अपना शहर चुनें

States

Delhi Pollution Updates: दिल्‍ली में सांस लेना हुआ मुश्किल, जानें क्‍या है नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद का हाल


दिल्‍ली में AQI 418, तो गाजियाबाद में 458 और नोएडा में 437 रहा है.
दिल्‍ली में AQI 418, तो गाजियाबाद में 458 और नोएडा में 437 रहा है.

Air Pollution: दिल्‍ली (Delhi) समेत नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद (Ghaziabad) और फरीदाबाद में वायु प्रदूषण कहर बरपा रहा है. जबकि वायु गुणवत्ता सूचकांक (Air Quality Index) 'गंभीर' श्रेणी में पहुंच गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 22, 2020, 10:17 PM IST
  • Share this:
नोएडा/नई दिल्‍ली. राष्ट्रीय राजधानी दिल्‍ली (Delhi) समेत नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद (Ghaziabad) और फरीदाबाद में मंगलवार को औसत वायु गुणवत्ता ‘गंभीर’ श्रेणी में पहुंच गयी. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के वायु गुणवत्ता सूचकांक (Air Quality Index) के अनुसार दिल्ली के आसपास के पांच शहरों में प्रदूषकों-पीएम 2.5 और पीएम 10 की उपस्थिति अधिक रही. यही नहीं, हवा की धीमी रफ्तार और कम तापमान के कारण प्रदूषकों के इकट्ठा होने की वजह से दिल्ली में मंगलवार को वायु गुणवत्ता 'गंभीर' श्रेणी में पहुंच गई. दिल्‍ली एनसीआर के अधिकतर इलाके रेड जोन में पहुंच गए हैं.

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा कि बुधवार को भी वायु गुणवत्ता के “गंभीर” श्रेणी में ही रहने की आशंका है. उन्होंने कहा कि 26 दिसंबर तक इसमें ज्यादा सुधार होने का पूर्वानुमान नहीं है.

दिल्‍ली में 24 घंटे का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 418 रहा जो गंभीर श्रेणी में आता है. इससे पहले सोमवार को यह 332, रविवार को 321 और शनिवार को 290 था.




नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद का रहा ऐसा हाल
सीपीसीबी के प्रदूषण सूचकांक ऐप ‘समीर’ के अनुसार मंगलवार को अपराह्न चार बजे तक पिछले 24 घंटे का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) गाजियाबाद में 458, नोएडा में 437, ग्रेटर नोएडा में 450, फरीदाबाद में 407 और गुड़गांव में 377 दर्ज किया गया. सीपीसीबी का कहना है कि वायु गुणवत्ता के बहुत खराब श्रेणी में लंबे समय तक रहने से सांस संबंधी परेशानियां हो सकती हैं. जबकि इसकी गंभीर श्रेणी तो स्वस्थ व्यक्ति पर भी असर डालती है. जबकि सोमवार को गाजियाबाद में वायु गुणवत्ता सूचकांक 391, नोएडा में 363, ग्रेटर नोएडा में 366, फरीदाबाद में 289 और गुड़गांव में 271 दर्ज किया गया था. वहीं रविवार को यह गाजयिाबाद और ग्रेटर नोएडा में 346, नोएडा में 333, फरीदाबाद में 294 और गुड़गांव में 262 रहा था. नोएडा, फरीदाबाद, गाजियाबाद में चार-चार मापक केंद्र हैं. जबकि गुड़गांव में तीन और ग्रेटर नोएडा में दो केंद्र है.

ये है वायु गुणवत्ता सूचकांक का पैमाना
उल्लेखनीय है कि शून्य से 50 के बीच वायु गुणवत्ता सूचकांक को ‘अच्छा’, 51 से 100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101 से 200 के बीच ‘मध्यम’, 201 से 300 के बीच ‘खराब’, 301 से 400 के बीच ‘बेहद खराब’ और 401 से 500 के बीच ‘गंभीर’ श्रेणी में माना जाता है. जबकि मौसम विभाग ने वायु गुणवत्ता में गिरावट के लिये हवा की धीमी गति, कम तापमान और पश्चिमी विक्षोभ के कारण ज्यादा आर्द्रता को जिम्मेदार बताया है. वहीं दिल्‍ली में मंगलवार को न्यूनतम तापमान 5.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया और हवा की अधिकतम गति आठ किलोमीटर प्रतिघंटा रही.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज