Assembly Banner 2021

दिल्ली मेट्रो के दिलशाद गार्डन-रिठाला रूट के 21 स्टेशनों को मिलेगा नया लुक, DMRC ने इसके लिये‍ तैयार किया ये बड़ा ‍प्लान?

दिल्ली मेट्रो ने अपनी रेड लाइन के स्टेशनों को आकर्षक और सुंदर बनाने का काम और तेज कर दिया है.

दिल्ली मेट्रो ने अपनी रेड लाइन के स्टेशनों को आकर्षक और सुंदर बनाने का काम और तेज कर दिया है.

दिल्ली मेट्रो के रेड लाइन के 21 स्टेशनों को नया लुक देने का काम किया जा रहा है. दिलशाद गार्डन-रिठाला सेक्शन के 21 स्टेशनों पर जुलाई 2019 से रिनोवेशन का काम बड़े स्तर पर किया जा रहा हैै. संभवत यह कार्य मई, 2021 तक पूरा हो जाएगाा. इसमें स्टेशनों यात्रियों को विशेष सुविधाएं उपलब्ध करना भी शामिल है. रेड लाइन की शुरूआत वर्ष 2002 में 8.4 किलोमीटर लंबे रूट शाहदरा से तीस हजारी सेक्शन पर की गई थी. दिल्ली मेट्रो की पहली शुरुआत इस रूट से ही हुई थी.

  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली मेट्रो (Delhi Metro) ने अपनी रेड लाइन के 21 स्टेशनों को आकर्षक और सुंदर बनाने का काम और तेज कर दिया है. दिलशाद गार्डन-रिठाला सेक्शन के 21 स्टेशनों पर जुलाई 2019 से रिनोवेशन का काम बड़े स्तर पर किया जा रहा है. संभवत यह कार्य मई, 2021 तक पूरा हो जाएगाा. इसमें स्टेशनों को नया लुक देने से लेकर यात्रियों को विशेष सुविधाएं उपलब्ध करना भी शामिल है.


बताते चलें कि रेड लाइन की शुरूआत वर्ष 2002 में 8.4 किलोमीटर लंबे रूट शाहदरा से तीस हजारी सेक्शन पर की गई थी. दिल्ली मेट्रो की पहली शुरुआत इस रूट से ही हुई थी.


दिल्ली मेट्रो के प्रवक्ता के मुताबिक मौजूदा समय में इस रूट के 12 स्टेशनों (दिलशाद गार्डन, झिलमिल, मानसरोवर पार्क, शाहदरा, वेलकम, शास्त्री पार्क आदि) पर नवीनीकरण के कार्य पूरे हो चुके हैं. बाकी शेष 9 स्टेशनों पर कार्य चल रहे हैं.


इन सभी नवीनीकरण और परिचालन संबंधी गतिविधियों का दिल्ली मेट्रो के प्रबंध निदेशक डॉ मंगू सिंह ने भी निरीक्षण किया. साथ ही उन्होंने सभी कार्यों का बारीकी से निरीक्षण करते हुए जानकारी भी ली. निरीक्षण में उनके साथ निदेशक (परिचालन) ए. के. गर्ग और अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल रहे.




Youtube Video



नवीनीकरण के कार्यों में सामने वाले बाहरी हिस्से को समसामयिक बनाने तथा आसानी से रखरखाव की जा सकने वाली सामग्री से तैयार किया/बदला जाना शामिल है. वहीं, कॉनकोर्स और ग्राउंड लेवल पर पुराने पड़ चुके ग्रेनाइट के फर्श को दोबारा बिछाना, प्लेटफार्मों की रेट्रोप्लेटिंग (केमिकल पॉलिशिंग), स्टेशनों के बाहर और भीतर रंग-रोगन, रिसाव का कारण बनने वाले पुराने पड़ चुके ड्रेनेज सिस्टम से गंदगी की सफाई/स्टेशन परिक्षेत्र में ड्रेनेज नेटवर्क की सफाई आदि का काम भी किया जा रहा है.


इसके अलावा, स्टेशन परिक्षेत्र और फुटपाथ को उन्नत बनाया जाएगा ताकि परिसरों को बेहतर और सुंदर बनाया जा सके. आवश्यकतानुसार रोलिंग शटरों और फायर डोर काे भी बदला जाएगा.


वहीं, नवीनतम विशिष्टतों के अनुकूल नए साइनेज, छतों तथा उनकी शीटों पर रंग-रोगन करना, शौचालय ब्लॉकों तथा पार्किंग का नवीनीकरण, मौजूदा अग्निशमन सिस्टम का अपग्रेडेशन, स्टेशनों पर LED लाईटिंग, नए एस्केलेटर व पुराने का नवीकरण, CCTV का डिजिटलकरण और स्टेशनों के कैटेनरी वायरों पर इंसुलेशन व संवेदनशील स्थानों पर बर्ड स्पाइक की सुविधा आदि के कार्य ‍भी इस दौरान ‍किये जाएंगे.


मेट्रो प्रवक्ता के मुताबिक दिल्ली मेट्रो अपने लाखों यात्रियों को विश्व स्तरीय सुविधाएं प्रदान करने हेतु सदैव प्रतिबद्ध रहा है. इसी के अंतर्गत ये नवीकरण गतिविधियां कोविड महामारी (Covid Pandemic) की तमाम बाधाओं के बीच रेकॉर्ड समय में में पूरी की गयीं. अन्य लाइनों पर भी ज़रूरत के मुताबिक इस तरह की गतिविधियों को निरंतर जारी रखा जायेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज