• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • दिल्ली में 9 साल की बच्ची से कथित रेप के मामले में एससी-एसटी आयोग ने लिया संज्ञान

दिल्ली में 9 साल की बच्ची से कथित रेप के मामले में एससी-एसटी आयोग ने लिया संज्ञान

दिल्ली में 9 साल की बच्ची के साथ हुए कथित रेप मामले में एससी-एसटी आयोग ने संज्ञान लिया है.

दिल्ली में 9 साल की बच्ची के साथ हुए कथित रेप मामले में एससी-एसटी आयोग ने संज्ञान लिया है.

Delhi Rape case: 9 साल की बच्ची से बलात्कार, हत्या और जबरन दाह संस्कार कराने के मामले में एससी-एसटी आयोग ने लिया स्वत: संज्ञान लिया है. पीड़ित परिवार से राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग मिला है. आयोग ने ट्वीटर पर हुई रिपोर्टिंग के आधार पर मामले का संज्ञान लिया है.

  • Share this:

नई दिल्ली. राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग ने दिल्ली के नांगल राया इलाके में 9 साल की एक बच्ची के साथ बलात्कार और हत्या के संबंध में ट्विटर पर रिपोर्ट की गई घटना का संज्ञान लिया है. माननीय अध्यक्ष विजय सांपला के निर्देशानुसार, माननीय उपाध्यक्ष अरुण हालदर की अध्यक्षता वाली टीम ने घटनास्थल का दौरा किया. इस दौरान आयोग की माननीय सदस्या डॉ. अंजू बाला, माननीय सदस्य सुभाष रामनाथ पारधी, निदेशक व अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद रहे.

आयोग की टीम ने बच्ची के माता-पिता से भी मुलाकात की. बच्ची के माता-पिता ने आयोग को बताया कि पूरी घटना की जानकारी दी. उन्होंने बताया कि घटना के समय मेरी बेटी श्मशान से पानी लेने गई थी, लेकिन कुछ समय बाद ही उन्हें घटना की जानकारी मिली है कि उनकी बेटी की मौत के बाद जला दिया गया है. माता-पिता ने बताया कि उनकी बच्ची के साथ बलात्कार किया गया और पुजारी ने यह झूठ बोलकर उसका जबरन अंतिम संस्कार करा दिया कि उसकी मौत बिजली का करंट लगने से हुई है. पीड़िता के अभिभावकों ने दोषियों को सजा दिलाने की मांग की. इस पर माननीय़ उपाध्यक्ष ने दोषिय़ों को सजा दिलाने का भरोसा दिलाया.

पीड़िता के अभिभावकों से मुलाकात के बाद आयोग की टीम ने एरिया डीएम, डीसीपी (दक्षिण-पश्चिम) समेत जिला प्रशासन के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों से मुलाकात की. आयोग की सिफारिश पर मामले में प्रिवेंशन ऑफ एट्रोसिटीज अधिनियम और पोस्को अधिनियम लागू किया गया था. एरिया डीएम को एससी/एसटी पीओए नियम 2016 (संशोधित) के प्रावधानों के अनुसार मुआवजा जारी करने की सलाह दी गई थी. आयोग ने सचिव, एससी/एसटी विभाग, दिल्ली सरकार के साथ भी एक बैठक की. इसके बाद यह सुनिश्चित कराया गया कि नियमानुसार पीड़िता के परिवार को तत्काल मुआवजा दिया जायेगा.

भीख मांगकर गुज़ारा कर रहा परिवार
घटना स्थल यानी इस शमशान घाट के ठीक सामने पीर बाबा की दरगाह है, जहां पीड़ित का परिवार भीख मांगकर गुज़ारा करता है. चारों तरफ़ सैन्य प्रतिष्ठान हैं. चूंकि ये छावनी का इलाक़ा है. बस्ती में जिस घर में परिवार रहता है, उसमें एक पुरानी टूटी फूटी चारपाई, पुराने कपड़े और बर्तन पड़े थे. आसपास के लोग बताते हैं कि परिवार के लोग आम तौर पर कूड़ा चुनकर अपना जीवन यापन करते हैं. परिवार के सामने कोरोना की वजह से ख़ुद को जिंदा रखने की चुनौती आ गई, चूंकि सब कुछ बंद हो गया था. इसलिए जब चीज़ें फिर खुलीं, तो वो पीर बाबा की मज़ार पर भीख मांगकर गुज़ारा करने लगे.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज