Delhi Air Pollution: अवैध ईंट भट्टों से जहरीली हुई हवा, NGT ने UP को निगरानी रखने का दिया निर्देश

एनजीटी ने उत्तर प्रदेश के अधिकारियों को अहम निर्देश दिए हैं. (File)
एनजीटी ने उत्तर प्रदेश के अधिकारियों को अहम निर्देश दिए हैं. (File)

दिल्ली-एनसीआर की एयर क्वालिटी को बेहतर करने के लिए नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (National Green Tribunal) ने उत्तर प्रदेश के अधिकारियों को अवैध ढंग से संचालित हो रहे ईंट भट्टों पर निगरानी रखने का निर्देश दिया है. 

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 17, 2020, 6:00 PM IST
  • Share this:
दिल्ली. नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने उत्तर प्रदेश के अधिकारियों को दिल्ली-एनसीआर की वायु गुणवत्ता की सुरक्षा के लिए बागपत जिले में अवैध रूप से संचालित हो रहे ईंट भट्टों पर कड़ी निगरानी रखने का निर्देश दिया है. यूपी के बागपत (Baghpat) की हवा पूरे देश की सबसे प्रदूषित वायु में से एक है. आपको बता दें सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड के आंकड़ों के मुताबिक बागपत जिला की वायु गुणवत्ता बहुत खराब रिकॉर्ड की गई है. मुजफ्फरनगर भिवानी के साथ-साथ ग्रेटर नोएडा के बाद यह सबसे अधिक प्रदूषित शहरों में से पांचवें स्थान पर है.

मामले की सुनवाई कर रही एनजीटी के चेयर पर्सन आदर्श कुमार गोयल ने बागपत में ईट भट्टे के अवैध संचालन के खिलाफ कार्रवाई के लिए सुनने के बाद यह आदेश पारित किया जिसमें करीब 600 ईट भट्टे अवैध रूप से चल रहे हैं.

कड़ी निगरानी के निर्देश



आपको बता दें कि न्यायिक सदस्य एसपी बांगड़ी और विशेषज्ञ सदस्य नागिन नंदा की बेंच ने कहा कि उत्तर प्रदेश में संबंधित प्राधिकरण ईट भट्टों के अवैध संचालन के खिलाफ कड़ी निगरानी रख सकते हैं, ताकि एनसीआर में वायु की गुणवत्ता की रक्षा की जा सकें. हालांकि इस मामले में एनजीटी ने मामले की अगली सुनवाई 11 जनवरी 2021 में करने के लिए कहा है.
ये भी पढ़ें: दिल्ली पर कोरोना और प्रदूषण का डबल अटैक, सर्दियों में होगी परेशानी, डॉक्टर ने दी ये सलाह

दिल्ली पर दो तरफा खतरा

कोरोना महामारी  के बीच अब दिल्ली-NCR में प्रदूषण का खतरा बढ़ता जा रहा है. जानकारों का कहना है कि पिछले चार दिनों में एयर क्वॉलिटी इंडेक्स 300 से ऊपर चला गया है, जो कि गंभीर चिंता का विषय है. ऐसे में लोगों के लिए अब दोहरी चुनौती सामने आ चुकी है. कोरोना के साथ-साथ प्रदूषण से भी खुद को बचाना होगा. जानकारों का कहना है कि कोरोना और प्रदूषण दोनों के लिए मास्क अत्यक ही जरूरी है. लोगों को अपने स्वास्थ्य को लेकर कहीं भी कोताही नहीं बरतनी चाहिए. घर से जब भी निकलें तो मास्क का प्रयोग जरूर करें. हालांकि दिल्ली-NCR में लोग इसके प्रति सजगता भी दिखा रहे हैं. मास्क दुकानदारों का कहना है कि प्रदूषण को देखते हुए कपड़े के बने मास्क के साथ-साथ N95 मास्क की मांग में 20-35 प्रतिशत का इजाफा देखा गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज