अपना शहर चुनें

States

आरोपी शाहरुख ने मौजपुर हिंसा में ही Police पर तानी थी पिस्टल, आज दाखिल होगी चार्जशीट  

File photo.
File photo.

इसी घटना के दौरान शाहरुख पठान पर दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के एक सिपाही पर पिस्टल तानने का आरोप लगा था. इसका एक वीडियो (Video) भी सोशल मीडिया (Social Media) पर वायरल हुआ था.

  • Share this:
नई दिल्ली. फरवरी में दिल्ली हिंसा (Delhi Riot) मामले में पुलिस लगातार चार्जशीट दाखिल कर रही है. आज भी दिल्ली पुलिस की एसआईटी (SIT) तीन मामलों में चार्जशीट दाखिल कर सकती है. इसमे से एक मामला 24 फरवरी को हुई मौजपुर चौक हिंसा से जुड़ा हुआ है. चार्जशीट में लगे आरोपों के मुताबिक मौजपुर चौक पर सीएए (CAA) के विरोध और समर्थन में भीड़ इकट्ठी हो गई थी.

इसी के बाद हिंसा भड़क गई थी. जिसमे दोनों गुट की ओर से जमकर पथरावए, आगजनी और गोलीबारी की गई थी. सरकारी और निजी संपत्ति को भी नुकसान पहुंचाया गया था. इस घटना में कई पुलिसकर्मियों  और स्थानीय लोगों को चोट आई थी. इसी घटना के दौरान शाहरुख पठान पर दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के एक सिपाही पर पिस्टल तानने का आरोप लगा था. इसका एक वीडियो (Video) भी सोशल मीडिया (Social Media) पर वायरल हुआ था.

पुलिस का आरोप, ऐसे भड़की थी मौजपुर हिंसा



चार्जशीट में लगाए गए आरोपों की मानें तो मौजपुर हिंसा में ही विनोद नाम के शख्स की मौत हुई थी. लेकिन जब जांच शुरु हुई तो क्राइम ब्रांच की एसआईटी ने विनोद की मौत को हत्या में दर्ज क हिंसा की जांच शुरु की थी. जांच टीम का मानना है कि एक साजिश के तहत हिंसा को अंजाम दिया गया था.
सीएए का विरोध करने वाले उपद्रवियों ने सोशल मीडिया पर एंटी सीएए माहौल बनाकर लोगो को इकट्ठा किया था. सड़क पर चक्का जाम कर दिया था. इस हिंसा के बाद ही मुख्य आरोपी शाहरुख पठान समेत 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया था. शाहरुख हिंसा के एक अन्य मामले में भी आरोपी है.

हिंसा में निज़ामुद्दीन मरकज़ और देवबंद का नाम भी आया

दिल्ली हिंसा की जांच कर रही एसआईटी की रिपोर्ट में एक बड़ा खुलासा हुआ है. दिल्ली पुलिस ने खुलासा करते हुए कहा है कि इस हिंसा का मास्टरमाइंड राजधानी पब्लिक स्कूल का मालिक फैजल फारूक है. पुलिस ने दावा किया है कि हिंसा बड़ी साजिश के तहत हुई और फैजल फारूक हिंसा के ठीक पहले पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के कई नेताओं, पिंजरा तोड़ ग्रुप, निज़ामुद्दीन मरकज़, जामिया कॉर्डिनेशन कमेटी और देवबंद के कुछ धर्मगुरुओं के संपर्क में था. फैज़ल हिंसा से ठीक एक दिन पहले देवबंद भी गया था. उसके मोबाइल से इस बात के सबूत मिले हैं.

ये भी पढ़ें:-

फिर बंद हो सकती है शाहीन बाग-कालिंदी कुंज सड़क, Delhi Police कमिश्नर और गृह सचिव को लिखा लैटर!

Delhi: पूर्व सांसद शाहिद सिद्दीकी की भतीजी को नहीं मिला वेंटिलेटर, अस्पताल में मौत 

Unlock 1.0: दिल्‍ली के अस्‍पतालों में इन बाहरी मरीजों का भी होगा इलाज, केजरीवाल सरकार ने तय किए शर्त
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज