लाइव टीवी

Lockdown 4.0: दिल्‍ली में 4 लाख प्रवासी मजदूरों ने अपने मूल प्रदेश जाने के लिए कराया रजिस्ट्रेशन
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: May 21, 2020, 12:40 AM IST
Lockdown 4.0: दिल्‍ली में 4 लाख प्रवासी मजदूरों ने अपने मूल प्रदेश जाने के लिए कराया रजिस्ट्रेशन
दिल्‍ली में फंसे अधिकतर मजदूर यूपी और बिहार के हैं.

विभिन्न प्रदेशों के रहने वाले लाखों की संख्या में प्रवासी मजदूर (Migrant Laborers) दिल्ली में फंसे हुए हैं. ऐसे में दिल्ली में रह रहे करीब 4 लाख प्रवासी लोगों ने अपने मूल प्रदेश जाने के लिए अब तक ऑनलाइन पंजीकरण कराया है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से देशभर में लॉकडाउन (Lockdown) है और इस वजह से विभिन्न प्रदेशों के रहने वाले लाखों की संख्या में प्रवासी मजदूर (Migrant Laborers) दिल्ली में फंसे हुए हैं. जबकि लॉकडाउन के चलते सभी का रोजगार चला गया है और वे बेरोजगार घर पर बैठे हैं. बेरोजगारी की वजह से वे आर्थिक संकट का सामना कर रहे हैं, लिहाजा वे अपने मूल प्रदेश जाना चाहते हैं. ऐसे में दिल्ली में रह रहे करीब 4 लाख प्रवासी लोगों ने अपने मूल प्रदेश जाने के लिए अब तक ऑनलाइन पंजीकरण कराया है.

बिहार और उत्तर प्रदेश के हैं अधिकांश मजदूर
घर जाने वाले प्रवासियों में मुख्य रूप से बिहार और उत्तर प्रदेश के निवासी हैं. बिहार के रहने वाले करीब 2 लाख लोगों ने पंजीकरण कराया है, जबकि उत्तर प्रदेश के रहने वाले 1.84 लाख से अधिक लोगों ने पंजीकरण कराया है. इसके अलावा छत्तीसगढ़, झारखंड और मध्य प्रदेश के रहने वाले लोगों ने पंजीकरण कराया है. दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने रेलवे को पत्र लिख कर अगले चार दिनों में 262 ट्रेनों की मांग की है, ताकि सभी लोगों को उनके मूल प्रदेश भेजा जा सके. वहीं, आज दिल्ली सरकार ने पंजीकृत करीब 37,500 प्रवासी मजदूरों को 25 ट्रेनों की मदद से अपने मूल प्रदेश के लिए भेजा है.

यहां मजदूर कर रहे हैं ऑनलाइन पंजीकरण



दिल्ली सरकार ने कुछ दिन पहले अपने मूल प्रदेश जाने को इच्छुक प्रवासी मजदूरों को ऑनलाइन पंजीकरण करने के लिए कहा था. इसके लिए दिल्ली सरकार ने https://epass-jantasamvad-org/train/passenger लिंक जारी किया है. 19 मई 2020 तक इस वेबपोर्टल पर करीब 4 लाख लोगों ने पंजीकरण किया है, जिसमें सबसे अधिक बिहार और उत्तर प्रदेश के निवासी हैं. प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक, बिहार के रहने वाले करीब 1 लाख 95 हजार 746 लोगों ने घर जाने के लिए पंजीकरण किया है. इसमें बिहार के दरभंगा जाने के लिए सबसे अधिक 14836, मधुबनी जाने के लिए 14355, सीतामढ़ी जाने के लिए 11156, मुजफ्फरपुर जाने के लिए 11707 और कटिहार जाने के लिए 10247 लोगों ने पंजीकरण किया है. बिहार के अन्य सभी जिलों से भी लोगों ने घर जाने के लिए पंजीकरण किया है. इसी तरह उत्तर प्रदेश के रहने वाले करीब 1 लाख 84 हजार 997 लोगों ने पंजीकरण किया है. इसमें सबसे अधिक उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जाने के लिए 14914, गोरखपुर जाने के लिए 13279, जौनपुर जाने के लिए 11554, अंबेडकरनगर जाने के लिए 8103 और बस्ती जिला जाने के लिए 7770 लोगों ने पंजीकरण किया है. यूपी के अन्य जिलों से भी इसी तरह लोगों ने पंजीकरण कर घर जाने की इच्छा जताई है. इसी तरह छत्तीसगढ़ जाने के लिए करीब 3200, झारखंड जाने के लिए करीब 6135 और मध्य प्रदेश जाने के लिए 5132 लोगों ने पंजीकरण कराया है.



मनीष सिसोदिया ने कही ये बात
दिल्‍ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के अनुसार दिल्ली में अब तक करीब 4 लाख प्रवासी लोगों ने अपने मूल प्रदेश जाने के लिए पंजीकरण किया है. इन प्रवासी कामगारों को मूल प्रदेश पहुंचाने के लिए करीब 262 ट्रेनों की जरूरत है. जबकि सिसोदिया ने रेलवे विभाग को पत्र लिख कर कहा है कि अगले चार दिनों में उन्हें टेनें उपलब्ध कराई जाएं, ताकि प्रवासी मजदूरों को उनके मूल प्रदेश छोड़ा जा सके. दिल्ली सरकार ने 20 मई को भी करीब 25 ट्रेनों की मदद से 37500 प्रवासी कामगारों को उनके मूल प्रदेश के लिए रवाना किया है. इसमें उत्तर प्रदेश और बिहार के लिए 11-11 ट्रेनें रवाना की गई हैं. इसके अलावा झारखंड भी ट्रेन से प्रवासियों को भेजा गया है.

ये भी पढ़ें

Covid-19 के आधार पर ‘जोन’ के बंटवारे के लिए दिल्‍ली सरकार चलाएगी अभियान

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 21, 2020, 12:23 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading