AIIMS के बैंक खातों से ऐसे गायब हो गए करोड़ों रुपये
Delhi-Ncr News in Hindi

AIIMS के बैंक खातों से ऐसे गायब हो गए करोड़ों रुपये
एम्स के दो अलग-अलग बैंक खातों से 12 करोड़ 44 लाख रुपये गैरकानूनी तरीके से निकाल लिए गए हैं

एम्स (AIIMS) की पीआरओ डॉ आरती विज के मुताबिक, 'एम्स ने धोखाधड़ी को लेकर दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की आर्थिक अपराध शाखा को सूचित कर दिया है. एम्स ने इस घटना के बाद एसबीआई को सख्त हिदायत दी है.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 30, 2019, 4:33 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश का सबसे बड़ा अस्पताल अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) धोखाधड़ी का शिकार हो गया है. साइबर अपराधियों (Cyber Crime) ने एम्स के दो अलग-अलग बैंक खातों से 12 करोड़ 44 लाख रुपये उड़ा लिए. साइबर अपराधियों ने चेक क्लोनिंग (Cheque Cloning) के जरिए अस्पताल के इन बैंक खातों से पैसे निकाले. साइबर अपराधियों ने ये पैसे एसबीआई (SBI) के बैंक खातों से निकाले हैं. एम्स प्रशासन ने इस घटना की जानकारी दिल्ली पुलिस (Delhi Police) को दे दी है. साइबर अपराधियों ने बीते एक महीने में एम्स के दो अलग-अलग खातों से इतनी बड़ी रकम की निकासी की है.

पैसे निकासी में जाली चेक का इस्तेमाल किया गया
एम्स का कहना है कि इन पैसों की निकासी देश के दूसरे शहरों में एसबीआई की बैंक शाखाओं से की गई है. एम्स के साथ धोखाधड़ी सामने आने के बाद अपराधियों की पहचान की जा रही है. अस्पताल प्रशासन ने दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा से जांच करने की मांग की है. एम्स (AIIMS) की पीआरओ डॉ आरती विज के मुताबिक, 'एम्स ने धोखाधड़ी को लेकर दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा को सूचित कर दिया है. एसबीआई ने कुछ घटनाओं को तो रोक दिया है, लेकिन इसके बावजूद 12 करोड़ 44 लाख रुपये एम्स के खातों से निकाले गए हैं. एसबीआई अधिकारियों को जब इस बात की जानकारी हुई तो एम्स से उन्होंने संपर्क किया. कुछ और चेक पर किए गए साइन को मिलान करने के बाद बैंक ने और निकासी नहीं होने दी.'



बता दें, साइबर अपराधियों ने देहरादून और मुंबई स्थित एसबीआई के अन्य शाखाओं से 29 करोड़ रुपये से अधिक राशि उड़ाने की कोशिश की. पैसे निकालने के लिए अपराधियों ने क्लोन किए हुए चेक का इस्तेमाल किया. एम्स के मुताबिक, देहरादून में एसबीआई की एक शाखा से 20 करोड़ रुपये और मुंबई स्थित बैंक की शाखा से 9 करोड़ रुपये उड़ाने की कोशिश की. हालांकि, ये कोशिशें नाकाम कर दी गईं.

एम्स के जिन दो खातों से पैसे निकाले गए हैं, उनमें से एक खाता एम्स के निदेशक के नाम तो दूसरा खाता एम्स के डीन के नाम का बताया जा रहा है. एम्स सूत्रों का कहना है कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को भेजी रिपोर्ट में एम्स प्रशासन ने इस घटना के लिए बैंक को जिम्मेदार ठहराया है. दूसरी तरफ दिल्ली पुलिस का कहना है कि क्योंकि मामला 3 करोड़ से ज्यादा का है इसलिए भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गाइड-लाइंस के मुताबिक यह केस केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के हवाले होना चाहिए.

ये भी पढ़ें: 

महाराष्ट्र: उद्धव ठाकरे मंत्रिमंडल में राहुल गांधी की पसंद के इस नेता को मिली अहमियत
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading