कोरोना मरीजों के लिए मेडिकल ऑक्सीजन लेकर जयपुर पहुंची 4 Oxygen Express, अब टैंकरों से होगी सप्लाई

गुजरात से जयपुर पहुंची ऑक्सीजन एक्सप्रेस से ऑक्‍सीजन को अब टैंकरो के जरिए सप्लाई किया जाएगा.

Oxygen Express: रेलवे की ओर से विभिन्न राज्यों में ऑक्सीजन ट्रेनों के जरिए मेडिकल ऑक्सीजन की सप्लाई की जा रही है. आज गुजरात से ऑक्सीजन एक्सप्रेस जयपुर (Jaipur) पहुंची है. इस ऑक्सीजन को राजस्थान के तमाम अस्पतालों में टैंकरों के जरिए सप्लाई किया जाएगा. आज कानालुस (गुजरात) से कनकपुरा (जयपुर) के लिये यह चौथी ऑक्सीजन स्पेशल पहुंची है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. देश में कोरोना (Corona) संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ने और अस्पतालों व चिकित्सा संस्थानों में मेडिकल ऑक्सीजन (Medical Oxygen) की भारी किल्लत को पूरा करने के लिए रेलवे लगातार प्रयासरत है.

    रेलवे की ओर से विभिन्न राज्यों में ऑक्सीजन ट्रेनों (Oxygen Trains) के जरिए मेडिकल ऑक्सीजन की सप्लाई की जा रही है. आज गुजरात से ऑक्सीजन एक्सप्रेस (Oxygen Express) जयपुर (Jaipur) पहुंची है. इस ऑक्सीजन को राजस्थान (Rajasthan) के तमाम अस्पतालों में टैंकरों के जरिए सप्लाई किया जाएगा.

    रेलवे अधिकारियों के मुताबिक कोरोना संक्रमण को देखते हुए भारतीय रेलवे (Indian Railways) की ओर से राज्यों को लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन (LMO) पहुंचाने के लिए विभिन्न राज्यों हेतु ऑक्सीजन एक्सप्रेस रेलसेवाओं का संचालन किया जा रहा है.

    ऑक्सीजन आपूर्ति हेतु भारतीय रेलवे के विशेष प्रयासों के तहत आज कानालुस (गुजरात) से कनकपुरा (जयपुर) के लिये चौथी ऑक्सीजन स्पेशल पहुंची. यह ऑक्सीजन स्पेशल उत्तर पश्चिम रेलवे (North Western Railway) के क्षेत्राधिकार के लिए पहली ट्रेन है.

    इस ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन में 3 टैंकर है, जिनमें 57.17 टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन (LMO) है। इन  टैंकर से ऑक्सीजन को दूसरे टैंकर्स में ट्रांसफर (डिकेंटिंग) कर सडक मार्ग से राजस्थान के विभिन्न स्थानों पर पहुंचाया जाएगा.

    इससे पहले कनकपुरा स्टेशन पर तीन ऑक्सीजन स्पेशल ट्रेन आ चुकी हैं. इन ऑक्सीजन स्पेशल से उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के लिए ऑक्सीजन की आपूर्ति की गई. ऑक्सीजन स्पेशल को ग्रीन कॉरिडोर बनाकर समयानुसार पहुंचाया जा रहा है.

    उत्तर पश्चिम रेलवे पर ऑक्सीजन एक्सप्रेस औसत 60 किलोमीटर प्रतिघंटा की स्पीड से गुजर रही है. रेलवे सम्पूर्ण देश में राज्य सरकारों की बढ़ती मांग को देखते हुए अधिक संख्या में ऑक्सीजन एक्सप्रेस चलाने के लिए तैयार है.