Home /News /delhi-ncr /

agricultural land became expensive in noida after 6 years development authority increased prices know new rates nodssp

नोएडा में कृषि भूमि हुई महंगी, 6 साल बाद विकास प्राधिकरण ने बढ़ाए दाम, जानें नए रेट

Greater Noida Authority: जीएनआईडीए की ग्रेटर नोएडा में हुई 126वीं बोर्ड की बैठक में खेती की जमीन के मूल्य बढ़ाने काफैसला किया.

Greater Noida Authority: जीएनआईडीए की ग्रेटर नोएडा में हुई 126वीं बोर्ड की बैठक में खेती की जमीन के मूल्य बढ़ाने काफैसला किया.

Greater Noida Authority: जीएनआईडीए की ग्रेटर नोएडा में हुई 126वीं बोर्ड की बैठक में यह फैसला किया गया. इस फैसले से अधिसूचित क्षेत्र के तहत आने वाले गांवों के हजारों भू-स्वामियों को लाभ मिलेगा. ग्रेटर नोएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण के अधिसूचित क्षेत्र में करीब 300 गांव आते हैं.

अधिक पढ़ें ...

नोएडा. ग्रेटर नोएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण (GNIDA) ने कृषि जमीन खरीदने की न्यूनतम दर को 3,500 रुपये वर्ग मीटर से बढ़ाकर 3,750 रुपये प्रति वर्ग मीटर कर दिया है. यह वृद्धि एक अप्रैल से लागू मानी जाएगी. छह साल बाद इन दरों में वृद्धि की गई है.

जीएनआईडीए की ग्रेटर नोएडा में हुई 126वीं बोर्ड की बैठक में यह फैसला किया गया. इस फैसले से अधिसूचित क्षेत्र के तहत आने वाले गांवों के हजारों भू-स्वामियों को लाभ मिलेगा.  ग्रेटर नोएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण के अधिसूचित क्षेत्र में करीब 300 गांव आते हैं.

एक आधिकरिक बयान में कहा गया है कि जीएनआईडीए के चेयरमैन और उत्तर प्रदेश के औद्योगिक विकास आयुक्त संजीव मित्तल की अध्यक्षता में हुई बोर्ड की बैठक में जीएनआईडीए के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) नरेंद्र भूषण ने किसानों से सीधे खरीदी जाने वाली जमीन के लिए खरीद मूल्य बढ़ाने का प्रस्ताव किया. इस प्रस्ताव को बोर्ड ने मंजूरी दे दी. जीएनआईडीए ने अपने तहत आने वाले गांवों के लिए किसानों से सीधी खरीदी जाने वाली जमीन के लिए 3,500 रुपये प्रति वर्ग मीटर की दर 2016 में तय की थी.

बोर्ड ने आज ही दी 5104 करोड़ रुपये के बजट को मंजूरी 

ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी बोर्ड ने वित्तीय वर्ष 2022-23 के लिए 5104 करोड़ रुपये बजट को मंजूरी दे दी है. औद्योगिक विकास आयुक्त व नोएडा- ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के चेयरमैन संजीव मित्तल (Sanjeev Mittal) की अध्यक्षता में मंगलवार को आयोजित बोर्ड बैठक में इस पर मुहर लग गई है.

यह वित्तीय वर्ष 2017-18 के बाद सबसे बड़ा बजट है. इस बार के बजट में सर्वाधिक जोर जमीन अधिग्रहण, इंफ्रास्ट्रक्चर को विकसित करने और गांवों व सेक्टरों के विकास कार्यों पर दिया गया है. खासकर लैंड बैंक बढ़ाने पर खासा जोर दिया जा रहा है.

जमीन के अधिग्रहण रहेगा जोर, दो हजार करोड़ खर्च होंगे

बैठक के बाद ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ नरेंद्र भूषण ने बताया कि बीते कुछ वर्षों में ग्रेटर नोएडा के प्रति औद्योगिक निवेशकों का रुझान तेजी से बढ़ा है. तमाम निवेशक उद्योग लगाने के लिए जमीन मांग रहे हैं. उनको जमीन उपलब्ध कराने के लिए प्राधिकरण लगातार प्रयासरत है. इस वजह 2022-23 के बजट में जमीन अधिग्रहण पर अधिक जोर दिया जा रहा है. इसके लिए करीब 2 हज़र करोड़ रुपये खर्च करने की योजना है.

Tags: Greater Noida Development Authority, Greater noida news, Noida Authority

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर