#SerialKillers : सेक्स के बाद वेश्याओं को उतार देता था मौत के घाट

एक ऐसा सीरियल किलर जो पहले कुख्यात हो चुके सीरियल किलर्स के मुकाबले ज़्यादा कत्ल करने की ख्वाहिश रखता था. अमेरिकी कोर्ट ने न्यूयॉर्क के इस कातिल को इतना खतरनाक करार दिया कि इसे 200 से ज़्यादा सालों की सज़ा सुनाई गई.

Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: July 29, 2018, 7:30 AM IST
Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: July 29, 2018, 7:30 AM IST
देश दुनिया के सीरियल किलर्स #SerialKillers पर आधारित इस विशेष वीकेंड सीरीज़ में आप पिछले 5 सप्ताह में कई सनसनीखेज़ कहानियां पढ़ चुके हैं. इस हफ्ते पढ़िए उस सीरियल किलर की कहानी, जो पिछले सीरियल किलर्स को फॉलो करता था और उनका रिकॉर्ड तोड़ना चाहता था.

READ: #SerialKillers : पुलिसकर्मी के रेप व मर्डर के बाद पकड़ में आया था ये कातिल

READ: #SerialKillers: वह सुनता था 'Highway To Hell' और कहता था 'शैतान ज़िंदाबाद'

केस 1 : लिया का पति कुछ वक्त पहले उसे छोड़ चुका था और अपने दो बच्चों के साथ ठोकरें खा चुकी लिया अब संभल भी चुकी थी. 28 साल की लिया ने खुद को संभालने का ड्रग्स का सहारा लिया था. वह ड्रग्स की आदी भी हो चुकी थी और ड्रग पैडलर भी रह चुकी थी. लेकिन, ड्रग्स का धंधे में खतरा दिखने के बाद उसने दूसरा धंधा चुन लिया था. अब वह शौकीन मर्दों के लिए अपना जिस्म बेचा करती थी.

लिया के लिए इस धंधे में अच्छी रकम थी और जोखिम कम था. अमेरिका की इन गलियों में न तो शौकीन मर्दों की कमी थी और न ही कानून इस धंधे पर कोई कड़ा रवैया रखता था. खूबसूरत और जवान लिया इन गलियों में घूमा करती और जल्द ही कोई न कोई कार उसके सामने रुकती. डील फिक्स होती और लिया उस कार में बैठकर उस अजनबी के साथ किसी अनजान जगह पर चली जाती. अपने हुस्न से उस अजनबी को संतुष्ट कर देने के बाद अपनी रकम लेकर वापस घर चली जाती.

READ: #SerialKillers: उसे मंदिरों में मिलते थे शिकार और पूजापाठ था उसका हथियार

शुरुआत में कुछ डर थे, कुछ वहम भी लेकिन वक्त के साथ लिया के लिए यह सब रूटीन बन चुका था. हर रात इन्हीं सड़कों पर निकलने से पहले ड्रग्स का एक डोज़ लेती थी लिया और अपने पर्स में अपनी ड्रग्स कैरी करती थी ताकि जब उसका मन हो तब वह अपना डोज़ ले सके. 27 फरवरी 1993 की रात भी लिया इसी तरह अपने धंधे के लिए तैयार हुई, एक डोज़ लिया और निकल गई उसी सड़क पर जहां उसे ग्राहक मिला करते थे. इस बात से बेखबर कि हर रात पिछली रात से अलग होती है.

लिया इस सड़क पर खड़ी किसी अजनबी का इंतज़ार कर रही थी और एक कार आकर रुकी. अपनी दिलकश अदाओं के साथ लिया ने इस कार के भीतर झांका और उस अजनबी को हलो कहा. उस अजनबी ने लिया के शरीर को निहारा और पूछा — 'डील क्या है?' लिया ने मुस्कुराकर कहा — 'हुस्न जितना तुम चाहो, कीमत जितनी मैं चाहूं.' और यह कहकर एक कातिलाना मुस्कान उसके चेहरे पर खिल गई.

सीरियल किलर, कत्ल, हत्याकांड, वेश्यावृत्ति, अमेरिका, serial killer, murder, murder case, prostitution, america

उस अजनबी ने कार का दरवाज़ा खोला और लिया को अंदर बैठने को कहा. अब कार औसत स्पीड में चलती रही और दोनों के बीच कुछ बातचीत होती रही. कुछ देर बाद एक सुनसान पड़े पार्किंग लॉट में जाकर कार रुकी और उस अजनबी ने लिया से इसी जगह रात गुज़ारने को कहा. आसपास खड़ी सिर्फ दो—चार कारें और किसी और को न पाकर लिया ने कहा — 'ओके. एज़ यू लाइक.'. फिर लिया ने कार में ही अपने कपड़े उतारने शुरू किए. जैसे ही उसने अपना टॉप उतारा तो पार्किंग के एक कोने से कोई आहट सुनाई दी.

लिया ने पलटकर देखा तो कोई एक कार के पास से वॉक करता हुआ गुज़र रहा था. लिया कोई जोखिम नहीं उठाना चाहती थी इसलिए उसने अपने कस्टमर से किसी और जगह चलने को कहा जहां कोई और न हो. उस आदमी ने कहीं और जाने से इनकार कर दिया. लिया को उसकी यह अकड़ समझ नहीं आई. कुछ ही देर में लिया ने डील कैंसल करते हुए वहां से जाने का इरादा ज़ाहिर किया. अब इस आदमी ने ज़बरदस्ती करते हुए लिया को रोका.

#SerialKillers: खुद को 'सुपरमैन' और 'भगवान' समझने लगा था यह कातिल

READ: #SerialKillers: ‘मुझे अफ़सोस है मैं पूरे 64 कत्ल नहीं कर पाया’

ज़बरदस्ती करने पर जब लिया चीखी तो इस आदमी ने पहले उसका मुंह बंद किया लेकिन लिया खुद को छुड़ाकर फिर चीखी. अब इस अजनबी आदमी ने लिया का गला घोंटना शुरू कर दिया. एक और चीख के बाद अब लिया छटपटा रही थी. कुछ ही लमहों में लिया की जान निकल गई. कार में लिया की लाश को कुछ देर देखने के बाद उस कातिल ने कुछ सोचा और कार चलाना शुरू की. एक जंगल के पास ले जाकर उसने कार रोकी.

लिया की लाश को कार से निकालकर घसीटते हुए वह कातिल उसे जंगल में ले गया. वहां उसने एक छोटा सा गड्ढा खोदा और लिया की लाश को उस गड्ढे में दफना दिया. कातिल अपनी कार में लौटा और लिया का पर्स उसने देखा तो मुस्कुराकर वह पर्स अपने साथ लेकर चला गया.

केस 2 : लुइसियाना की टिफनी अपनी आंखों में एक्टिंग और डांस के ख्वाब लेकर न्यूयॉर्क आई थी. बड़े शहर में बहुत दिन नहीं लगे और टिफनी के सपने चूर होने लगे. सपने टूटने और स्ट्रगल मेें परेशानियों के वक्त में टिफनी कब हेरोइन के नशे की आदी हो गई, उसे पता ही नहीं चला. पहले हार्ड वर्क में विश्वास रखने वाली टिफनी को अब लगने लगा था कि वह एक्टर और डांसर बनने की किस्मत लेकर पैदा नहीं हुई है.

सीरियल किलर, कत्ल, हत्याकांड, वेश्यावृत्ति, अमेरिका, serial killer, murder, murder case, prostitution, america

नशे की लत तो लग ही चुकी थी लेकिन टिफनी को कुछ कमाई करने का रास्ता भी तलाशना था. स्ट्रगल के दिनों में उसकी पहचान कई तरह के लोगों के साथ हुई. इन्हीं में से एक के दिखाए रास्ते पर चलकर टिफनी क्लबों में स्ट्रिपिंग का काम करने लगी यानी लोगों के मनोरंजन के लिए कपड़े उतारकर देह प्रदर्शन करने का काम. इस काम के लिए यहां कई खास क्लब थे जो टिफनी को अच्छी रकम देते थे. फिर कुछ लोगों ने और लालच दिखाया तो टिफनी इस काम से एक कदम और आगे बढ़ी.

#SerialKillers : डायरी में लिखा था ‘खल्लास’, बाद में बोला – ‘भगवान के हुक्म से किए कत्ल’

READ: #SerialKillers: हर शिकार के लिए एक नया गमछा खरीदता था ये रिक्शेवाला

अब क्लबों के साथ ही उसने प्राइवेट पार्टीज़ के लिए स्ट्रिपिंग का काम करना शुरू कर दिया था. फिर कुछ लोगों के ग्रुप के लिए उनकी कारों तक में टिफनी स्ट्रिपिंग किया करती थी. उसे बस पैसों से मतलब था और नशे में चूर होकर वह अपना काम करती थी. न्यूयॉर्क में कई रात की रानियां सड़कों और क्लबों के पास नज़र आया करती थीं जिनमें से टिफनी एक बन चुकी थी. 24 जून 1993 की रात टिफनी की ज़िंदगी में आखिरी मोड़ लेकर आने वाली थी.

देर रात क्या अलसुबह चार बजे के करीब एक अजनबी ने एक लड़की को एलन स्ट्रीट के पास ड्रॉप किया और कुछ ही दूर उसने टिफनी को खड़े देखा. इस अजनबी ने अपनी कार टिफनी के पास रोकी और उसे इशारा किया. नशे और नींद के बीच झूल रही खूबसूरत टिफनी उस अजनबी की कार के पास आकर मुस्कुराई. 'आर यू वेटिंग फॉर ए स्ट्रिपर?' टिफनी ने पूछा तो उस कार के दरवाज़ा खुल गया और टिफनी अंदर बैठ गई.

कुछ ही देर बाद यह कार न्यूयॉर्क पोस्ट के पार्किंग लॉट में जाकर रुकी और उस अजनबी ने टिफनी को काम शुरू करने का इशारा किया. कार में टिफनी ने अपनी हसीन अदाओं के साथ धीरे—धीरे कपड़े उतारना शुरू किए तो उस अजनबी की आंखों में खून उतर आया. उसने टिफनी को जिस तरह से छुआ, टिफनी को ठीक नहीं लगा. टिफनी ने उसकी तरफ ध्यान से देखा तो उसकी लाल आंखें देखकर वह घबरा गई. उसने जाना चाहा लेकिन देर हो चुकी थी. उस अजनबी ने टिफनी को कोई मौका नहीं दिया और गला घोंटकर मार डाला.

सीरियल किलर, कत्ल, हत्याकांड, वेश्यावृत्ति, अमेरिका, serial killer, murder, murder case, prostitution, america

READ: #SerialKillers : हर कत्ल के लिए लेता था कुल्हाड़ी, हथौड़े या फावड़े जैसा नया हथियार

READ: Serial Killer: काम था दवाएं देना लेकिन वो देता रहा मौत

अब कातिल ने अपने घर की तरफ रुख किया और रास्ते से उसने एक स्टोर से रस्सी और तंबू का कपड़ा खरीदा. एक सुनसान जगह पर कार रोककर उसने टिफनी की लाश को इस कपड़े में लपेटकर रस्सी से बांधा और ट्रंक में डाल दिया. यह कातिल जैसे ही घर पहुंचा तो उसकी मां ने कार की चाबी मांगी और वह कार लेकर आधे घंटे के लिए कहीं चली गई. अब यह कातिल यही सोचकर परेशान था कि उसकी मां को कार में रखी लाश के बारे में पता न चल जाए लेकिन उसकी मां को कुछ पता नहीं चला.

मां के लौटने के बाद इस कातिल ने लाश को निकालकर अपने अस्त व्यस्त गैरेज में कुछ पहियों के बीच रख दिया. वह लाश को एयरपोर्ट के पास ठिकाने लगाना चाहता था इसलिए वह अपने मिनी ट्रक का इंतज़ाम करता रहा और इसी में तीन दिन गुज़र गए. तीन दिनों तक लाश उसी गैरेज में पड़ी रही और वहां से बदबू आने लगी. तीन दिन बाद वह अपने मिनी ट्रक में लाश लेकर एयरपोर्ट की तरफ जा रहा था तभी रात में पेट्रोलिंग कर रहे दो पुलिस अफसरों ने उसे रोकने की कोशिश की.

READ: तैयारी के साथ आता था नकाबपोश, रेप-मर्डर के बाद हो जाता था गायब

कातिल के मिनी ट्रक पर लाइसेंस प्लेट नहीं थी इसलिए अफसरों ने उसे रोकने के लिए पहले हाथ से इशारा किया फिर टॉर्च से लेकिन वह नहीं रुका. इसके बाद अफसरों ने सीटी बजाकर उसे रोकने की कोशिश की लेकिन वह रुका नहीं और अपनी औसत स्पीड में चलता रहा. अब पुलिस अफसर उसके पीछे पड़ गए और कंट्रोल रूम में फोन कर लोकेशन पर एक और टीम बुला ली. पुलिस के पीछा करने के दौरान कातिल हड़बड़ा गया और उसका मिनी ट्रक बेकाबू होकर एक पेड़ से जा टकराया.

अब यह आदमी पुलिस की गिरफ्त में था लेकिन पुलिस को पता नहीं था कि यह कातिल है और मिनी ट्रक में कोई लाश है. जैसे ही ट्रक के भीतर तलाशी ली गई तो एक अजीब सी बदबू आई. पुलिस के सामने अगले ही पल ट्रंक में रखी एक लाश थी और उन्हें अब भी कोई अंदाज़ा नहीं था कि उनके हाथ जो कातिल लग चुका है, वह वास्तव में न्यूयॉर्क के सबसे खतरनाक सीरियल किलर्स में से एक है.

