Lockdown के बाद बच्चों के लिए दुनियाभर के नोबेल विजेताओं ने जताई यह आशंका

kailash satyarthi

बच्चों को लेकर लॉकडाउन (Lockdown) के बाद हालात खराब होंगे. चाइल्ड ट्रैफिकिंग (Child trafficking) और बच्चों से जुड़े क्राइम में इज़ाफा हो सकता है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. 20 देशों के वित्त मंत्री (Finance minister) और सेंट्रल बैंक के गवर्नर्स के समूह जी-20 से बच्चों के लिए एक ट्रिलियन फंड की गुहार लगाई गई है. यह गुहार दुनियाभर के 85 नोबेल प्राइज (Nobel prize) विजेता, पूर्व राष्ट्रपति-प्रधानमंत्री और इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन (ILO) के दो पूर्व अध्यक्षों ने लगाई है. इसमे भारत की ओर से कैलाश सत्यार्थी और दलाई लामा (Dalai Lama) भी शामिल हैं.

    लॉरियेट्स एंड लीडर्स फॉर चिल्‍ड्रेन्‍स संस्‍था के बैनर तले यह अपील की जा रही है. इनका कहना है कि खासतौर से बच्चों को लेकर लॉकडाउन (Lockdown) के बाद हालात खराब होंगे. चाइल्ड ट्रैफिकिंग (Child trafficking) और बच्चों से जुड़े क्राइम में इज़ाफा हो सकता है. घरों में काम करने वाले बच्चों के साथ होने वाले यौन अत्याचार भी बढ़ सकते हैं.

    नोबेल विजेता कैलाश सत्यार्थी ने जताई यह आशंका

    न्यूज18 हिंदी से बात करते हुए नोबेल विजेता कैलाश सत्यार्थी ने बताया कि यह बजट दुनिया के उन वंचित वर्ग की 20 प्रतिशत आबादी के बच्चों पर खर्च होगा. इस बजट को शिक्षा, पानी, सैनिटेशन और हैल्थ जैसी सुविधाओं पर खर्च किया जाएगा. इसके अलावा लॉकडाउन खुलते ही जो परेशानियां सामने आएंगी उसमे प्रमुख है चाइल्ड ट्रैफिकिंग. घरों, होटल और ढाबों पर फिर से बढ़ सकती है बच्चों की संख्या.

    घरों में फंसे बच्चों को यौन शोषण और घरेलू हिंसा का सामना करना पड़ सकता है. बच्चों को अपनी पढ़ाई बीच में छोड़नी पड़ सकती है. मौके का फायदा उठाकर छोटे कारखानों में चाइल्ड लेबर बढ़ा दी जाएगी. रेड लाइट पर बच्चों को भीख मांगने के लिए लगा दिया जाएगा. आपराधिक गिरोह ऐसे बच्चों का इस्तेमाल खड़ी हुई कारों में से मोबाइल, लैपटॉप और पर्स चुराने में करेंगे. इस तरह के मामलों में अभी यह संख्या कम है, लेकिन लॉकडाउन के दौरान बढ़ सकती है.

    ये भी पढ़ें:-

    Lockdown: दिल्ली में यहां से नहीं जाएगी कोई भी बस और ट्रेन, मजदूरों को दी न आने की सलाह



    Lockdown: बसें सड़क पर हैं नहीं, ऑटो वाले एक सवारी से मांग रहे 5 का पैसा

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.