अपना शहर चुनें

States

दिल्ली-नोएडा बॉर्डर सील : NBA ने लिखी सीएम को चिट्ठी, 17 मीडिया हाउस को मिली इजाजत

गौतमबुद्ध नगर जिला प्रशासन ने मंगलवार की रात दिल्ली-नोएडा सीमा को सील कर दिया था.
गौतमबुद्ध नगर जिला प्रशासन ने मंगलवार की रात दिल्ली-नोएडा सीमा को सील कर दिया था.

एनबीए (NBA) ने बुधवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से अनुरोध किया कि न्यूज चैनलों द्वारा जारी किए गए फोटो पहचान पत्र के आधार पर मीडियाकर्मियों को दिल्ली-नोएडा बॉर्डर पर आवागमन की अनुमति दी जाए.

  • Share this:
नई दिल्ली. न्यूज ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन (News Broadcasters Association) ने बुधवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) से अनुरोध किया कि न्यूज चैनलों द्वारा जारी किए गए फोटो पहचान पत्र के आधार पर मीडियाकर्मियों को दिल्ली-नोएडा बॉर्डर पर आवागमन की अनुमति दी जाए और विशेष पास होने की आवश्यकता से उन्हें छूट हो. बता दें कि गौतमबुद्ध नगर जिला प्रशासन ने मंगलवार की रात दिल्ली-नोएडा सीमा को सील कर दिया था.

गौतमबुद्ध नगर प्रशासन ने बुधवार को नोएडा और दिल्ली में स्थित मीडिया घरानों से अपने उन कर्मचारियों की जानकारी भेजने को कहा था जिन्हें कोरोना वायरस से निपटने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के दौरान दो शहरों के बीच आवागमन करने की जरूरत है.

17 मीडिया हाउस को मिला पास
इस बीच गौतमबुद्ध नगर के डीएम ने कहा कि 10 इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और 7 प्रिंट मीडिया हाउस को पास जारी किया जा चुका है. इसके साथ ही आज रात तक सभी पेंडिग रिक्वेस्ट निपटा दिए जाएंगे. उन्होंने बताया कि सभी मीडिया घरानों को पास जारी नहीं होने की वजह से 23 अप्रैल को मीडिया कर्मियों के लिए दिल्ली व नोएडा के बीच आवागमन आई कार्ड पर आधारित किया गया है. मीडिया कर्मी अपने संस्थान का आई कार्ड दिखाकर 23 अप्रैल को आवागमन कर सकते हैं. जबकि 24 अप्रैल से जिला प्रशासन द्वारा जारी किए गए पास पर ही मीडिया कर्मी जनपद गौतम बुध नगर से आवागमन कर सकते हैं. इसके अलावा समाचारपत्र ढोने वाले वाहनों को पास की जरूरत नहीं है. उन्हें बिना किसी रोक-टोक के गौतम बुद्ध नगर में प्रवेश दिया जाएगा.





एनबीए के अध्यक्ष रजत शर्मा ने कही ये बात
मुख्यमंत्री योगी को लिखे एक पत्र में एनबीए के अध्यक्ष रजत शर्मा ने मौजूदा चुनौतीपूर्ण समय में न्यूज चैनलों की भूमिका पर जोर दिया. शर्मा ने कहा, ‘‘कोविड-19 के प्रसार से संबंधित सूचनाओं और इस महामारी को रोकने के लिए सरकारी अधिकारियों के साथ-साथ नागरिक संस्थाओं के सदस्यों द्वारा उठाए गए कदमों की समय पर और तुरंत जानकारी देना बहुत जरूरी है.’’

उन्होंने कहा कि देशभर में लॉकडाउन चल रहा है और प्रिंट तथा इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को इससे छूट दी गई है. शर्मा ने कहा कि दिल्ली-नोएडा सीमा को 21 अप्रैल से पूरी तरह से सील कर दिया गया है और केवल वे लोग ही सीमा पार जा सकते हैं जिन्हें विशेष पास जारी किए गए हैं. उन्होंने कहा कि इस व्यवस्था से न्यूज चैनलों को कुछ गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है. दिल्ली-नोएडा सीमा बंद होने से अत्यधिक कठिनाई और बाधाओं का सामना करना पड़ रहा है.

शर्मा ने कहा, ‘‘बड़ी संख्या में कर्मचारियों और पत्रकारों को एक स्थान से दूसरे स्थान जाना पड़ता है और चूंकि यात्रा स्थान हमेशा पहले से तय नहीं होते हैं, कर्फ्यू पास जारी होने के समय स्थानों की पहचान करना और अन्य विवरण देना हमारे लिए बेहद मुश्किल साबित हो रहा है.’’

उन्होंने कहा कि शहर में कोई सार्वजनिक परिवहन सुविधा नहीं है इसलिए अधिकांश कर्मचारियों को कार्यालय लाने और कार्यालय से घर छोड़ने की सुविधा की जरूरत होती है. शर्मा ने कहा, ‘‘इन परिस्थितियों में यदि मीडियाकर्मियों को विशेष कर्फ्यू पास लेना जरूरी करना या अन्य पाबंदियां लगाई गई तो कर्मचारी कंपनी के वाहनों से यात्रा कैसे करेंगे और यह लॉकडाउन के दौरान न्यूज चैनलों के कामकाज को प्रभावित करेगा.’’

ये भी पढ़ें-

COVID-19: मौलाना साद ने जारी किया पत्र,बोले- Corona से ऊब चुके लोग करें यह काम

दिल्‍ली: नोएडा और गाजियाबाद बॉर्डर सील, वाहनों की लगी लंबी कतार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज