संजय सिंह ने श्रमिक ट्रेनों की बदहाली पर रेल मंत्री पीयूष गोयल को लिखी चिट्ठी, कसा तंज
Delhi-Ncr News in Hindi

संजय सिंह ने श्रमिक ट्रेनों की बदहाली पर रेल मंत्री पीयूष गोयल को लिखी चिट्ठी, कसा तंज
संजय सिंह ने कहा कि केंद्र को तय करना है कि सबको साथ लेकर चलना है कि नहीं. (फाइल फोटो)

राज्यसभा सांसद संजय सिंह (Sanjay Singh) ने श्रमिकों के लिए चल रही ट्रेनों के देरी के मुद्दे पर रेल मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) को एक चिट्ठी लिखी है. इसमें सिंह ने रेल मंत्री से श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में होने वाली लापरवाही को मजदूर वर्ग के साथ घिनौना मजाक बताया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. आम आदमी पार्टी (AAP) के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह (Sanjay Singh) ने श्रमिकों के लिए चल रही ट्रेनों के देरी के मुद्दे पर रेल मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) को एक चिट्ठी लिखी है. इस चिट्टी में सिंह ने रेल मंत्री से श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में होने वाली लापरवाही को मजदूर वर्ग के लिए घिनौना मजाक बताया है. आप नेता ने कहा है कि इस आपदा की घड़ी में उनकी बेबसी और मजबूरी को नजरअंदाज कर उनके जान को जोखिम में डाला गया है. इस चिट्ठी में उन्होंने 17 तारीख को सूरत से सिवान के लिए निकली एक ट्रेन का भी जिक्र किया है. उन्होंने लिखा है कि 17 तारीख को सूरत से चली ट्रेन जिसे दो दिन बाद सीवान पहुंचना था. वो ट्रेन 9 दिन बात 25 तारीख को अपने गंतव्य स्थान पर पहुंचती है. वहीं जिस ट्रेन को महाराष्ट्र के बसई से चलकर यूपी के गोरखपुर पहुंचना था, वो ट्रेन ओड़िसा के राउरकेला पहुंच गई.

सिंह ने अखबारों में छपी रिपोर्टों का हवाला देते हुए कहा है कि ऐसी 40 ट्रेनें अपने तय रास्ते से भटक गई. इस मामले पर आप नेता संजय सिंह ने रेल मंत्री से चिट्ठी लिखकर कई सवाल पूछे हैं.

मजदूरों की मौत को बताया आपराधिक कृत्य
सिंह ने रेल मंत्री से अपनी चिट्ठी में पूछा कि ये किस प्रकार आप इनकी घर वापसी करवा रहे हैं? सिंह ने मजदूरों की मौत को आपराधिक कृत्य बताते हुए इसके जिम्मेदार लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर सख्त कार्रवाई करने की मांग की है.
श्रमिको के मुद्दे पर राजनीतिक दलों की बयानबाजी जारी


कोरोना संकट के कारण देश में दो महीनों तक लॉकडाउन लागू रहा. इस दौरान देश के कई राज्यों में फंसे प्रवासी श्रमिक लगातार अपने अपने गृह राज्यों में वापस जाने का प्रयास करते रहें. इस दौरान पैदल, साइकिल से श्रमिक अपने घर वापस जाने का प्रयास कर रहे थे. बाद में राज्य सरकारों की सहमति से श्रमिक स्पेशल ट्रेन की शुरुआत की गई. ताकि प्रवासी अपने राज्य वापस लौट सके.

दरअसल, हर दिन की कमाई पर जीवन गुजारने वाले श्रमिकों के लिए लॉकडाउन ने संकट बढ़ा दिया था. लॉकडाउन की इस पूरी अवधि के दौरान देश की मीडिया की सुर्खियों में यह मुद्दा लगातार छाया रहा. इस मुद्दे पर सभी राजनीतिक दलों ने लगातार केंद्र सरकार और राज्य सरकारों को कटघरे में खड़ा करने का प्रयास किया.

 

ये भी पढ़ें: दिल्‍ली में अभी झुलसाती रहेगी गर्मी, इस दिन से राहत मिलने की उम्मीद
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading