100 फीसदी असरदार होने के बाद भी भारतीय बच्‍चों को नहीं लगेगी फाइजर की वैक्‍सीन

बच्‍चों पर 100 फीसद असरदार बताई जा रही फाइजर की वैक्‍सीन भारतीय बच्‍चों को नहीं लगेगी. कॉन्सेप्ट इमेज.

बच्‍चों पर 100 फीसद असरदार बताई जा रही फाइजर की वैक्‍सीन भारतीय बच्‍चों को नहीं लगेगी. कॉन्सेप्ट इमेज.

Biontech Pfizer Coronavirus Vaccine: कोरोना की किसी भी विदेशी वैक्‍सीन को भारत में तब तक नहीं लगाया जा सकता जब तक कि वह यहां अपना ट्रायल नहीं करती. कोई भी वैक्‍सीन निर्माता कंपनी या तो यहां तीन फेज का पूरा ट्रायल करे या ब्रिजिंग ट्रायल करे, उसके सफल होने के बाद ही उसकी वैक्‍सीन को इस्‍तेमाल करने की मंजूरी दी जा सकती है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. दवा निर्माता कंपनी फाइजर (Pfizer) की ओर से बुधवार को कोविड-19 टीका 12 साल तक के बच्चों के लिये सुरक्षित होने की घोषणा की गई. इसके साथ ही कहा गया कि यह वैक्‍सीन बच्‍चों पर 100 फीसदी तक असरदार भी है. इस घोषणा के बाद से बच्‍चों को  स्‍कूल जाने से पहले वैक्‍सीन देने की संभावना भी पैदा हो गई है. हालांकि बड़ी बात यह है कि फाइजर की यह वैक्‍सीन भारतीय बच्‍चों को नहीं लगेगी.

फाइजर ने बताया कि 12 से 15 साल के 2,260 अमेरिकियों पर किये गए शोध के प्रारंभिक आंकड़ों के अनुसार टीके की पूरी खुराकें ले चुके इनमें से किसी भी बच्चे के कोरोना वायरस से संक्रमित होने का कोई मामला सामने नहीं आया.

Youtube Video


वहीं पिछले साल कोरोना महामारी (corona Pandemic) के विराट रूप के बाद एक बार‍ फिर 2021 में भी कोरोना के मामले भारत में बढ़ रहे हैं. पिछले 24 घंटे में भारत में करीब 72 हजार नए संक्रमित मिले हैं जिसमें सभी आयु वर्ग के लोग शामिल हैं. ऐसे में बच्‍चों को स्‍कूल भेजने में डर रहे अभिभावकों ने बच्‍चों के लिए वैक्‍सीन की खबर से राहत हुई है. हालांकि यह राहत भारत के लिए नहीं है क्‍योंकि यह वैक्‍सीन भारत में नहीं आएगी.
इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल साइंसेज के टास्‍क फोर्स ऑपरेशन ग्रुप फॉर कोविड के हेड डॉ. एनके अरोड़ा ने न्‍यूज 18 हिंदी को बताया कि कोरोना की किसी भी विदेशी वैक्‍सीन को भारत में तब तक नहीं लगाया जा सकता जब तक कि वह यहां अपना ट्रायल नहीं करती. कोई भी वैक्‍सीन निर्माता कंपनी या तो यहां तीन फेज का पूरा ट्रायल करे या ब्रिजिंग ट्रायल करे, उसके सफल होने के बाद ही उसकी वैक्‍सीन को इस्‍तेमाल करने की मंजूरी दी जा सकती है.

डॉ. अरोड़ा कहते हैं कि अभी तक फाइजर ने भारत में ऐसा कोई भी ट्रायल नहीं किया है न ही ट्रायल के लिए अनुमति मांगी है. ऐसे में उसकी कोई भी वैक्‍सीन यहां नहीं लगाई जा सकती. जहां तक वैक्‍सीन की बात है तो फाइजर के पास भी बहुत ज्‍यादा संख्‍या में वैक्‍सीन नहीं हैं. उल्‍टा भारत से ही सभी जगह वैक्‍सीन जा रही है.

भारतीय कोवैक्‍सीन का चल रहा बच्‍चों पर ट्रायल



डॉ. अरोड़ा कहते हैं कि भारत में दिसंबर 2021 तक करीब कुल आठ वैक्‍सीन लगाई जाने लगेंगी. वहीं इस समय बायोटेक की कोवैक्‍सीन का ट्रायल बच्‍चों पर चल रहा है. जल्‍दी ही 12 साल तक के बच्‍चों के लिए कोवैक्‍सीन की डोज की घोषणा की जाने की संभावना है. ऐसे में भारत में स्‍वदेशी वैक्‍सीन ही भारतीय बच्‍चों को दी जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज