सीनियर सॉफ्टवेयर इंजीनियर को नौकरी से निकाला तो उसने किया ऐसा काम...
Delhi-Ncr News in Hindi

सीनियर सॉफ्टवेयर इंजीनियर को नौकरी से निकाला तो उसने किया ऐसा काम...
दिल्ली पुलिस के स्पेशल से की गिरफ्त में आया हैकर.

नौकरी से निकाले गए हैकर ने 4 साइबर हमले कर 18000 मरीजों का डेटा डिलीट कर दिया. 3 लाख मरीजों की बिलिंग से जुड़ी जानकारी हासिल की और 22000 मरीजों की फर्जी एंट्री कर दी, जिसके कंपनी को काफी ज्यादा नुकसान हुआ.

  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने एक ऐसे हैकर (Hacker) को गिरफ्तार (Arrest) किया है, जिसने 4 साइबर हमले कर 18000 मरीजों का डेटा डिलीट कर दिया. इसके अलावा इस हैकर ने 3 लाख मरीजों की बिलिंग से जुड़ी जानकारी हासिल की और 22000 मरीजों की फर्जी एंट्री कर दी. इस शख्स की पहचान विकेश शर्मा के रूप में की गई है.

आईपी एड्रेस से पकड़ा गया हैकर

नॉर्थ वेस्ट जिले की डीसीपी विजयंता आर्या के मुताबिक, इजी सॉल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड के सीईओ कुणाल अग्रवाल ने शिकायत की कि किसी अज्ञात शख्स ने कोरोना (Corona) के कुछ अस्पतालों और दूसरे अस्पतालों का डेटा हैक कर लिया है. इस शिकायत के बाद साइबर सेल ने केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू की. जांच में हैकर का आईपी एड्रेस शाहदरा का मिला, जो विकेश शर्मा के नाम से था. दिल्ली पुलिस ने शाहदरा में छापेमारी कर आरोपी विकेश शर्मा को गिरफ्तार कर लिया है. पूछताछ में आरोपी ने अपनी गलती मान ली.



बदला लेने के लिए कंपनी को पहुंचाया नुकसान
आरोपी विकेश शर्मा ने बताया कि उसने आईटी से एमएससी किया है और वह शिकायतकर्ता की ही कंपनी में सीनियर सॉफ्टवेयर इंजीनियर के तौर पर काम करता था. लॉकडाउन में कंपनी ने उसकी सैलरी में कटौती कर उसे नौकरी से निकाल दिया. तब उसने इसका बदला लेने की बात सोची. उसके पास कंपनी की वेबसाइट की पूरी जानकारी थी इसलिए उसने नौकरी जाने के बाद फैसला किया कि कंपनी को ऐसा नुकसान किया जाए कि वह घुटने टेक दे और फिर मदद के लिए मालिक उसके पास आए. इसी मकसद से उसने 4 साइबर हमले कर 18000 मरीजों का डेटा डिलीट कर दिया. 3 लाख मरीजों की बिलिंग से जुड़ी जानकारी हासिल की और 22000 मरीजों की फर्जी एंट्री कर दी, जिसके कंपनी को काफी ज्यादा नुकसान हुआ.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading