AIIMS की नौकरी दिलाने के नाम पर चल रहा था ठगी का कारोबार, एक गिरफ्तार, फर्जी नियुक्ति पत्र जब्त
Delhi-Ncr News in Hindi

AIIMS की नौकरी दिलाने के नाम पर चल रहा था ठगी का कारोबार, एक गिरफ्तार, फर्जी नियुक्ति पत्र जब्त
एम्स की नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाला गिरफ्तार. फर्जी नियुक्ति पत्र और मुहर जब्त.

सुमांता के खिलाफ दी गई शिकायत जब तथ्यपरक लगी तो दिल्ली पुलिस ने उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की. पूछताछ में आरोपी ने पुलिस को गुमराह करना शुरू किया. बाद में जब पुलिस सख्त हुई तो वह टूट गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 1, 2020, 4:03 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (AIIMS) में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले इंटरस्टेट गैंग का पर्दाफाश करने का दावा किया है दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने. पुलिस ने पश्चिम बंगाल (West Bengal) की रहने वाले सुमांता चटर्जी को गिरफ्तार (Arrest) किया है. ये एम्स में नौकरी दिलाने के नाम पर लोगों के साथ ठगी की वारदात को अंजाम दे रहा था.

देहरादून के शख्स ने दिल्ली पुलिस से की थी शिकायत

दिल्ली के हौजखास थाने (Hauz Khas Police Station) की पुलिस को देहरादून (Dehradun) से एक शख्स ने शिकायत दी थी. शिकायत में बताया गया था कि नेहा शर्मा नाम की एक महिला ने एम्स में जॉब दिलाने के नाम पर 30 हजार रुपये ठग लिए हैं. बाद में नेहा शर्मा ने उस शख्स को दिल्ली आने को कहा और जॉब के प्रोसेस को आगे बढ़ाने के लिए एक नंबर दिया जो सुमांता चटर्जी का था. दिल्ली आकर जब पीड़ित को शक हुआ तो वह एम्स पहुंचा जहां सुमांता कुछ और लोगों के साथ मौजूद था. पीड़ित ने अपने स्तर पर पता किया तो जानकारी मिली कि सुमांता जिन लोगों के साथ एम्स पहुंचा था, दरअसल उन सभी को एम्स में जॉब दिलाने का भरोसा देकर लाया गया था. एम्स में सभी लोगों से एप्लिकेशन समेत तमाम प्रोसेस के बहाने से पैसे लिए गए थे. सुमांता ने फर्जी स्टाम्प के जरिये एम्स का मूवमेंट पास भी लोगों को दिया ताकि भरोसा हो सके कि उन्हें वाकई एम्स में जॉब मिल रही है. जिसके बाद दिल्ली पुलिस को मामले की शिकायत दी गई.



फर्जी स्टांप और अपॉइंटमेंट लेटर जब्त
दिल्ली पुलिस ने जांच शुरू की और टेक्निकल सर्विलांस के जरिए सुमांता की पड़ताल शुरू की. सुमांता के खिलाफ दी गई शिकायत जब तथ्यपरक लगी तो उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की गई. पूछताछ में आरोपी ने पुलिस को गुमराह करना शुरू किया. बाद में जब पुलिस सख्त हुई तो वह टूट गया और उसने बताया कि वह और उसकी साथी नेहा शर्मा ने दिल्ली और देश के राज्यों के लोगों के साथ एम्स में जॉब दिलाने के नाम पर पैसों की ठगी की है. पूछताछ के बाद सुमांता को गिरफ्तार कर लिया गया है. उसके पास से फर्जी स्टांप, एम्स के फर्जी मूवमेंट पास, फर्जी अपॉइंटमेंट लेटर बरामद किया गया है. सुमांता नोएडा में गार्ड की नौकरी करता है और पश्चिम बंगाल का रहने वाला है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading