ट्रैफिक के नए कानून से कम हुए एक्सीडेंट, सख्त हुई पुलिस, दिल्ली में 7 महीने में 24 लाख कटे चालान

ट्रैफिक कानून (Traffic Law) तोड़ने के चालान (Challan) लोगों के मोबाइल पर भेजे जा रहे हैं. दिल्ली की सौ से अधिक सड़कों और 50 चौराहों पर कैमरों की मदद से नियम तोड़ने वालों की निगरानी की जा रही है.

ट्रैफिक कानून (Traffic Law) तोड़ने के चालान (Challan) लोगों के मोबाइल पर भेजे जा रहे हैं. दिल्ली की सौ से अधिक सड़कों और 50 चौराहों पर कैमरों की मदद से नियम तोड़ने वालों की निगरानी की जा रही है.

ट्रैफिक कानून (Traffic Law) तोड़ने के चालान (Challan) लोगों के मोबाइल पर भेजे जा रहे हैं. दिल्ली की सौ से अधिक सड़कों और 50 चौराहों पर कैमरों की मदद से नियम तोड़ने वालों की निगरानी की जा रही है.

  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने कुछ महीने पहले मोटर व्हीकल एक्ट का संशोधित कानून (Motor vehicle amendment act ) लागू किया. नए कानून के तहत ट्रैफिक नियम तोड़ने पर भारी-भरकम चालान (Challan Fees) काटने का फरमान जारी होते ही देशभर में खूब हो-हल्ला हुआ. लेकिन नए कानून के अमल में आने के बाद इसके फायदे नजर आने लगे हैं. नया मोटर व्हीकल एक्ट लागू होने के बाद देशभर में रोड एक्सीडेंट (Road Accident) के आंकड़ों में कमी आई है.

संशोधित कानून के तहत पुलिस ने सड़क पर स्पीड वॉयलेशन और रेडलाइट जंप करने की घटनाओं पर रोक लगाने के लिए कैमरों की संख्या बढ़ाई. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में सौ से अधिक सड़कों व 50 चौराहों पर कैमरे लगाए गए. ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों को लगातार चालान भेजना शुरू किया गया. इन सब नियम-कायदों पर अमल का असर है कि हर महीने ट्रैफिक चालान कटने की संख्या बढ़ रही है.

इस तरह 7 महीने में काटे 24.36 लाख चालान

कई साल तक दिल्ली ट्रैफिक पुलिस से जुड़े रहे हरीश जादौन बताते हैं कि दिल्ली में रेडलाइट जम्प करना, स्पीड वॉयलेशन और रॉन्ग साइड में चलने के केस ज़्यादा सामने आते हैं. वैसे तो आमतौर पर रेडलाइट सहित कई मेन रोड पर ट्रैफिक पुलिसकर्मी मौजूद रहते हैं. लेकिन हर जगह ट्रैफिक पुलिस वाला मौजूद हो, यह मुमकिन नहीं है. इसलिए दिल्ली की 124 सड़क पर ओवर स्पीड पकड़ने वाले 124 कैमरे लगाए गए हैं. वहीं, 52 रेडलाइट ऐसी हैं जहां लालबत्ती पर नियम तोड़ने वालों को पकड़ने के लिए कैमरे लगाए गए हैं.
यह कैमरे दो फेज, संशोधित मोटर व्हीकल एक्ट से पहले और उसके बाद लगाए गए हैं. इन्हीं कैमरों की मदद से ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों पर सख्ती की जा रही है और चालान के मामले बढ़ रहे हैं. ट्रांसपोर्ट मिनिस्ट्री के आंकड़ों के मुताबिक ओवर स्पीड वॉयलेशन के 10 लाख, रेड, स्टॉप लाइन को जम्प करना और रॉन्ग साइड चलने पर 14.45 लाख चालान काटे गए हैं.

इन राज्यों में घटा रोड एक्सीडेंट का आंकड़ा

   2018              2019



      सितम्बर-अक्टूबर          सितम्बर-अक्टूबर

यूपी   1503                    1355

बिहार 459                     411

चंडीगढ़ 8                      2

उत्तराखण्ड 78                  61

हरियाणा 497                   438

गुजरात 557                    480

ये भी पढ़ें- 

इन शहरों को भी जल्द जोड़ा जा सकता है 6 हाईस्पीड रेल कॉरिडोर से

एक बार फिर से महंगा हो सकता है आलू, लेकिन किसानों को नहीं मिलेगा फायदा


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज