Home /News /delhi-ncr /

AAP MLA सौरभ भारद्वाज का बड़ा आरोप, बोले- भाजपा ने MCD कर्मचारियों के जीपीएफ के 1200 करोड़ रुपये 'डकारे'

AAP MLA सौरभ भारद्वाज का बड़ा आरोप, बोले- भाजपा ने MCD कर्मचारियों के जीपीएफ के 1200 करोड़ रुपये 'डकारे'

जीपीएफ को लेकर आप विधायक सौरभ भारद्वाज ने नॉर्थ एमसीडी पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं.

जीपीएफ को लेकर आप विधायक सौरभ भारद्वाज ने नॉर्थ एमसीडी पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं.

MCD News: आम आदमी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता और विधायक सौरभ भारद्वाज (AAP MLA Saurabh Bhardwaj) ने उत्तरी दिल्ली नगर निगम (North MCD) पर कर्मचारियों का जीपीएफ हड़पने का आरोप लगाया है. इसके साथ उन्‍होंने भाजपा के दिल्‍ली प्रदेश अध्‍यक्ष आदेश गुप्ता से भी कई सवाल भी पूछे हैं.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्‍ली. एमसीडी के कर्मचारियों के जीपीएफ (GPf) को लेकर भाजपा और आम आदमी पार्टी में घमासान जारी है. आप के मुख्य प्रवक्ता और विधायक सौरभ भारद्वाज (AAP MLA Saurabh Bhardwaj) ने कहा कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम (North MCD) के पास कर्मचारियों के जीपीएफ के 1232 करोड़ रुपये में से सिर्फ 28 करोड़ उपलब्ध हैं. एमसीडी के भाजपा नेता 2014 से कर्मचारियों का जीपीएफ जमा नहीं करवा रहे हैं. भाजपा शासित एमसीडी ने काफी कर्मचारियों को सेवानिवृत्त होने के बाद भी जीपीएफ नहीं दिया है. उन्होंने कहा, ‘दिल्ली भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता बताएं कि निगम कर्मचारियों का 1200 करोड रुपये का जीपीएफ कहां गया? एमसीडी में जिस नई पार्टी की सरकार बनेगी, वह यह पैसा कहां से लेकर आएगी.’

    इसके अलावा सौरभ भारद्वाज ने कहा कि प्राइवेट हो या सरकारी, हर कर्मचारी का जीपीएफ कटता है. इसमें एक हिस्सा कर्मचारी की तनख्वाह से कटता है और दूसरा हिस्सा एंप्लॉयर को जमा कराना होता है. एक कर्मचारी के लिए सेवानिवृत्त होते समय जीपीएफ के पैसे को लेकर बड़ी उम्मीद होती है. कर्मचारी सोचता है कि सेवानिवृत्त होने के बाद जीपीएफ के पैसे से बच्चों की शादी करूंगा, मकान बनाऊंगा, काम-धंधे के अंदर पैसे लगाऊंगा और जीवन के दूसरे बड़े काम करुंगा, जिन्हें नौकरी में रहते हुए नहीं कर पाया हूं.

    सिर्फ 28 करोड रुपये उपलब्ध
    वहीं, आप नेता ने कहा, ‘उत्तरी दिल्ली नगर निगम में नेता प्रतिपक्ष ने सवाल पूछा कि कर्मचारियों का जीपीएफ का कितना पैसा होना चाहिए? जिसका जवाब आया कि 1232.45 करोड़ रुपये. इसके बाद सवाल पूछा कि जो कर्मचारी सेवानिवृत्त हो गए हैं, उनका कितना पैसा बकाया है, क्योंकि ऐसे काफी कर्मचारी हैं जो सेवानिवृत्त हो चुके ‌हैं, लेकिन उनको जीपीएफ नहीं दिया गया है. तब जवाब दिया कि उनकी करीब 38.24 करोड़ रुपये की देनदारी है. इसके अलावा विधायक ने कहा कि 1232 करोड रुपये में से अभी आपके पास कितना पैसा है. हैरान करने वाली बात यह है कि 1232 करोड़ की जगह, उत्तरी दिल्ली नगर निगम के पास इस समय मात्र 28 करोड रुपए उपलब्ध हैं. बाकी का1200 करोड़ कहां गया? यह पैसा कहीं और नहीं जा सकता है. यह पैसा कर्मचारी को देना होता है या फिर संस्थान के पास में होता है. इसके अलावा जो सेवानिवृत्त कर्मचारियों को 38 करोड़ देना है, उसके एवज में मात्र 28 करोड़ बचे हैं.

    एमसीडी के भाजपा नेता 2014 से जीपीएफ जमा नहीं करवा रहे हैं!
    सौरभ भारद्वाज ने बताया,’हमने इसके बाद सवाल पूछा कि 2014 से अब तक कितना पैसा इस खाते में जमा किया गया है. हैरानी की बात है कि 2014 से लेकर अब तक इस खाते के अंदर कोई पैसा जमा नहीं कराया गया है. कर्मचारियों की तनख्वाह से पैसा काटा जा रहा है, लेकिन जमा नहीं कराया जा रहा है. सरकार तो बहुत बड़ी चीज है, यदि कोई प्राइवेट कंपनी भी जीपीएफ का पैसा जमा नहीं कर आएगी तो उसके ऊपर फौजदारी का मुकदमा और जेल होती है. एमसीडी के भाजपा नेता 2014 से जीपीएफ जमा नहीं करवा रहे हैं. उन्होंने ना सिर्फ दिल्ली वालों को लेंटर, झाड़ू लगाने और कूड़े के पहाड़ों में लूटा बल्कि अपने कर्मचारियों को भी नहीं छोड़ा है. इसके साथ आप विधायक ने दिल्ली भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता से सवाल पूछा है. उन्‍होंने कहा कि वह बताएं निगम कर्मचारियों का 1200 करोड रुपये कहां गया? इस पैसे को कहां से लेकर आएंगे. इस पैसे को गायब कर एमसीडी से भाजपा चली जाएगी. एमसीडी में जो नई पार्टी आएगी और जिसकी सरकार बनेगी, वह यह पैसा कहां से लेकर आएंगी. यह बेहद गंभीर सवाल है.

    Tags: Aam aadmi party, AAP, BJP, Delhi MCD, Delhi MCD Elections, GPF

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर