Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    COVID-19: दिल्ली में फिर पैर पसार रहा कोरोना, एक दिन में सबसे ज्यादा 6725 नए मामले

    दिल्‍ली में कोरोना से मरने वालों की संख्‍या 6652 हो गई है.
    दिल्‍ली में कोरोना से मरने वालों की संख्‍या 6652 हो गई है.

    दिल्‍ली (Delhi) में कोरोना वायरस (Coronavirus) लगातार पैर पसार रहा है. जबकि मंगलवार को रिकॉर्ड 6725 नए मामले सामने आने से हड़कंप मच गया है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 3, 2020, 10:11 PM IST
    • Share this:
    नई दिल्ली. देश की राष्ट्रीय राजधानी दिल्‍ली (Delhi)में मंगलवार को कोरोना वायरस के संक्रमण (Coronavirus Infection)के एक दिन में सर्वाधिक 6725 नए मामले सामने आने से हड़कंप मच गया है. इसके साथ दिल्‍ली में कोरोना संक्रमितों का कुल आंकड़ा चार लाख के पार पहुंच गया है. देश की राजधानी में पहली बार कोविड-19 के 6000 से अधिक नए मामले सामने आए हैं. इसके पहले शुक्रवार को कोरोना संक्रमण के 5891 नए मामले सामने आए थे.

    चार लाख के पार पहुंचा आंकड़ा
    दिल्ली में रविवार तक लगातार पांच दिनों तक संक्रमण के 5000 से अधिक नए मामले सामने आ रहे थे. जबकि सोमवार को संक्रमण के 4001 नए मरीज सामने आए. वहीं, मंगलवार को तो 6725 नए मामलों के साथ रिकॉर्ड बन गया है. इसके साथ दिल्ली में संक्रमण के कुल मामलों का आंकड़ा 4,03,096 पहुंच चुका है. आपको बता दें कि त्योहारों के इस मौसम में लोगों की आवाजाही बढ़ने के कारण संक्रमण के मामलों में भी बढ़ोत्तरी देखने को मिल रही है. दिल्‍ली सरकार के बुलेटिन के मुताबिक, इस समय 36,375 मरीजों का इलाज चल रहा है. वहीं, सोमवार को 59540 नमूनों की जांच के बाद 6725 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई और संक्रमित होने की दर बढ़कर 11.29 प्रतिशत हो गई है.





    दिल्ली में कोरोना वायरस से 6652 लोगों की मौत
    दिल्ली सरकार द्वारा जारी बुलेटिन के मुताबिक,देश की राजधानी में संक्रमण के कारण पिछले 24 घंटे में 48 मरीजों की मौत हुई है. इसके साथ कोरोना वायरस संक्रमण के कारण मरने वालों की संख्या बढ़कर 6,652 हो गई.

    वायु प्रदूषण के साथ कोविड-19 ने स्थिति को ‘घातक’ बनाया
    दिल्ली सरकार के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय (Gopal Rai) ने कहा कि वायु प्रदूषण के साथ कोविड-19 ने स्थिति को ‘घातक’ बना दिया है और नए आयोगों के गठन से अधिक जरूरी जमीनी स्तर पर ठोस कार्रवाई करना है. देश में पर्यावरण प्रदूषण लगातार बढ़ रहा है. दिल्‍ली-एनसीआर सहित अन्‍य राज्‍यों के कई शहरों में हवा की गुणवत्‍ता बहुत खराब श्रेणी में पहुंच गई है. जबकि कई जगहों पर हालात गंभीर हैं. जिससे इन शहरों में सांस लेना भी मुश्किल होता जा रहा है. हवा की गुणवत्‍ता को सुधारने के लिए केंद्र सरकार सहित राज्‍य सरकारें तमाम हथकंडे अपना रही हैं साथ ही फंड भी जारी कर रही हैं. इसी सोमवार को केंद्रीय वित्‍त मंत्रालय ने पांचवें वित्‍त आयोग की सिफारिशों को स्‍वीकार करते हुए हवा की गुणवत्‍ता सुधारने के लिए राज्‍यों के लिए 2200 करोड़ रुपये की राशि मंजूर की है. इस राशि से फंड पाने वालों में 15 राज्‍यों के 42 शहरों को शामिल किया गया है. इसे शहरों की स्‍थानीय निकाय वायु प्रदूषण घटाने के कामों में खर्च कर सकेंगी. हालांकि इस राशि को मंजूरी मिलने के बाद पर्यावरण विशेषज्ञ इस पर तमाम सवाल उठा रहे हैं.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज