COVID-19 हॉस्पिटल में PPE किट और मास्‍क मांगने पर 84 नर्सों को नौकरी से निकालने का आरोप
Delhi-Ncr News in Hindi

COVID-19 हॉस्पिटल में PPE किट और मास्‍क मांगने पर 84 नर्सों को नौकरी से निकालने का आरोप
हॉस्पिटल के बाहर प्रदर्शन करती एचएएचसी हॉस्पिटल की नर्स.

COVID-19 केयर सेंटर के रूप में तब्दील किए गए हकीम अब्‍दुल हमीद सेंटेनरी (HAHC) हॉस्पिटल से बर्खास्त की गईं सभी 84 नर्सों का विरोध प्रदर्शन जारी. नर्सों (nurses) का आरोप है कि उन्‍हें बिना किसी वैध कारण के नौकरी से निकाला गया.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना संक्रमित मरीजों (Corona infected patients) के इलाज में तैनात दिल्‍ली के हकीम अब्‍दुल हमीद सेंटेनरी (HAHC) हॉस्पिटल की 84 नर्स को नौकरी से बर्खास्‍त कर दिया गया है. इन नर्सों का कसूर सिर्फ इतना है कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए इन्‍होंने हॉस्पिटल प्रबंधन से पीपीई किट (PPE Kit), मास्‍क सहित अन्‍य सुरक्षा उपकरणों की मांग कर दी थी. जिसके बाद हॉस्पिटल प्रबंधन ने बिना किसी नोटिस के 84 नर्स को नौकरी से निकाल दिया. अब अपना हक वापस हासिल करने के लिए ये सभी 84 नर्स हॉस्पिटल के बाहर लगातार विरोध-प्रदर्शन कर रही हैं.

यूनाइटेड नर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष रिंस जोसफ ने कहा कि हकीम अब्दुल हमीद सेंटेनरी हॉस्पिटल में काम कर रही 84 नर्सों को बिना किसी वैध कारण के निकाल दिया गया है. ये सभी नर्स तमाम समस्‍याओं का सामना करते हुए COVID-19 वायरस की चपेट में आए मरीजों के इलाज में तैनात थीं. उन्होंने बताया कि सरकार ने एचएएचसी हॉस्पिटल को कोविड सेंटर घोषित किया था, जिसके बाद यहां पर 200 कोविड-19 बेड के साथ कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज शुरू किया था. इस हॉस्पिटल के कोरोना वार्ड में तैनात एक स्टाफ नर्स एक समय में 15-20 मरीजों की देखभाल करता है. ऐसे में हॉस्पिटल प्रशासन के इस फैसले से कोरोना महामारी के खिलाफ जारी जंग को भारी नुकसान पहुंचने वाला है.

13 से 14 घंटे की ड्यूटी को मजबूर है मेडिकल स्‍टाफ



रिंस जोसफ ने बताया कि कोरोना आईसीयू में एक मेडिकल स्‍टाफ एक समय में करीब छह मरीजों की देखभाल करता है. आरोप है कि कोरोना वार्ड और कोरोना आईसीयू में तैनात मेडिकल स्‍टाफ को हॉस्पिटल की तरफ से न ही बेहतर पीपीई किट, एन-95 मास्‍क उपलब्‍ध कराए जा रहे हैं और न ही उनका कोरोना टेस्‍ट कराया जा रहा है. अव्‍यवस्‍था का आलम यह है कि हॉस्पिटल में नर्सों के लिए पीने का पानी उपलब्ध नहीं करा रहा है. हॉस्पिटल विशेष रूप से नाइट शिफ्ट में ड्यूटी के घंटे कम नहीं कर रहा है, पीपीई किट के साथ  13- 14 घंटे की ड्यूटी करना बहुत मुश्किल है. यहां कोविड-19 वार्ड में तैनात स्टाफ नर्सों के लिए कोई स्वास्थ्य नीति भी नहीं है. आरोप यह भी है कि मेडिकल स्‍टाफ को समान कार्य समान वेतन नहीं मिल रहा है. उन्होंने स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों की समस्याओं को तुरंत निदान करने की मांग भी की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading