लाइव टीवी

मुस्लिम बहुल ओखला विधानसभा क्षेत्र में ही आता है शाहीन बाग,अमानतुल्लाह खान है AAP प्रत्याशी
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: February 11, 2020, 12:05 PM IST
मुस्लिम बहुल ओखला विधानसभा क्षेत्र में ही आता है शाहीन बाग,अमानतुल्लाह खान है AAP प्रत्याशी
ओखला विधानसभा सीट से अमानतुल्लाह खान आम आदमी पार्टी से प्रत्याशी हैं.

दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Election 2020) की मतगणना मंगलवार को शुरू हुई. मतगणना के प्रारंभिक रुझानों में ही दिल्ली में सत्ताधारी आम आदमी पार्टी (AAP) सबसे आगे रही और दूसरे स्थान पर भारतीय जनता पार्टी (BJP) है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 11, 2020, 12:05 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Election 2020) में अगर कोई एक मुद्दा सबसे ज्यादा असरदार कहा जा सकता है तो वो होगा शाहीन बाग का प्रदर्शन. शाहीन बाग का ये जो विरोध प्रदर्शन हो रहा है वो क्षेत्र ओखला विधान सभा सीट के तहत आता है. मतगणना के दौरान लोगों का सबसे ज्यादा ध्यान ओखला विधानसभा सीट (Okhla Assembly seat)  पर ही रहा है क्योंकि यहां से वर्तमान विधायक आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार अमानतुल्लाह खान उम्मीदवार हैं.

मुस्लिम बहुल सीट है ओखला
ओखला विधानसभा सीट बेहद अहम है. यह दिल्‍ली का पुराना इंडस्ट्रियल एरिया है. ओखला पूर्वी दिल्‍ली लोकसभा क्षेत्र का हिस्‍सा है. ओखला विधानसभा के मुख्य इलाकों में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्विद्यालय, जामिया नगर, शाहीन बाग, जाकिर नगर, अबुल फजल मुस्लिम बहुल इलाके हैं तो वहीं जसोला, सरिता विहार और मदनपुर खादर में हिंदू मतदाताओं की संख्या है.

अमानतुल्लाह खान ने 2015 में बड़े अंतर से जीत दर्ज की थी. करीब 64 हज़ार वोटो के मार्जिन से अमानतुल्लाह खान जीते थे. माना जा रहा था कि इस सीट पर कांग्रेस ने परवेज़ हाशमी को मैदान में उतारा था जो पूर्व राज्यसभा सांसद हैं और 2008 में यहां से विधायक भी रहे.

CAA/NRC के विरोध का केंद्र शाहीन बाग ओखला विधानसभा में ही है
देशभर में CAA/NRC के विरोध का केंद्र शाहीन बाग ओखला विधानसभा में ही है. करीब दो महीने से यहां चल रहे प्रोटेस्ट को बीजेपी ने चुनावों में खूब भुनाने की कोशिश की लेकिन बीजेपी को सियासी फायदा नहीं हुआ. इसके उलट दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शाहीन बाग प्रोटेस्ट से शुरुआत में दूरी बनाए रखी, लेकिन जब बीजेपी ने इसे बड़ा सियासी मुद्दा बनाया तो सीएम ने यहां तक कह दिया कि अगर पुलिस उनके हाथ में होती तो वे सड़क खुलवा देते.

आप के प्रचार की कमान खुद अरविंद केजरीवाल ने संभाल रखी थी, लेकिन अरविंद केजरीवाल ने एक भी चुनावी सभा या रोडशो इस विधानसभा में नहीं किया. बावजूद इसके आम आदमी पार्टी की जीत बताती है कि विधानसभा चुनावो में मुस्लिम मतदाताओं की पहली पसंद कांग्रेस की बजाए आम आदमी पार्टी बन गयी है.ये भी पढ़ें - 

नतीजों से पहले बोले मनीष सिसोदिया- बेचैनी तो है लेकिन जीत को लेकर निश्चिंत

गार्गी कॉलेज: छात्राओं ने सुनाई उस रात की आपबीती- दीवार फांदकर आए आदमी, अश्लील हरकतें कीं और...

शाहीन बाग: SC ने बच्ची की मौत का लिया संज्ञान, दिल्‍ली सरकार से मांगा जवाब

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 11, 2020, 10:56 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर