Delhi Violence: शहीद रतन लाल ही नहीं, पिछले 10 साल में दिल्ली पुलिस के 145 जवानों ने ड्यूटी पर गंवाई जान

दिल्ली में हुई हिंसा के दौरान हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल शहीद हो गए. (फाइल फोटो)

नागरिकता संशोधन कानून के विरोधी और समर्थकों की हिंसा में दिल्ली पुलिस के हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल शहीद हो गए. राष्ट्रीय राजधानी में पिछले 10 साल में दिल्ली पुलिस के 145 से ज्यादा कर्मियों ने जान गंवाई है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ दिल्ली के कुछ इलाकों में पिछले तीन दिनों से जारी हिंसा अब भी थमी नहीं है. सोमवार को जाफराबाद, मौजपुर, भजनपुरा जैसे इलाकों में फैली हिंसा ने उग्र रूप धारण कर लिया, जिसकी वजह से 7 लोगों की मौत हो गई. मृतकों में दिल्ली पुलिस के हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल भी शामिल हैं. राष्ट्रीय राजधानी में धरना-प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा में शहीद होने वालों में रतन लाल अकेले नहीं हैं. दिल्ली पुलिस के आंकड़ों की मानें तो पिछले 10 साल में कुल 146 कर्मियों ने ड्यूटी पर अपनी जान गंवाई है.

    2017 में सबसे ज्यादा हुए शहीद
    पिछले 10 साल में ड्यूटी पर रहने के दौरान शहीद हुए जवानों या अफसरों की संख्या पर गौर करें, तो 2017 में जहां सबसे ज्यादा कर्मियों को जान गंवानी पड़ी. वहीं 2009 और 2018 में यह संख्या कम है. 2017 में दिल्ली पुलिस के कुल 17 कर्मी ड्यूटी पर रहने के दौरान शहीद हुए, वहीं 2009 और 2018 में यह संख्या 9 रही थी. इन शहीदों में पुलिस के निचले स्तर के कर्मियों से लेकर अधिकारी तक शामिल हैं. उदाहरण के तौर पर 2017 में एक एसआई, 6 एएसआई, 2 हेड कॉन्स्टेबल और 10 कॉन्स्टेबल शहीद हुए थे. वहीं, 2018 में 4 एएसआई, 2 हेड कॉन्स्टेबल और 3 कॉन्स्टेबलों को ड्यूटी पर रहने के दौरान अपनी जान गंवानी पड़ी थी.

    दिल्ली पुलिस के शहीद
    2009 - 9
    2010 - 10
    2011 - 17
    2012 - 17
    2013 - 14
    2014 - 14
    2015 - 13
    2016 - 13
    2017 - 19
    2018 - 9
    2019 - 10
    2020 - 1


    स्रोत: दिल्ली पुलिस

    दिल्ली हिंसा में अब तक 9 की मौत
    आपको बता दें कि दिल्ली में बीते रविवार से जारी हिंसा की घटनाओं में अब तक कुल 9 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं विभिन्न इलाकों में हुई घटनाओं के दौरान घायल हुए 130 लोगों को अब तक अस्पताल में भर्ती कराया जा चुका है. सोमवार को हुई हिंसा की घटना के दौरान दिल्ली पुलिस के हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल शहीद हो गए थे.

    दिल्ली के कुछ इलाकों में CAA के विरोधी और समर्थक गुटों के बीच हुई हिंसा की घटनाओं की विभिन्न राजनीतिक दलों ने आलोचना की है. इन घटनाओं को लेकर मंगलवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और उपराज्यपाल अनिल बैजल समेत सभी राजनीतिक दलों के नेताओं के साथ बैठक की. बैठक के बाद सभी नेताओं ने दिल्ली के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की. नेताओं ने कहा कि हिंसा फैलाने वाले तत्वों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

    ये भी पढ़ें -

    अब तक 9 की मौत, GTB अस्पताल में घायलों से मिले CM केजरीवाल, पूछा उनका हाल

    Delhi Violence: दिल्ली हिंसा में मारे गए बेटे की डेडबॉडी के लिए भटक रहा पिता

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.