Home /News /delhi-ncr /

पराली के धुएं ने Delhi-NCR की हवा में घोला 'जहर', गाजियाबाद के लोनी में AQI 300 पार, जानें अन्‍य इलाकों का हाल

पराली के धुएं ने Delhi-NCR की हवा में घोला 'जहर', गाजियाबाद के लोनी में AQI 300 पार, जानें अन्‍य इलाकों का हाल

दिल्‍ली में लगातार हवा खराब होती जा रही है.

दिल्‍ली में लगातार हवा खराब होती जा रही है.

Delhi-NCR Air Pollution: पंजाब, हरियाणा, उत्‍तर प्रदेश और मध्‍य प्रदेश में पराली जलाने (Stubble Burning) की घटनाएं बढ़ने के कारण दिल्‍ली-एनसीआर की हवा लगातार 'खराब' हो रही है. गुरुवार को दिल्‍ली में अधिकतर इलाकों में वायु गुणवत्ता (Air Quality) 'खराब' श्रेणी में दर्ज की गई, तो गाजियाबाद के लोनी में सबसे बुरे हालात हैं. वहीं, नोएडा और ग्रेटर नोएडा में हालात खराब हैं. जबकि आने वाले दिनों में पराली के साथ पटाखे और बढ़ती ठंड से दिल्‍ली और आसपास के इलाकों की हवा में और जहर घुलने की संभावना है. बता दें कि पिछले साल दिवाली (Diwali) पर एक्‍यूआई 441 दर्ज किया गया था.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्‍ली. दिल्‍ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण (Delhi-NCR Air Pollution) लगातार बढ़ रहा है. इस बीच पंजाब, हरियाणा, उत्‍तर प्रदेश और मध्‍य प्रदेश में पराली जलाने (Stubble Burning) की घटनाएं बढ़ने के कारण दिल्‍ली और आसपास के इलाकों में वायु गुणवत्ता (Air Quality) ‘खराब’ श्रेणी में पहुंच गई है. यही नहीं, इस दौरान दिल्‍ली के कुछ इलाकों में वायु गुणवत्ता सूचकांक बेहद खराब श्रेणी में पहुंच गया है, तो 27 निगरानी केंद्रों पर वायु गुणवत्ता खराब श्रेणी में दर्ज की गई. जबकि गाजियाबाद के लोनी में इस समय सबसे खराब स्थिति और यहां एक्‍यूआई 330 है. वहीं, नोएडा और ग्रेटर नोएडा में हालात खराब हैं.

    बता दें कि हवा की दिशा में बदलाव होने के साथ ही राजधानी की वायु गुणवत्ता तेजी से खराब हो रही है. दिल्‍ली में बुधवार को ज्यादातर इलाके ऐसे रहे, जहां का वायु गुणवत्ता सूचकांक 200 अंक के ऊपर यानी खराब श्रेणी में रहा. जबकि इस दौरान शादीपुर और आनंद विहार में सूचकांक 300 अंक के पार यानी बेहद खराब श्रेणी में रिकॉर्ड किया गया था. यही नहीं, आज यानी गुरुवार को भी दिल्‍ली के अधिकांश इलाकों में एक्‍यूआई 200 के पार है, जिनमें मुंडका, बवाना, आनंद विहार, शादीपुर, रोहिणी, नरेला आदि शामिल हैं.

    गाजियाबाद और नोएडा की भी हालत खराब
    गुरुवार को सुबह दिल्‍ली-एनसीआर में सबसे ज्‍यादा हालात गाजियाबाद के लोनी के खराब रहे और यहां एक्‍यूआई 330 दर्ज किया गया. इसके अलावा नोएडा सेक्‍टर 1 में एक्‍यूआई 220 से ऊपर बना हुआ है. वहीं, ग्रेटर नोएडा के नॉलेज पार्क में एक्‍यूआई 255 दर्ज किया गया है.

    दिल्‍ली में लगातार बढ़ेगा प्रदूषण
    बता दें कि आईआईटीएम के नए सिस्टम की मदद से एजेंसियों को प्रदूषण के पीक और प्रदूषण के कारणों का पहले ही पता चल रहा है. इसके मुताबिक, नवंबर के पहले हफ्ते में पराली का प्रदूषण राजधानी में 65 प्रतिशत तक हो सकता है. जबकि बीते सालों में यह अधिकतम 40 प्रतिशत के आसपास रहता था. इसके अलावा केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक, बुधवार को शाम चार बजे दिल्ली की हवा में प्रदूषक कण पीएम 10 का स्तर 232 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर और पीएम 2.5 का स्तर 102 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर पर रहा. मानकों के मुताबिक, हवा में पीएम 10 का स्तर 100 से नीचे और पीएम 2.5 का स्तर 60 से नीचे रहना चाहिए.

    दिल्‍ली पर सबसे ज्‍यादा घुलता है हवा में जहर
    आंकड़ों के मुताबिक, दिवाली पर दिल्‍ली की हवा में सबसे ज्‍यादा जहर घुलता है. 10 अक्टूबर 2016 को एक्‍यूआई 431 रहा था. जबकि 19 अक्टूबर 2017 को यह 319 दर्ज किया गया. वहीं, 7 नवंबर 2018 को यह 281 रहा था. इसके अलावा 27 अक्टूबर 2019 में 337 और पिछले साल 14 नवंबर 2020 को एक्‍यूआई 414 रहा था, जो कि सबसे जयादा था.

    काउंसिल ऑन एनर्जी, एनवायरमेंट एंड वॉटर (CEEW) की प्रोग्राम असोसिएट एल. एस. कुरिंजी के अनुसार, आने वाले दिनों में पराली का धुआं, दिवाली पर आतिशबाजी और गिरता तापमान भी हवा को काफी खराब कर सकता है. साथ की बताया कि 1 सितंबर से 25 अक्‍टूबर के बीच पंजाब में पराली जलाने के 6463 और हरियाणा में 2820 मामले सामने आए हैं. पिछले साल की तुलना में पराली के मामले काफी कम हैं. जबकि पिछले कुछ सालों में अक्टूबर के अंतिम हफ्ते और नवंबर के पहले हफ्ते में पराली जलने के करीब 3000 से 4000 मामले रोज सामने आते हैं. अगर ऐसा जारी रहा तो एक्‍यूआई बहुत खराब श्रेणी में पहुंच जाएगा.

    Tags: Air pollution, Air pollution delhi, Air pollution in Delhi, Air quality index, Air Quality Index AQI, Delhi air pollution, Delhi-NCR Pollution, Diwali 2021

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर