लाइव टीवी

जामिया मिल्लिया इस्लामिया में स्थापित लीगल डेस्क में 170 छात्रों ने दर्ज कराई शिकायत

भाषा
Updated: January 14, 2020, 11:52 PM IST
जामिया मिल्लिया इस्लामिया में स्थापित लीगल डेस्क में 170 छात्रों ने दर्ज कराई शिकायत
15 दिसंबर 2019 को नागरिकता संशोधन कानून को लेकर प्रदर्शन के बाद पुलिसकर्मी परिसर में घुस गए थे और छात्रों पर कार्रवाई की थी. (फाइल फोटो)

लीगल डेस्क के अध्यक्ष शर्जील अहमद ने कहा कि अगर उन्हें एनएचआरसी (NHRC) की पड़ताल के बाद न्याय नहीं मिलेगा तो वे इन शिकायतों के आधार पर पृथक जांच की मांग करेंगे.

  • Share this:
नई दिल्ली. जामिया मिल्लिया इस्लामिया (Jamia Millia Islamia) परिसर में 15 दिसंबर को हुई हिंसा के बाद लीगल डेस्क (Legal Desk) में कम से कम 170 छात्रों ने शिकायत दर्ज करवा कर दावा किया है कि दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने उनकी शिकायतों को सुनने से मना कर दिया. यह लीगल डेस्क लॉ के छात्रों द्वारा विश्वविद्यालय में स्थापित की गई है.

डेस्क की अध्यक्ष शर्जील अहमद ने कहा, “हमें अब तक छात्रों से 170 शिकायतें मिली हैं जिन्होंने घटना के दिन हिंसा और परेशानी का सामना किया. दिल्ली पुलिस ने सीधे तौर पर हमारी शिकायतें सुनने से इनकार कर दिया इसलिए हमने यह डेस्क बनाई है ताकि हम सारी शिकायतें एकत्रित कर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) में ले जा सकें और बाद में वरिष्ठ वकीलों की सहायता से उन्हें कोर्ट में पहुंचा सकें.”

उन्होंने यह भी कहा कि अगर उन्हें एनएचआरसी की पड़ताल के बाद न्याय नहीं मिलेगा तो वे इन शिकायतों के आधार पर पृथक जांच की मांग करेंगे. अहमद ने दावा किया कि जिन छात्रों ने पुलिस के अत्याचार का सामना किया और उनकी शिकायतें पुलिस स्टेशन पर स्वीकार नहीं की गईं, पुलिस ने उनका विश्वास खो दिया है. उन्होंने कहा कि छात्रों को अब एक निष्पक्ष मंच की जरूरत है जो उनकी बात सुने और न्याय दिलाने में मदद करे।

कानूनी डेस्क पर एकत्रित की गयी शिकायतों का संज्ञान एनएचआरसी ने भी लिया है जिसने 15 दिसंबर को हुई हिंसा पर छात्रों का बयान दर्ज करना शुरू कर दिया है.

ये भी पढ़ें-

'आप' पर लगा टिकट बेचने का आरोप, नाराज MLA ने दिया इस्तीफा

'आप' ने काटा पूर्व PM लाल बहादुर शास्त्री के पोते का टिकट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 14, 2020, 11:27 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर