Home /News /delhi-ncr /

लालू यादव को परोल पर रिहा करने की मांग हुई तेज, RJD के बाद कांग्रेस-RLSP ने भी उठाई आवाज

लालू यादव को परोल पर रिहा करने की मांग हुई तेज, RJD के बाद कांग्रेस-RLSP ने भी उठाई आवाज

लालू प्रसाद यादव रिम्स के निजी वार्ड में भर्ती हैं.

लालू प्रसाद यादव रिम्स के निजी वार्ड में भर्ती हैं.

रांची के रिम्स को ‘कोरोना वायरस अस्पताल’ बनाया गया है, जिसके निजी वार्ड में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) भर्ती हैं.

नई दिल्ली. चारा घोटाले में जेल में बंद आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) का इलाज रांची स्थित राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (RIMS) में चल रहा है. लालू यादव डायबिटीज समेत कई बीमारियों से जूझ रहे हैं, लिहाजा उन्हें ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है. लेकिन, रांची के रिम्स को ‘कोरोना वायरस अस्पताल’ बनाया गया है, जिसके निजी वार्ड में लालू यादव भर्ती हैं.

संक्रमण के खतरे को देखते हुए परोल पर रिहाई की मांग
इसी बात को लेकर लालू यादव के परिवार समेत पार्टी के लोग चिंतित हैं. संक्रमण के खतरे को देखते हुए लालू यादव की परोल पर रिहाई की मांग कर रहे हैं. दरअसल, लालू यादव का इलाज करने वाले डॉक्टरों को कोरोना वायरस के एक मरीज के संपर्क में आने के बाद क्‍वारंटाइन में भेजा गया है. इसी के चलते अब लालू यादव पर संक्रमण के खतरे की आशंका जताते हुए आरजेडी ने उन्हें परोल पर रिहा करने की मांग की है.

मानवीय दृष्टिकोण से सभी चीजों के हकदार
बिहार विधानसभा में नेताप्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने पहले चिंता जताई और अब पार्टी की तरफ से राज्यसभा सांसद और मुख्य प्रवक्ता मनोज झा ने भी आवाज उठाई है. न्यूज18 से बात करते हुए मनोज झा ने कहा, ‘जब एक बार पता चल चुका है कि लालू जी के वार्ड के डाक्टर क्‍वारंटाइन में हैं, तो वे भी मानवीय दृष्टिकोण से उन सभी चीजों के हकदार हैं जो दूसरा कोई व्यक्ति होता.’ मनोज झा कहते हैं, ‘लालू जी कभी कानून से नहीं भागे, उन्होंने हमेशा कहा कि कानून का सम्मान करेंगे. इतिहास इस बात को दर्ज करेगा कि जब सब लोगों को कहा जा रहा था कि सब सुरक्षित रहें, उस वक्त लालू जी के बारे में चुप्पी शोर मचा रही है.’

आरजेडी की सहयोगी आरएलएसपी ने भी लालू यादव के स्वास्थ्य को लेकर चिंता जताई है. पार्टी के प्रधान महासचिव माधव आनंद ने न्यूज18 से बात करते हुए कहा, ‘सबको पता है कि 60 साल के ऊपर के व्यक्ति को कोरोना से खतरा सबसे ज्यादा है. लालू यादव कई रोगों से भी पीड़ित हैं. इसके बावजूद उन्हें परोल नहीं मिल रहा है. यह अपने-आप में आश्चर्य की बात है.’ माधव आनंद ने भारत सरकार और झारखंड सरकार से अपील करते हुए कहा, ‘जिस अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है, उसके कर्मचारी भी कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं. ऐसे में लालू यादव की जान को खतरा है. इसलिए मानवीय आधार पर सरकार उन्हें रिहा करें. इस मामले में राजनीति नहीं होनी चाहिए.’

कांग्रेस ने भी मानवीय आधार पर लालू यादव की रिहाई की मांग की है. न्यूज18 से बात करते हुए कांग्रेस के राज्यसभा सांसद अखिलेश प्रसाद सिंह ने कहा, ‘लालू यादव जिस अस्पताल में हैं वहां कोरोना संक्रमित मरीज हैं और वहां इस वायरस का खतरा बना हुआ है. इसके अलावा उनकी उम्र भी काफी ज्यादा है. लिहाजा, उन्हें मानवीय आधार पर परोल पर रिहा करना चाहिए.’

जेडीयू बोली- परोल पर फैसला झारखंड की सरकार को करना चाहिए
आरजेडी की सहयोगी आरएलएसपी और कांग्रेस की तरफ से लालू यादव की रिहाई की मांग का समर्थन किया जा रहा है. उधर, जेडीयू की तरफ से कहा गया है कि तेजस्वी यादव इस सवाल पर अपनी समर्थक सरकार के मुखिया से बात कह सकते हैं. जेडीयू प्रवक्ता राजीव रंजन ने न्यूज 18 से बात करते हुए कहा, ‘लालू यादव के परोल पर फैसला झारखंड की सरकार को करना चाहिए. इसके लिए तेजस्वी यादव को वहां की सरकार से बात करनी चाहिए.’

इसके पहले झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने 13 अप्रैल को कहा था कि रिम्स के पृथक-वास इकाई में संक्रमण के मामले बढ़ने के कारण लालू यादव को रिहा करने के लिए राज्य सरकार ने कानूनी राय मांगी है. अब देखना है लालू यादव की परोल पर रिहाई को लेकर क्या फैसला होता है.

ये भी पढ़ें-

2019 में AES ने थी 144 से अधिक बच्चों की जान, अब बचाव के लिए सरकार कितनी तैयार

मोतिहारी में पुलिस टीम पर हमला, महिला कांस्टेबल सहित सात सिपाही जख्मी

Tags: Congress, Jdu, Lalu Prasad Yadav, RJD

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर