• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • दिल्‍ली के 15 में से 6 जिलों की सुरक्षा कमान पहली बार महिला DCP के हाथ, गृह मंत्रालय के प्रस्ताव को LG ने दी मंजूरी

दिल्‍ली के 15 में से 6 जिलों की सुरक्षा कमान पहली बार महिला DCP के हाथ, गृह मंत्रालय के प्रस्ताव को LG ने दी मंजूरी

दिल्‍ली के छह जिलों में पुलिस उपायुक्त के रूप में महिला अधिकारी नजर आएंगी.

दिल्‍ली के छह जिलों में पुलिस उपायुक्त के रूप में महिला अधिकारी नजर आएंगी.

Delhi Police News: गृह मंत्रालय (Home Ministry) के गृह विभाग द्वारा जारी एक आदेश और दिल्‍ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल की मंजूरी के बाद दिल्‍ली में पहली बार 15 जिलों में से छह में पुलिस उपायुक्त के रूप में महिला अधिकारी कमान संभालेंगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली (Delhi) में पहली बार 15 जिलों में से छह में पुलिस उपायुक्त के रूप में महिला अधिकारी कमान संभालेंगी. हालांकि अब तक तीन महिला डीसीपी थीं, लेकिन गृह मंत्रालय (Home Ministry)के गृह विभाग द्वारा जारी एक आदेश और दिल्‍ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल (Anil Baijal) की मंजूरी के साथ तीन और महिला अधिकारियों की पोस्टिंग की पुष्टि की गई है. इस वजह से अब दिल्‍ली के छह जिलों में पुलिस उपायुक्त के रूप में महिला अधिकारी नजर आएंगी.

    इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस अधिकारी बेनिता मैरी जयकर भी इस सूची में शामिल हैं, जो दक्षिणी दिल्ली की डीसीपी की कमान संभालेंगी. उन्होंने कहा कि मुझे खुशी है कि सभी को समान अवसर दिया जा रहा है. सभी जेंडर के अधिकारियों को एक ही तरह की परीक्षा और प्रशिक्षण से गुजरना होता है. तब कोई असमानता नहीं थी. अब भी नहीं होनी चाहिए. मुझे उम्मीद है कि मैं उम्मीदों पर खरा उतरूंगी.’

    इसके अलावा जयकर ने कहा कि जब मैं 10 साल पहले दिल्ली पुलिस में प्रोबेशनर के रूप में शामिल हुई थी, तब मैं दक्षिण जिले में तैनात थी. मैं दिसंबर 2012 में निर्भया गैंगरेप-मर्डर केस के दौरान काम कर रही थी. मुझे लगता है कि मैं जिले और काम दोनों से परिचित हूं. एक डीसीपी के तौर पर नई चुनौतियां होंगी, लेकिन मैं तैयार हूं. बता दें कि 2010 बैच की आईपीएस अधिकारी जयकर 10 साल से अधिक समय से दिल्ली पुलिस में सेवा दे रही हैं. इससे पहले वह 7वीं बटालियन में डीसीपी के पद पर तैनात थीं.

    ईशा पांडे समेत इन्‍हें भी मिली जिम्‍मेदारी
    जबकि ईशा पांडे दक्षिणपूर्व जिले के डीसीपी के रूप में कार्यभार संभालेंगी और श्वेता चौहान मध्य जिले का नेतृत्व करेंगी. ईशा पुलिस कंट्रोल रूम में डीसीपी के पद पर तैनात थीं. इसके अलावा आईपीएस अधिकारी उषा रंगनानी, उर्वीजा गोयल और प्रियंका कश्यप क्रमशः उत्तर-पश्चिम, पश्चिम और पूर्वी जिलों में डीसीपी पद पर तैनात हैं. वहीं, 2010 बैच की आईपीएस अधिकारी चौहान दिल्ली पुलिस मुख्यालय में थीं और भर्तियों से संबंधित कामकाज संभालती थीं. उनका तबादला सेंट्रल डिस्ट्रिक्ट में कर दिया गया है. उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं लगता कि अब यह केवल पुरुषों का ही काम रह गया है. जब मैंने आदेश देखा, तो मुझे लगा कि शीर्ष नेताओं ने महिला अधिकारियों के साथ भेदभाव नहीं किया और योग्यता और अनुभव के आधार पर पोस्टिंग दी. महिलाओं को छह महत्वपूर्ण जिलों का नेतृत्व करते हुए देखना अद्भुत होगा. जनता इस फैसले की सराहना करेगी.

    पहले से ही पश्चिमी जिले में डीसीपी के रूप में तैनात उर्वीजा गोयल ने कहा कि यह निर्णय भविष्य में कई महिला अधिकारियों को प्रोत्साहित करेगा. उन्होंने कहा कि यह बहुत अच्छा लगता है कि अधिक संख्या में महिला अधिकारियों को महत्वपूर्ण जिले दिए जा रहे हैं. इससे पहले एक बार में चार महिला अधिकारियों को महत्वपूर्ण जिले दिए गए थे. इस बार मुझे पता है कि मेरे सीनियर्स अच्छा प्रदर्शन करेंगे और युवा महिला अधिकारियों के लिए मार्ग प्रशस्त करेंगी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज