लाइव टीवी

निर्भया केस: विनय के वकील का दावा- दोषी की दिमागी हालत खराब, मां को नहीं पहचान रहा
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: February 20, 2020, 4:12 PM IST
निर्भया केस: विनय के वकील का दावा- दोषी की दिमागी हालत खराब, मां को नहीं पहचान रहा
पुलिस की निगरानी में दोषी विनय को कोर्ट ले जाती पुलिस (फाइल फोटो)

दोषी विनय के वकील ए.पी सिंह की इस याचिका पर कोर्ट ने तिहाड़ जेल को विनय का इलाज कराने के निर्देश दिए हैं. इस मामले में अब शनिवार को अगली सुनवाई होगी

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 20, 2020, 4:12 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. निर्भया गैंगरेप और मर्डर केस (Nirbhaya Case) अब एक अलग ही रूप ले रहा है. पटियाला हाउस कोर्ट (Patiala House Court) ने दाखिल की गई याचिका पर गुरुवार को सुनवाई करते हुए कहा है कि दोषी विनय की दिमागी हालत बहुत खराब है. अदालत के मुताबिक विनय की हालत इतनी खराब है कि उसने जेल की दीवार में सिर मारकर उसने खुद को घायल कर लिया है. दोषी के वकील ए.पी सिंह की इस याचिका पर कोर्ट ने तिहाड़ जेल को विनय का इलाज कराने के निर्देश दिए हैं. इस मामले में अब शनिवार को अगली सुनवाई होगी.

वहीं दोषी विनय के वकील एपी सिंह का कहना है कि विनय की मानसिक स्थिति इतनी खराब है कि उसने आपने आप को चोट पहुंचाते हुए उसने अपना सिर फोड़ लिया है. कोर्ट से अपील है कि जेल से इस बारे में जानकारी लें. दोषी विनय को हाई लेवल ट्रीटमेंट दिया जाए.

अपनी मां को भी नहीं पहचान रहा विनय
उन्होंने बताया कि यह घटना रविवार दोपहर को जेल नंबर 3 में हुई जिसके चलते उसे मामूली चोट आई जिसका उपचार जेल में ही कर दिया गया. उन्होंने यह भी बताया कि विनय लोगों को पहचानने से भी इनकार कर रहा है, यहां तक कि वह अपनी मां को भी नहीं पहचान पा रहा है.






चुनाव आयोग भी पहुंचे विनय के वकील
दोषी विनय के वकील एपी सिंह चुनाव आयोग भी पहुंच गए हैं. उन्होंने इलेक्शन कमीशन ऑफ इंडिया में इस पिटिशन दायर की है. उनका कहना है कि 30 जनवरी को विनय शर्मा की मर्सी पिटिशन दिल्ली सरकार के पास पहुंची थी. लेकिन जब रिजेक्श्न की रिकमेंडेशन की गई तो उस वक्त मनीष सिसौदिया न तो विधायक थे और न ही दिल्ली सरकार के गृह मंत्री. दिल्ली में उस वक्त आचार संहिता लगी हुई थी. इतना ही नहीं उनके ओएसडी के हस्ताक्षर की जो डिजिटल कॉपी लगी हुई है वह व्हाट्सएप का स्क्रीनशॉट है. उसे दया याचिका के साथ लगा दिया गया और उसके आधार पर 1 फरवरी को विनय की दया याचिका खारिज हो गई.

ये भी पढ़ें :- 

सरकार के पास नहीं बाघ-मोर को राष्ट्रीय पशु-पक्षी बताने वाले दस्तावेज, उठाया यह कदम

उत्तर प्रदेश के इस बड़े जिले में जमीन के अंदर मिला 3,000 टन सोना, जल्द शुरू होगा निकालने का काम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 20, 2020, 3:06 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर