होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /65 साल के बुजुर्ग ने बहू के पेट पर हाथ फेरा, अश्‍लील टिप्‍पणियां भी कीं, अब खाएगा जेल की हवा

65 साल के बुजुर्ग ने बहू के पेट पर हाथ फेरा, अश्‍लील टिप्‍पणियां भी कीं, अब खाएगा जेल की हवा

बहू के साथ गलत व्‍यवहार करने वाले ससुर को कोर्ट ने दोषी ठहराते हुए 3 साल जेल की सजा सुनाई है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी ग्राफिक्‍स)

बहू के साथ गलत व्‍यवहार करने वाले ससुर को कोर्ट ने दोषी ठहराते हुए 3 साल जेल की सजा सुनाई है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी ग्राफिक्‍स)

Delhi News: कोर्ट में बहस के दौरान बचाव पक्ष ने प्रोबेशन ऑफ ऑफेंडर्स एक्‍ट का हवाला देते हुए आरोपी को राहत देने की गुहा ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

पीड़िता ने बताया- मई 2021 में उनके साथ की गई थी अश्‍लील हरकत
कोर्ट ने बचाव पक्ष की दलीलों को खारिज करते हुए सुनाया फैसला
घटना के वक्‍त किचन में थी महिला, जब ससुर ने पीछे से दबोच लिया

नई दिल्‍ली. देश की राजधानी दिल्‍ली में एक ऐसी घटना सामने आई है, जिससे सुनकर आप भी हैरान-परेशान हो जाएंगे. घर में जिनपर मान-सम्‍मान की रक्षा करने की जिम्‍मेदारी होती है, उसी शख्‍स ने महिला की आबरू पर हाथ डालने की कोशिश की है. कोर्ट ने इस मामले में सख्‍त रुख अपनाते हुए आरोपी को 3 साल जेल की सजा सुनाई है. दरअसल, एक महिला ने अपने ही ससुर पर पीछे से दबोचने, पेट पर हाथ सहलाने और अश्‍लील टिप्‍पणी करने का आरोप लगाया था. कोर्ट ने आरोपों को सही ठहराते हुए पीड़िता के 65 वर्षीय ससुर को दोषी माना है.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पीड़िता ने मेट्रोपोलिटन कोर्ट को बताया कि नवंबर 2020 में आरोपी के बेटे से उनकी शादी हुई थी. महिला ने बताया कि उनके पति की तबीयत ठीक नहीं रहती थी. इसे देखते हुए वह अपने मायके चली गई थीं. काफी दिन बीतने के बाद वह ससुराल आ गईं. उन्‍होंने कोर्ट को बताया कि 16 मई 2021 को वह किचन में काम कर रही थीं. उसी वक्‍त उनके ससुर वहां आए और उन्‍हें पीछे से दबोच लिया और उनके साथ अश्‍लील हरकत की. उन्‍होंने तत्‍काल इसकी जानकारी पति को दी. पीड़िता ने बताया कि उनके पति ने अपने पिता से इस संबंध में बात करने की बात कही थी. महिला ने यह भी आरोप लगाया था कि इसके बाद उनकी सास और ननद ने उन्‍हें ससुराल से निकाल दिया, जिसके बाद वह पुलिस के पास गई थीं.

केरलः मदरसा शिक्षक ने नाबालिग लड़के को बंधक बनाकर किया यौन शोषण, हुई 20 साल की सजा 

कोर्ट का सख्‍त रुख
जज एमवी चव्‍हाण की अदालत ने इस मामले में महिला के ससुर को दोषी पाते हुए 3 साल जेल की सजा सुनाई. मेट्रोपोलिटन कोर्ट ने अपने फैसले में कहा, ‘आरोपी ने गलत भावना से ऐसा किया था. यदि कोई व्‍यक्ति महिला के मान-सम्‍मान को भंग करने या फिर इस बात को जानते हुए कि ऐसा करने से महिला की प्रतिष्‍ठा को ठेस पहुंचेगी, उस काम को अंजाम देने के लिए आपराधिक तरीके से ताकत का इस्‍तेमाल करता है तो उसे दंडित किया ही जाएगा. इस मामले यह नहीं भूलना चाहिए कि आरोपी महिला का ससुर है, जिसने इस घृणित कार्य को अंजाम दिया. यदि इसके प्रति अनावश्‍यक नरमी बरती जाएगी तो समाज में इसका गलत संदेश जाएगा.’

कोर्ट ने नकारी बचाव पक्ष की दलील
कोर्ट में बहस के दौरान बचाव पक्ष ने प्रोबेशन ऑफ ऑफेंडर्स एक्‍ट का हवाला देते हुए आरोपी को राहत देने की गुहार लगाई. साथ ही कोर्ट का इस तरफ भी ध्‍यान दिलया कि घटना के 12 दिन बाद मामला दर्ज कराया गया था. कोट्र ने तमाम दलीलों को खारिज करते हुए कहा कि आरोपी प्रोबेशन ऑफ ऑफेंडर्स एक्‍ट के तहत राहत पाने का हकदार नहीं है, क्‍योंकि इस मामले में महिला के खिलाफ अपराध किया गया है. उनकी प्रतिष्‍ठा और उने चरित्र के खिलाफ अपराध किया गया है.

Tags: Crime Against woman, Crime News, Delhi news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें