मरीज को नोएडा से वाराणसी ले जाने के लिए एंबुलेंस चालक ने वोल्‍वो बस से 5 गुना अधिक किराया वसूला, जांच के आदेश

सांकेतिक फोटो

कोरोना मरीज को नोएडा से वाराणसी तक ले जाने के लिए चालक ने एंबुलेंस के लिए वोल्‍वो बस से करीब पांच गुना अधिक किराया वसूला . इस मामले की शिकायत गाजियाबाद प्रशासन से की गई है. प्रशासन मामले की जांच करवा रहा है.

  • Share this:
    गाजियाबाद. कोरोना मरीज (corona patient) को नोएडा से वाराणसी ले जाने के लिए एंबुलेंस (ambulance) चालक ने वोल्‍वो बस से करीब 5 गुना अधिक किराया वसूला है. मरीज की जान बचाने के लिए परिजनों ने उस समय पूरा भुगतान कर दिया, लेकिन अब उसने गाजियाबाद प्रशासन से शिकायत की है. हालांकि, मामला गौतम बुद्ध नगर का है. डीएम गाजियाबाद (DM Ghaziabad) ने मामले की जांच सिटी मजिस्ट्रेट विपिन कुमार को सौंपी है.

    गाजियाबाद के राजनगर एक्सटेंशन में रहने वाली एक महिला ने डीएम राकेश कुमार सिंह को एंबुलेंस चालक द्वारा अधिक किराया लेने की शिकायत की है. महिला ने बताया कि अप्रैल में उनके देवर की तबीयत खराब हो गई थी. जांच में कोरोना पॉजिटिव निकला. गाजियाबाद और नोएडा में भर्ती कराने के लिए कई अस्पतालों में संपर्क किया गया, मगर कहीं भी बेड नहीं मिला. इसके बाद वाराणसी के एक अस्पताल में भर्ती कराने की व्‍यवस्‍था की गई. वहां तक मरीज को ले जाने के लिए नोएडा से एक एंबुलेंस बुक की गई.

    परिजन एडवांस लाइफ सपोर्ट सिस्टम वाली एम्बुलेंस से मरीज को वाराणसी ले गए. महिला का आरोप है कि वाराणसी तक जाने के लिए एम्बुलेंस चालक ने उनसे 500000 रुपये किराए के रूप में लिए हैं. इसी बीच शासन ने एम्बुलेंस के रेट तय कर दिए. परिजन एम्बुलेंस चालक से मिलकर प्रशासन से शिकायत करने की बात कही. इस पर चालक ने 100000 रुपये वापस कर दिए. डीएम को दी गई शिकायत के आधार पर वाराणसी तक एंबुलेंस 816 किमी. चली, आना और जाना दोनों जोड़ने पर कुल 1632 किमी एंबुलेंस चली है.

    ये तय किए रेट
    एंबुलेंस चालकों की मनमानी रोकने के लिए उत्‍तर प्रदेश शासन ने एंबुलेंस के रेट तय किए हैं. इसमें अलग-अलग श्रेणी की एंबुलेंस के अलग-अलग रेट तय हैं. इसमें सबसे महंगा एडवांस लाइफ सपोर्ट एंबुलेंस का किराया था, जिसके रेट डॉक्टर सहित 10 किमी. तक 4000 रुपये तय हैं. 10 किमी. से आगे के लिए 75 रुपये प्रति किमी. तय हैं. अगर सरकार द्वारा तय रेट से भी किराया लिया जाए तो करीब 125000 रुपए ही होते हैं.

    वोल्‍वो से पांच गुना अधिक किराया लिया
    इस संबंध में बस एंड कार ऑपरेटर्स कंफेडरेशन ऑफ इंडिया (सीएमवीआर) के चेयरमैन गुरमीत सिंह तनेजा बताते हैं कि सामान्‍य तौर पर बड़ी एंबुलेंस का किराया 18 से 20 रुपए प्रति किमी होता है. वहीं, वोल्‍वो बस का किराया प्रति किमी 65 रुपए होता है. पीड़ित से लिया गया किराया करीब 306 रुपए प्रति किमी है. इस तरह वोल्‍वो बस से करीब पांच गुना अधिक किराया एंबुलेंस चालक ने लिया है.

    डीएम ने जांच सिटी मजिस्ट्रेट को सौंपी
    डीएम गाजियाबाद राकेश कुमार सिंह ने कहा कि इस संबंध में मेरे पास शिकायत आई है, मामला गौतमबुद्ध नगर का है, लेकिन पीड़िता गाजियाबाद की हैं. इसलिए जांच सिटी मजिस्‍ट्रेट विपिन कुमार को सौंपी गई है. जांच के बाद इसकी रिपोर्ट गौतमबुद्ध नगर प्रशासन को भेज दी जाएगी. गौतमबुद्ध नगर का मामला होने की वजह से कार्रवाई का अधिकार गौतमबुद्ध नगर प्रशासन को है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.