सीरियल किलर, कत्ल, हत्याकांड, वेश्यावृत्ति, अमेरिका, serial killer, murder, murder case, prostitution, america

इस सीरियल किलर का कच्चा चिट्ठा
पुलिस हिरासत में आने के बाद पता चला कि इस कातिल का असली नाम जोएल रिफकिन है जिसका 17वां शिकार टिफनी बनी. कोर्ट में यह कातिल पुलिस को दिए बयान से पलट गया लेकिन सबूतों और गवाहों के बयान से साबित हुआ कि जोएल सीरियल किलर था. 1989 से 1993 के बीच चार सालों में इसने उन लड़कियों और औरतों का कत्ल किया जो उसके हिसाब से जिस्मफरोशी के धंधे में थीं. तलाशी में जोएल के घर से कत्ल की गईं तमाम लड़कियों के ज़ेवर, पर्स और कागज़ात आदि बरामद हुए. जोएल ने माना था कि वह इन वेश्याओं को पिक करता था और उनके साथ सेक्स करने के बाद उनकी हत्या को अंजाम देता था.

जोएल का बचपन ठीक नहीं था. वह होशियार होने के बावजूद स्कूल के साथी लड़कों के मज़ाक का पात्र बना रहा. उसकी मां को फोटोग्राफी का शौक था जो जोएल ने भी अपनाया. एक लड़की के साथ वह कुछ वक्त रिलेशनशिप में रहा जो कामयाब नहीं हुई क्योंकि जोएल अक्सर डिप्रेस्ड रहता था. फिर उसने कई तरह के जॉब किए लेकिन कहीं भी जम नहीं सका. उसके पिता ने खुदकुशी की और इसके कुछ समय बाद जोएल एक बार इसलिए गिरफ्तार किया गया क्योंकि वह एक वेश्या के साथ जबरन डील करने की कोशिश कर रहा था. इसके बाद से उसने ऐसी लड़कियों को कत्ल करने का रास्ता इख्तियार किया.

पिछले सीरियल किलर्स का रिकॉर्ड तोड़ना चाहता था जोएल
कत्लों को अंजाम देने से पहले और इस दौरान भी जोएल उन सीरियल किलर्स के बारे में किताबें और अखबारों की कटिंग्स इकट्ठी करता था जिन्होंने वेश्याओं के खून किए थे जैसे ग्रीन रिवर किलर और न्यूयॉर्क का ही आर्थर शोक्रॉस. जोएल ने इनकी नकल करते हुए इसी तरह कत्ल करने का इरादा किया था और वह इन बदनाम कातिलों से ज़्यादा कत्ल करना चाहता था. लेकिन जोएल इनकी तुलना में कम क्रूर कहा जाता है.

सीरियल किलर, कत्ल, हत्याकांड, वेश्यावृत्ति, अमेरिका, serial killer, murder, murder case, prostitution, america
सीरियल किलर जोएल रिफकिन


इसकी वजह यह थी कि इसने अपने पहले दो कत्लों को बड़ी क्रूरता से अंजाम दिया था. पहली दोनों औरतों को कत्ल करने के बाद जोएल ने इनकी लाशों के टुकड़े किए थे और फिर अलग अलग दफना दिया था. ऐसा उसने उन सीरियल किलर्स के प्रभाव में किया था जिन्हें वह पढ़कर फॉलो कर रहा था. लेकिन इसके बाद लाशों को काटने या टुकड़े करने या बहुत क्रूरता से मारने का पैटर्न छोड़ दिया था. कहा जाता है कि उसकी पहली दो शिकार औरतों की लाश कभी नहीं मिली.

जोएल को 1994 में कम से कम नौ कत्लों के इल्ज़ाम में दोषी करार दिया गया और उसे 203 साल की जेल की सज़ा सुनाई गई. कोर्ट के फैसले में यह भी लिखा गया कि जोएल को साल 2197 तक पैरोल भी नहीं मिलेगी.

ये भी पढ़ें

#SerialKillers : पुलिसकर्मी के रेप व मर्डर के बाद पकड़ में आया था ये कातिल
#LoveSexaurDhokha: वो जोधपुर में थी तो फोन कन्नड़ में क्यों कह रहा था आउट आॅफ कवरेज?
वो पिछली बार अगवा की गई थी तब 4 महीने हुआ था रेप, अब क्या होगा?
#LoveSexaurDhokha: प्रेमी रहा पति खेल रहा था 'धोखे पर धोखे' का खेल
#LoveSexaurDhokha: बीवी थी बेवफा और 'बेवफाई' के इल्ज़ाम में तिहाड़ में था पति

Gallery - पाकिस्तान चुनाव : डेमोक्रेसी चुनना है तो 'हथियार' चुनो
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर