस मेरी बेटी बारबरा को कुछ नहीं करना..
क्रिस्ट : ये जान लो कि वो ज़िंदगी और मौत के बीच लेटी है. तुम्हारी एक गलती उसकी जान ले सकती है. खैर इस बार तुम रकम लेकर तामियामी ट्रेल के पास एक स्पॉट पर पहुंचोगे. जहां रकम ड्रॉप करने का निशान दिखेगा, वहीं बैग छोड़कर फौरन चले जाओगे. और इस बार कोई गोली चली तो समझ लेना कि बारबरा की कब्र का पता भी तुम्हें नसीब नहीं होगा..
रॉबर्ट : और सब कुछ तुम्हारे कहे मुताबिक हुआ तो मुझे बारबरा का पता कैसे चलेगा? कहां मिलेगी वो?
रूथ : डोंट वरी रॉबर्ट, जैसे ये फोन हो रहा है, एक और फोन आ जाएगा. ये हमारा वादा है.

रॉबर्ट ने किडनैपरों को यकीन दिलाया और उनके बताए हुए स्पॉट पर वक्त से 5 लाख डॉलर से भरा बैग छोड़कर चला आया. अब उसे इंतज़ार था क्रिस्ट और रूथ के वादे के पूरे होने का. रॉबर्ट अपने फोन से चिपककर बैठा था तभी फोन बजा लेकिन यह फोन किडनैपरों का नहीं बल्कि एक एफबीआई अफसर का था.

अफसर : हमें किडनैपरों ने बारबरा की लोकेशन बता दी है. आप फौरन चले आइए.
रॉबर्ट : थैंक गॉड. मैं आ रहा हूं, कहां है मेरी बेटी?
अफसर : आप आइए तो सही.
रॉबर्ट : क्या बात है आॅफिसर? आप बताते क्यों नहीं कि मेरी बेटी कहां है? बोलिए प्लीज़.
अफसर : मिस्टर रॉबर्ट, वो एक जंगल में एक कब्र के अंदर दफ्न है. आप आइए. पूरी टीम अपनी जी तोड़ कोशिश में है. हम उन किडनैपरों को...

फोन पटककर रॉबर्ट अपनी गलती को कोस रहा था कि उसने एफबीआई को इनवॉल्व न किया होता तो उसकी बेटी ज़िंदा होती. खुद को किसी तरह संभालते हुए रॉबर्ट एफबीआई टीम के साथ बारबरा की खोज में पहुंचा. बारबरा को किडनैप किए हुए तीन दिन से ज़्यादा बीत चुके थे. अब बताए गए जंगलों में बारबरा की कब्र की खोज चल रही थी. सौ से ज़्यादा लोगों की टीम कुछेक जगहों पर खुदाई कर चुकी थी. कुछ घंटों में आखिरकार एक कब्र नज़र आई.

Kidnapping case, unique kidnapping case, kidnapping in US, FBI most wanted, high profile kidnapping, किडनैपिंग केस, अनोखी किडनैपिंग, अमेरिका में अपहरण, एफबीआई मोस्ट वॉंटेड, हाई प्रोफाइल किडनैपिंग

ज़मीन के उस हिस्से को देखकर लग रहा था कि वहां मिट्टी हाल में भरी गई थी. और मिट्टी से पाइप का एक टुकड़ा बाहर निकला हुआ था और उसका काफी हिस्सा मिट्टी में दफनाया हुआ लग रहा था. यहां खुदाई करने के बाद थोड़ी ही देर में एक कॉफिन निकला. उस कॉफिन को खोला गया तो उसमें बारबरा थी. वो भी लाश नहीं बल्कि ज़िंदा बारबरा! उस पाइप के ज़रिये इंतज़ाम किया गया था कि वह सांस ले सके. साथ ही उसके कॉफिन यानी ताबूत में खाने पीने की चीज़ें भी रखी गई थीं.

बारबरा के ज़िंदा मिलने पर रॉबर्ट और वहां मौजूद बहुत से लोग भावुक हो गए. बारबरा को गले से लिपटाने के बाद फौरन अस्पताल भेजा गया और रॉबर्ट को खयाल आया -

रॉबर्ट : आॅफिसर, मुझे उन किडनैपरों का शुक्रिया अदा करना चाहिए कि उन्होंने अपना वादा निभाया और मेरी बेटी सही सलामत वापस मिल गई.
अफसर : ये तो है मिस्टर रॉबर्ट लेकिन इस हाड़ कंपा देने वाले क्राइम के लिए उन्हें बख्शा नहीं जाएगा. बस कुछ ही वक्त में आपके मुजरिम हमारी गिरफ्त में होंगे, ये हमारा वादा है.

पूरे 83 घंटे ज़मीन के अंदर कब्र में रहने के बाद बारबरा काफी कमज़ोर हो गई थी. उसका इलाज चल रहा था और उधर, एफबीआई क्रिस्ट व रूथ को पकड़ने की हर मुमकिन कोशिश कर रही थी. क्रिस्ट ने फिरौती की रकम से एक बोट खरीदी थी और वह पश्चिम अमेरिका की तरफ गया था, यह बात एफबीआई को पता चल चुकी थी. एफबीआई ने तमाम जांच एजेंसियों को क्रिस्ट को पकड़ने के मिशन पर लगा दिया था.

कुछ ही दिनों में अपनी बोट से भाग जाने का इरादा रख रहे क्रिस्ट को एक बंदरगाह से हिरासत में ले लिया गया. इत्तेफाक यह था कि यह बंदरगाह भी रॉबर्ट की प्रॉपर्टी और डेवलपमेंट कंपनी का ही प्रोजेक्ट रहा था. इधर, एफबीआई रूथ को मोस्ट वॉंटेड की लिस्ट में जोड़ चुकी थी. क्रिस्ट से पूछताछ के बाद कुछ ही दिनों में रूथ को टैक्सस से गिरफ्तार किया गया. दोनों ने कबूल करते हुए बताया कि कैसे बारबरा को अगवा किया गया था.

Kidnapping case, unique kidnapping case, kidnapping in US, FBI most wanted, high profile kidnapping, किडनैपिंग केस, अनोखी किडनैपिंग, अमेरिका में अपहरण, एफबीआई मोस्ट वॉंटेड, हाई प्रोफाइल किडनैपिंग
किडनैपिंग की शिकार हुई बारबरा अपने पिता रॉबर्ट मैकल के साथ.


उस दिन बारबरा अपनी मां जेन के साथ होटल के एक कमरे में थी. तभी कमरे के दरवाज़े पर दस्तक हुई. पुलिस के भेस में क्रिस्ट और रूथ सामने खड़े थे और उन्होंने बारबरा से कुछ पूछताछ करने के बहाने कमरे के भीतर एंट्री ली. दाखिल होते ही रूथ ने जेन को धक्का देकर पटक दिया और क्रिस्ट ने पिस्तौल की नोक पर धमकाकर चुप करा दिया. पिस्तौल की नोक पर ही नकाब पहने हुए दोनों बारबरा को अपनी गाड़ी तक ले गए. जॉर्जिया ले जाकर क्रिस्ट ने जंगल में एक कब्र खोदी और बारबरा को उसमें दफना दिया गया था.

ये केस अमेरिका और खासकर एफबीआई के इतिहास में यादगार इसलिए रहा क्योंकि इस केस के चलते रूथ अमेरिका की पहली महिला अपराधी बनी, जो एफबीआई की मोस्ट वॉंटेड लिस्ट में आई. दूसरे, यह केस बेहद हाई प्रोफाइल था और तीसरे इसलिए कि इस केस में बारबरा एक कब्र से दफनाए जाने के 83 घंटे बाद ज़िंदा मिली थी. बारबरा ने इस केस पर एक किताब भी लिखी थी लेकिन इसके अलावा बारबरा ने कभी इस बारे में सार्वजनिक तौर पर बात नहीं की.

ये भी पढ़ें

खून की होली : ब्रेक-अप, दूसरा अफेयर और एक्स बॉयफ्रेंड का कत्ल
HORROR HOUSE : जब-जब घर से आती थी बदबू, निकलती थी एक लाश
HIV किलर की कहानी : बहस ये है कि आरोपी मेजर को सज़ा क्या दी जाए?

PHOTO GALLERY : किचन में रखी मिक्सी में मिला एक दांत और खुला कत्ल का राज़
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज