Black Fungs in Delhi: दिल्ली के LNJP अस्पताल में ब्लैक फंगस के मरीजों की भरमार, MD ने लोगों को दी ये सलाह

दिल्‍ली में ब्‍लैक फंगस के करीब 500 मामले हैं.

दिल्‍ली में ब्‍लैक फंगस के करीब 500 मामले हैं.

Black Fungs in Delhi: कोरोना वायरस के बाद दिल्ली ब्लैक फंगस की महामारी से जूझ रही है. जबकि दिल्‍ली सरकार ने एलएनजेपी अस्‍पताल (LNJP Hospital) को ब्‍लैक फंगस का केंद्र बनाया है, जहां 41 मरीज भर्ती हैं.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. देश की राजधानी दिल्ली में ब्लैक फंगस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. जबकि दिल्ली सरकार ने एलएनजेपी अस्‍पताल (LNJP Hospital) को ब्लैक फंगस (Black Fungs) के लिए केंद्र बनाया है और यहां अब तक 41 मरीज आ चुके हैं. इसमें से एक की हालत गंभीर है और उसे आईसीयू में रखा गया है. अगर दिल्‍ली की बात करें तो करीब 500 मामले अब तक सामने आ चुके हैं.

एलएनजेपी के एमडी सुरेश कुमार (MD Suresh Kumar) ने बताया कि लगातार ब्लैक फंगस के मामले आ रहे हैं जिनके लिए 2 वार्ड बनाए गए हैं. फिलहाल मरीजों के लिए दवाई पर्याप्त है. इसके अलावा उन्‍होंने कहा कि ब्लैक फंगस खतरनाक फंगस है जो कि उनमें होता है जिनकी इम्यूनिटी कमजोर होती है या जो डायबिटीज के मरीज हैं. स्टिरॉयड से ब्लड शुगर बढ़ता है और ब्लड शुगर बढ़ने से ये फंगस हवा में होता है और सांस के माध्यम से अंदर चला जाता है. जबकि एलएनजेपी में भर्ती 41 मरीजों में 24 डाइबिटीज के हैं जिनका 300 से ऊपर शुगर है. इसके साथ उन्‍होंने कहा कि बिना डॉक्टर की सलाह के स्टिरॉयड न लें.

बता दें कि अस्‍पताल में जितने मरीज भर्ती हैं उनमें आधे मरीज कोरोना पॉजिटिव हैं और आधे वो हैं जो कोरोना से ठीक हो गए हैं. जबकि 4-5 मरीज दिल्ली से बाहर हरियाणा और राजस्थान से भी आये हैं.

डॉ. सुरेश कुमार ने दी ये सलाह
एलएनजेपी के एमडी सुरेश कुमार ने कहा कि मरीज के भर्ती होते ही हम दवाई के लिए मेल करते हैं. पहले से भी कुछ इंजेक्शन हमारे पास थे जिससे इलाज सुचारू रूप से चल रहा है. वहीं, सर्जरी के लिए दो ओटी (OT) बनाये गए हैं. वहीं उन्‍होंने सलाह देते हुए कहा कि सबसे जरूरी है सुगर कंट्रोल रखें, बिना सलाह के दवाई ना लें और एक मास्क 3-4 दिन से ज्‍यादा इस्तेमाल नहीं करना है. अगर ऑक्सीजन घर पर ले रहे हैं तो ड्राई ऑक्सीजन नहीं लेनी है. अगर खाना खाने में दिक्‍कत, चेहरा काला, सिर दर्द या फिर चेहरे पर सूजन है तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लें. वहीं, उन्‍होंने कहा कि ब्‍लैक फंगस आगे जाकर फेफड़े और पूरे शरीर में फैल जाता है, किडनी को भी नुकसान पहुंचाता है. यह कई बार इतनी तेजी से फैलता है कि मरीज की मौत हो जाती है, लेकिन सावधानी रखने से यह संकट दूर रह सकता है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज