आर्टिकल 370: पाकिस्तान के फैसलों का भारत में विरोध, नेता बोले- ये हमारा आंतरिक मामला

पाकिस्तान ने भारत के साथ व्यापार स्थगित करने के साथ ही भारतीय राजदूत को पाकिस्तान छोड़ने का आदेश दिया है. साथ ही उसने भारत में मौजूद पाकिस्तानी राजदूत को वापस बुला लिया है.

पाकिस्तान ने भारत के साथ व्यापार स्थगित करने के साथ ही भारतीय राजदूत को पाकिस्तान छोड़ने का आदेश दिया है. साथ ही उसने भारत में मौजूद पाकिस्तानी राजदूत को वापस बुला लिया है.

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में आर्टिकल 370 (Article 370) की समाप्ति के लिए लोकसभा और राज्यसभा में बिल पास होने के ठीक एक दिन बाद पाकिस्तान (Pakistan) की तरफ कार्रवाई की गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 8, 2019, 11:49 AM IST
  • Share this:
जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में आर्टिकल 370 (Article 370) की समाप्ति के लिए लोकसभा और राज्यसभा में बिल पास होने के ठीक एक दिन बाद पाकिस्तान (Pakistan) की तरफ कार्रवाई की गई है. पाकिस्तान ने भारत के साथ व्यापार स्थगित करने के साथ ही भारतीय हाई कमिश्नर को पाकिस्तान छोड़ने का आदेश दिया है. साथ ही उसने भारत में मौजूद पाकिस्तानी उच्चायुक्त को वापस बुला लिया है.



पाकिस्तान द्वारा यह कदम उठाए जाने के बाद भारतीय दलों ने एक सुर में भर्त्सना की है. बीजेपी नेता राम माधव ने कहा है कि पाकिस्तान का इस मामले पर बोलने का कोई अधिकार नहीं है. भारतीय संसद जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 पर निर्णय लिया है और यह हमारा आंतरिक मामला है. इस मामले पर किसी भी दूसरे देश से कोई लेना-देना नहीं है.









कैप्टन बोले- फैसला लेना भारत का अधिकार
वहीं पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह का कहना है कि पाकिस्तान का प्रतिक्रिया अकारण है. कश्मीर का मसला भारत का आंतरिक मामला है. इस मामले में निर्णय लेना भारत के पास अधिकार है. इस्लामाबाद को इसे दोनों देशों के बीच बातचीत बंद करने का आधार नहीं बनाना चाहिए.







सलमान खुर्शीद ने कहा इससे उन्हें क्या फायदा

वरिष्ठ कांग्रेसी नेता सलमान खुर्शीद के मुताबिक आखिर उन्हें इससे क्या फायदा होगा? ये सब छोटी सोच वाले निर्णय हैं. इस निर्णय का खामियाजा उन्हें ही उठाना होगा. लेकिन अगर वो प्रतीकात्मक निर्णय लेना चाहते हैं तो लें, उनकी मर्जी.







पाकिस्तान में भारत के पूर्व हाई कमिश्नर रह चुके टीसीए राघवन ने कहा है कि पाकिस्तान के साथ कभी हमारा व्यापार बहुत बड़े स्तर पर नहीं रहा है. ये निर्णय पाकिस्तान सरकार ने सिर्फ अपने लोगों को दिखाने के लिए लिया है. वो अपने देश के लोगों को दिखाना चाहते हैं कि वो इस मुद्दे पर प्रतिक्रिया दे रहे हैं.



लगातार दिख  रही है पाक की खिसियाहट

बता दें जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35A हटाए जाने के बाद पाकिस्तान की खिसियाहट सामने आ रही है. पाकिस्तान के तमाम मंत्री भारत के इस फैसले के बाद से बौखलाए हुए हैं और लगातार विवादित बयान दे रहे हैं. इतना ही नहीं पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने भी मंगलवार को कहा था कि इस कदम के बाद से भारत में पुलवामा जैसे हमले हो सकते हैं. हालांकि भारत के इस फैसले का अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कोई विरोध नहीं हो रहा है.





ये भी पढ़ें:



Article-370: डोभाल ने सीक्रेट दौरे में की थी पुख्‍ता तैयारी



9 अगस्त को कांग्रेस की बड़ी बैठक, आर्टिकल 370 पर होगी चर्चा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज