Corona Update: दिल्‍ली में एक दिन में आए रिकॉर्ड 2224 नए मामले, संक्रमितों की संख्‍या 41182 हुई

सपा सरकार में राज्यमंत्री रह चुके हैं ललई यादव. (प्रतीकात्मक फोटो)
सपा सरकार में राज्यमंत्री रह चुके हैं ललई यादव. (प्रतीकात्मक फोटो)

राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस (Coronavirus) के रविवार को एक दिन में रिकॉर्ड सबसे ज्यादा 2224 नए मरीज सामने आए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 15, 2020, 12:43 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस (Coronavirus) के रविवार को एक दिन में रिकॉर्ड सबसे ज्यादा 2224 नए मरीज सामने आए हैं. जबकि राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमितों की संख्या अब 41182 हो गई है. वहीं, इस बीमारी से मरने वालों का आंकड़ा 1327 हो गया है.

ये है 24 घंटे का हाल
राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली में 24 घंटे में रिकॉर्ड 2224 मामले आए हैं, तो इस दौरान 56 लोगों ने कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से दम तोड़ा है. अब दिल्‍ली में इस बीमारी से मरने वालों का आंकड़ा 1327 हो गया है.

एक दिन में आए रिकॉर्ड मामले
यह पहली बार है कि जब दिल्ली में लगातार तीसरे दिन रविवार को 2000 से अधिक नए मामले सामने आए. इससे पहले 12 जून को सर्वाधिक 2137 नए मामले सामने आए थे. जबकि दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग ने एक बुलेटिन में बताया कि कोरोना वायरस के कारण जान गंवाने वाले लोगों की संख्या 1327 हो गई है. इसके अलावा इस जानलेवा संक्रमण के दिल्‍ली में 41182 मामले हो गए हैं. वहीं, 15823 लोग डिस्‍चार्ज होकर घर लौट चुके हैं. इस समय दिल्‍ली में 24032 एक्टिव केस हैं. जबकि 695 मरीज आईसीयू में हैं, तो 182 वेंटीलेटर पर हैं.





जुलाई अंत तक 5 लाख के पार जा सकते हैं संक्रमण के मामले
दिल्ली सरकार के अनुमान के मुताबिक, राष्ट्रीय राजधानी में जुलाई के अंत तक कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों के 5 लाख के पार पहुंच जाने की आशंका है. ऐसे में कोविड-19 मरीजों के लिए करीब एक लाख बिस्तरों की आवश्यकता होगी. शहर में सरकारी, केंद्रीय और निजी अस्पतालों को मिलाकर 9,816 बिस्तर कोविड-19 मरीजों के लिए समर्पित हैं, जिनमें से 5,399 अभी भरे हुए हैं. दिल्ली सरकार ने उन सामुदायिक भवनों और स्टेडियमों की पहचान की प्रक्रिया भी शुरू कर दी है, जिन्हें अस्थायी कोविड-19 अस्पतालों में बदला जा सकता है.

दिल्ली के उप-राज्यपाल किया ये काम
दिल्ली के उप-राज्यपाल अनिल बैजल ने रविवार को दक्षिण दिल्ली में COVID-19 मरीजों के लिए प्रस्तावित 10,000 बिस्तरों वाले अस्थायी अस्पताल की जगह का निरीक्षण किया. यह प्रस्तावित कोविड-19 केंद्र दिल्ली-हरियाणा सीमा पर आध्यात्मिक संगठन राधास्वामी सत्संग ब्यास के परिसर में टेंट से संचालित होगा. एक अधिकारी ने कहा कि उप-राज्यपाल, दक्षिण दिल्ली के जिलाधिकारी बीएम मिश्रा समेत अधिकारियों के एक दल के साथ वहां पहुंचे और उपलब्ध सुविधाओं का जायजा लिया. भाटी माइंस स्थित राधास्वामी सत्संग ब्यास के सचिव विकास सेठी ने कहा कि यह कोविड-19 केंद्र 1700 फुट लंबा और 700 फुट चौड़ा होगा और यहां 50-50 बिस्तरों वाले 200 क्षेत्र होंगे. यह अस्थायी अस्पताल शहर में अब तक का ऐसा सबसे बड़ा केंद्र होगा. उन्होंने कहा कि जून के अंत तक इसका काम पूरा हो जाने की उम्मीद है. उन्होंने कहा कि धातु के टेंट में बिजली और पंखे पहले से लगे हुए हैं. गर्मी को देखते हुए कूलरों की जरूरत होगी. परिसर में बनी इमारत में चिकित्साकर्मियों के रहने का इंतजाम भी किया जा सकता है. आध्यात्मिक संगठन ने दो-तीन दिन पहले अस्थायी अस्पताल बनाने के लिए परिसर के इस्तेमाल की अनुमति दी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज