Home /News /delhi-ncr /

500 crore business with tiranga in every house more than 10 lakh got employment nodelsp

हर घर तिरंगा से हुआ 500 करोड़ का व्यापार, बड़े पैमाने पर मिला रोजगार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किए गए हर घर तिरंगा अभियान ने लोकल पर वोकल एवं आत्मनिर्भर भारत की पहल को बहुत वृद्धि मिली है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किए गए हर घर तिरंगा अभियान ने लोकल पर वोकल एवं आत्मनिर्भर भारत की पहल को बहुत वृद्धि मिली है.

Har ghar tiranga campaign: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किए गए हर घर तिरंगा अभियान ने लोकल पर वोकल एवं आत्मनिर्भर भारत की पहल को बहुत वृद्धि मिली है. हर घर तिरंगा अभियान से देश भर में इस बार 30 करोड़ से अधिक राष्ट्रीय ध्वज की बिक्री से लगभग 500 करोड़ रुपये का कारोबार हुआ है.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

ध्वज संहिता में संशोधन ने देश में 10 लाख से अधिक लोगों को दिया रोजगार
व्यापारी संगठनों ने किए 3000 से अधिक तिरंगा कार्यक्रम

नई दिल्ली. देश भर में भारतीय तिरंगा फहराने के लिए पूरा देश एक नए और जोश के साथ स्वतंत्रता दिवस मनाने के लिए तैयार है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किए गए हर घर तिरंगा अभियान ने लोकल पर वोकल एवं आत्मनिर्भर भारत की पहल को बहुत वृद्धि मिली है, क्योंकि हर घर तिरंगा अभियान से देश भर में इस बार 30 करोड़ से अधिक राष्ट्रीय ध्वज की बिक्री से लगभग 500 करोड़ रुपये का कारोबार हुआ है.
कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स ‘कैट‘ ने कहा कि राष्ट्रभक्ति एवं स्वरोजगार से जुड़े इस अभियान ने पूरे देश में लोगों के बीच देशभक्ति की एक अद्भुत भावना तथा कोआपरेटिव व्यापार की बड़ी संभावनाएं खोल दी हैं. तिरंगा के प्रति लोगों के समर्पण और उत्साह को देखते हुए कैट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस वर्ष के 15 अगस्त से 15 अगस्त 2023 तक की अवधि को भारत की स्वतंत्रता के समाप्त होने पर ‘स्वराज वर्ष‘ के रूप में घोषित करने की अपील की है.

व्यापारी संगठनों ने किए 3000 से अधिक तिरंगा कार्यक्रम
कैट  के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी.सी. भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा कि पिछले 15 दिनों के दौरान पूरे देश में कैट के झंडे तले बड़ी संख्या में व्यापारी संगठनों ने 3000 से अधिक तिरंगा कार्यक्रम आयोजित किए, जिनमें बड़ी संख्या में लोगों ने स्वेच्छा से भाग लिया. व्यापारियों सहित अन्य विभिन्न क्षेत्रों  के लोगों ने आगे बाद चढ़ कर आजादी के उत्साह से हर कार्यक्रम में शामिल होकर तिरंगे की शान को बरकरार रखा. हर घर तिरंगा आंदोलन ने भारतीय उद्यमियों की क्षमता को भी दर्शाया है, जिन्होंने देश के लोगों की तिरंगे की अभूतपूर्व मांग को पूरा करने के लिए लगभग 20 दिनों के रिकॉर्ड समय में 30 करोड़ से अधिक तिरंगे का निर्माण किया.

ध्वज संहिता में संशोधन ने देश में 10 लाख से अधिक लोगों को दिया रोजगार
खंडेलवाल ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा फ्लैग कोड में पॉलिएस्टर और मशीनों से झंडे बनाने की अनुमति में किए गए बदलाव ने भी देश भर में झंडों की आसान उपलब्धता में बहुत योगदान दिया है. पहले भारतीय तिरंगे को केवल खादी या कपड़े में बनाने की अनुमति थी. ध्वज संहिता में इस संशोधन ने देश में 10 लाख से अधिक लोगों को रोजगार दिया, जिन्होंने अपने घर में या छोटे स्थानों पर स्थानीय दर्जी की सहायता से बड़े पैमाने पर तिरंगा झंडा बनाया.

Tags: Narendra modi, New Delhi News Today, Tiranga yatra

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर