Assembly Banner 2021

उत्तराखंड को एक और नई ट्रेन की सौगात, पूर्णागिरि के बाद अब सिद्धबली जाने वाले श्रद्धालुओं को मिली नई ट्रेन, आना जाना होगा आसान

रेलवे की ओर से कोटद्वार स्थित श्री सिद्धबली मंदिर जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए नई ट्रेन की शुरुआत की है.

रेलवे की ओर से कोटद्वार स्थित श्री सिद्धबली मंदिर जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए नई ट्रेन की शुरुआत की है.

Indian Railways News:उत्तराखंड के प्रसिद्ध मंदिर मां पूर्णागिरि के दर्शनों के लिए रेल मार्ग को सुगम बनाने के लिए गत सप्ताह पूर्णागिरि जनशताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन का संचालन किया गया था. आज रेलवे की ओर से पौड़ी गढ़वाल जिले के कोटद्वार स्थित श्री सिद्धबली मंदिर जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए नई ट्रेन की शुरुआत की है. अब दिल्ली-कोटद्वार के बीच आने जाने वाले श्रद्धालुओं को इस नई ट्रेन का बड़ा लाभ मिल सकेगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. रेल मंत्रालय ने अब उत्तराखंड (Uttarakhand) को कोटद्वार-दिल्ली-कोटद्वार (Kotdwar-Delhi-kotdwar) के बीच नई ट्रेन की सौगात दी है. उत्तराखंड के प्रसिद्ध मंदिर मां पूर्णागिरि (Purnagiri) के दर्शनों के लिए रेल मार्ग को सुगम बनाने के लिए गत सप्ताह पूर्णागिरि जनशताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन का संचालन किया गया था.


आज रेलवे की ओर से पौड़ी गढ़वाल जिले के कोटद्वार स्थित श्री सिद्धबली मंदिर जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए नई ट्रेन की शुरुआत की है. अब दिल्ली-कोटद्वार के बीच आने जाने वाले श्रद्धालुओं को इस नई ट्रेन का बड़ा लाभ मिल सकेगा.


केंद्रीय रेल, वाणिज्‍य एवं उद्योग तथा खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने आज वीडियो क्राफेंसिंग के माध्‍यम से कोटद्वार तथा दिल्ली जं. के बीच सिद्धबली दैनिक जनशताब्दी रेलगाड़ी का शुभारंभ किया. इस अवसर पर शिक्षा मंत्री, भारत सरकार डा. रमेश पोखरियाल निशंक (Dr. Ramesh Pokhriyal Nishank) तथा अन्‍य गणमान्‍य अतिथि भी उपस्थित थे.


इस अवसर पर पीयूष गोयल ने रेल कर्मचारियों का आभार व्‍यक्‍त किया जिन्‍होंने महामारी के समय के दौरान देश में दवाईयों, कोयला और अन्‍य आवश्‍यक वस्‍तुओं की आपूर्ति बनाए रखी. उन्‍होंने बताया कि  कोटद्वार-दिल्ली रेल मार्ग लगभग विद्युतीकृत हो चुका है. केवल 15 किलोमीटर रेल मार्ग ही शेष है जिसके इसी महीने के अंत तक पूरा हो जाने की संभावना है.  इसके बाद कोटद्वार से दिल्ली के बीच बिजली के इंजनों से गाड़ी चलाना संभव होगा.




उन्‍होंने यह भी बताया कि उत्‍तराखंड में रेल परियोजनाएं बेहतर तरीके से चल रही हैं. वर्ष 2021-22 के बजट में रेल परियोजनाओं को 4432 करोड़ रूपये आबंटित किए गए हैं जोकि वर्ष 2009 से 2014 के बीच राज्‍य को दिए गए औसत बजट से लगभग 23 गुणा अधिक है. उत्‍तराखंड में तीन नई रेल लाइन परियोजनाएं चल रही हैं.


ऋषिकेश और कर्णप्रयाग के बीच रेलवे लाइन का कार्य चल रहा है. 212 करोड़ रूपये की लागत से देहरादून स्‍टेशन के विकास की योजना बनाई गई है.  प्रधानमंत्री द्वारा उत्‍तराखंड पर विशेष ध्‍यान देने से यहां विकास की नई लहर चल रही है. यह रेलगाड़ी कोटद्वार को राष्‍ट्रीय राजधानी से जोड़ेगी और उत्‍तराखंड में सामाजिक और आर्थिक विकास लाएगी.


कोटद्वार-दिल्ली जंक्शन के बीच चलने वाली ट्रेन का जाने से शेड्यूल


रेलगाड़ी संख्या 04047 कोटद्वार-दिल्ली जं. सिद्धबली दैनिक जनशताब्दी एक्सप्रेस की नियमित सेवा 04 मार्च से कोटद्वार से दोपहर 03.50 बजे प्रस्थान कर उसी दिन रात्रि 10.20 बजे दिल्ली जं. पहुंचेगी. वापसी दिशा में रेलगाड़ी संख्या 04048 दिल्ली जं.-कोटद्वार सिद्धबली दैनिक जनशताब्दी एक्सप्रेस की नियमित सेवा 04 मार्च से दिल्ली जं. से सुबह 07.00 बजे प्रस्थान कर उसी दिन दोपहर 01.40 बजे कोटद्वार पहुंचेगी.


एलएचबी कोचों (LHB Coaches) से चलने वाली इस रेलगाड़ी में वातानुकूलित कुर्सीयान, कुर्सीयान और दो जनरेटर कार होंगे. सिद्धबली दैनिक जनशताब्दी एक्सप्रेस रेलगाड़ी मार्ग में नज़ीबाबाद, मौअज्जमपुर नारायण, बिजनौर, हलदौर, चांद सियाऊ, मंडी धानौरा, गजरौला, हापुड और ग़ाज़ियाबाद स्टेशनों पर दोनों दिशाओं में ठहरेगी. आज यह रेलगाड़ी “उदघाटन विशेष रेलगाड़ी” के रूप में चलाई जा रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज