Ghaziabad News- पानी के लिए करनी पड़ी मुख्‍यमंत्री से शिकायत, तब मिला पानी

अधिकारी लोगों की बात सीधे नहीं सुन रहे हैं

अधिकारी लोगों की बात सीधे नहीं सुन रहे हैं

गाजियाबाद में अधिकारी लोगों की बात सीधे नहीं सुन रहे हैं, थकहार कर लोगों को शिकायत मुख्‍यमंत्री से करनी पड़ रही है, उसके बाद कार्रवाई हो रही है.

  • Share this:

गाजियाबाद. लोगों के घरों में पानी की सप्‍लाई नहीं हो रही थी. परेशान लोग नगर निगम से शिकायत करते रहे, लेकिन उनकी सुनवाई नहीं हुई. थकहार कर लोगों को मुख्‍यमंत्री से शिकायत करनी पड़ रही है, इसके बाद तत्‍काल कार्रवाई के निर्देश दिए गए और लोगों के घरों में पानी पहुंचा. शहर के कई इलाकों में इस तरह के मामले आ चुके हैं.

गाजियाबाद के प्रताप विहार का है. यहां के सेक्टर 12 में पीने के पानी की सप्लाई के लिए वैसे तो कई ट्यूबवेल लगे हैं, लेकिन कॉलोनी के एच ब्लॉक के लिए एक ही ट्यूबवेल तीस एचपी लगा है. इसी ट्यूबवेल से पानी की सप्लाई होती है. 500 से अधिक घरों को पानी मिलता था. ट्यूबवेल को नगर निगम ने किसी भी ओवर हैड टैंक से नहीं जोड़ा है. नगर निगम इस ट्यूबवेल से डायरेक्ट पानी की सप्लाई करता है. कई दिन पहले इस ट्यूबवेल की मोटर खराब हो गई थी. नगर निगम के जलकल विभाग को इसकी सूचना दी गई. इसके बाद भी मोटर को निकालने में ही दो दिनों का वक्त लग गया. इस एरिया में रहने वाले लोगों ने बताया कि नगर निगम से पानी नहीं आने की शिकायत की गई तो टैंकरों से पानी की सप्लाई शुरू कर दी. लेकिन जो लोग अपार्टमेंट में रहते हैं, उनके लिए सबसे अधिक परेशानी थी. ऊपर की मंजिल पर पानी कैसे लेकर जाएं. इसी को लेकर कई दिनों तक परेशानी बनी रही.

ट्यूबवेल को ठीक कराने के लिए लोगों ने नगर निगम के जलकल विभाग को कई बार शिकायत की, लेकिन उन्होंने कोई सुनवाई नहीं की. बाद में लोगों ने इस प्रकरण की शिकायत मुख्यमंत्री पोर्टल पर की, शिकायत होने के बाद तत्‍काल कार्रवाई की गई और समस्या समाधान हुआ. ऐसा ही हाल नेहरू नगर थर्ड में भी हुआ था. कई दिनों तक यहां कई मकानों में गंदे पानी की सप्लाई होती रही. मुख्यमंत्री पोर्टल पर शिकायत करने के बाद समस्या का समाधान हुआ.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज